खूब ठहाके लगाएं ताकि ठहर जाएं दुश्वारियां

2018-05-06T07:00:57Z

हंसने से दिमाग के न्यूरो केमिकल्स हो जाते हैं एक्टिव

बॉडी में एन्डोर्फिन हार्मोन निकलता है जो मूड फ्रेश करता है।

यह हार्मोन बॉडी को फिट और बेहतर फील कराता है।

70 फीसदी दवाइयां और 30 फीसदी लाफ्टर थेरेपी से डिप्रेशन का ट्रीटमेंट कर रहे डॉक्टर्स

एक साथ हाथ ऊपर करके जोर-जोर से हंसने की प्रक्रिया को लाफ्टर थेरेपी कहते हैं

लाफ्टर थेरेपी को तनाव दूर करने के लिए सबसे कारगर माना जाता है।

इससे ब्लड प्रेशर, हाइपरटेंशन, अल्सर, आर्थराइटिस, स्ट्रोक, डायबिटीज और दिल की बीमारियों का असर कम होता है।

हंसने से आत्मविश्वास बढ़ता है, व्यक्ति मानसिक स्तर पर मजबूत होता है।

लाफ्टर थेरेपी से शरीर में एंटी-वायरल व इन्फेक्शन को रोकने वाली कोशिकाएं बढ़ जाती हैं।

करीब 20 मिनट तक खुलकर हंसने से शरीर में ब्लड सर्कुलेशन तेजी से बढ़ता है। धमनियों में फैलाव आता है। यह हार्ट के लिए सबसे बेहतर एक्सरसाइज है।

10 मिनट तक ठहाके लगाने से दो घंटे तक दर्द से राहत मिलती है। इससे नींद भी अच्छी आती है।

कमर के दर्द से छुटकारे के लिए रोजाना करीब 2 से ढाई घंटे हंसना प्रभावी विकल्प है।

करीब 15 मिनट तक धीमी हंसी हंसने से सांस लेने और छोड़ने की एक्सरसाइज होती है।

इससे शरीर में ऑक्सीजन का संचार होता है और देर तक एनर्जी गेन होती है।

रोज एक घंटा हंसने से 400 कैलोरी ऊर्जा की खपत होती है, जिससे मोटापा कम किया जा सकता है।

रोजाना करीब एक घंटे तक मुस्कुराने से खूबसूरती भी बढ़ती है। चेहरे की मांसपेशियों की एक्सरसाइज होती है और चेहरे पर जल्दी झुर्रियां नहीं पड़तीं।

रोजाना सुबह 15 मिनट जोर-जोर से हंसने से डाइजेस्टिव सिस्टम सुचारु रूप से काम करता है।

एक शोध के अनुसार ऑक्सीजन की उपस्थिति में कैंसर कोशिका और कई हानिकारक बैक्टीरिया एवं वायरस नष्ट हो जाते हैं। हंसने से ऑक्सीजन अधिक मात्रा में मिलती है और इम्यून सिस्टम मजबूत होता है।

20 केस रोजाना पहुंच रहे मेडिकल कॉलेज के मानसिक रोग विभाग में

80 फीसदी केस डिप्रेशन के पहुंच रहे हैं।

20 से 40 वर्ष की आयुवर्ग के लोग सबसे ज्यादा पहुंच रहे

70 से 100 लोग मानसिक अवसाद से पीडि़त रोजाना पहुंच रहे जिला अस्पताल

70 प्रतिशत केस बदलती लाइफ स्टाइल से होने वाले स्ट्रेस से जुड़े

Meerut। आज की भागदौड़ भरी लाइफ स्टाइल में हंसी ठहाके हेल्थ टॉनिक का काम करते हैं। ये ठहाके आपको न सिर्फ गंभीर बीमारियों से दूर रखते हैं साथ ही सकारात्मक ऊर्जा का भी संचार करते हैं। जिला अस्पताल के साइकेट्रिस्ट डॉ। कमलेंद्र किशोर बताते हैं कि हंसने से शरीर की सभी मांसपेशियां काम करने लगती हैं। तनाव भी दूर होता है। लाफ्टर थेरेपी से हार्ट और दूसरे बॉडी पा‌र्ट्स ठीक रहते हैं। फेफड़ों में हवा और खून में ऑक्सीजन का स्तर बेहतर होता है, लिहाजा हंसना जरूरी है।

तनाव, दुख और मन की उलझनों को दूर करने के लिए हंसना सबसे बेहतर एन्टीडोट है। इससे शरीर और दिमाग का संतुलन बनता है। हम माइल्ड केसेज में पूरा ट्रीटमेंट लाफ्टर थेरेपी से ही करते हैं जबकि सीवियर केसेज में 30 प्रतिशत लाफ्टर थेरेपी का सहारा लिया जा जाता है।

डॉ। तरुणपाल, मनोवैज्ञानिक, मेडिकल कॉलेज

लाफ्टर थेरेपी हर उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद है और इसे सप्ताह में एक बार सभी को जरूर लेना चाहिए। यह लोगों को मेंटली और फिजिकली फिट रखने में काफी हेल्पफुल होता है। हंसी से कारगर और तेजी से इफेक्ट करने वाली दवा दूसरी नही हैं।

डॉ। विभा नागर, मनौवेज्ञानिक व काउंसलर, जिला अस्पताल

दो पल की हंसी देती है सुकून: पापुलर मेरठी

इस मर्तबा भी आए हैं नंबर तेरे तो कम, रुसवाईयों का क्या मेरी, दफ्तर बनेगा तू,

बेटे के सर पर चपत देकर बाप ने कहा, फिर फेल हो गया है मिनिस्टर बनेगा क्या तू

समूची दुनिया को अपनी शायरी से लोटपोट कराने वाले शहर के प्रसिद्ध शहर डॉ। सैयद अजाजुददीन शाह उर्फ पापुलर मेरठी कहते हैं कि आज की तनावभरी जिंदगी में दो पल की हंसी आपको सुकून देती है। इस तनावभरी जिंदगी में यदि हम दो पल के लिए भी किसी का गम या परेशानी कम कर सकें तो वही मेरे लिए असली खुशी है।

हंसी के बहाने ढूंढें

पापुलर मेरठी कहते हैं कि परेशानियां और तनाव आज के जीवन का हिस्सा बन चुका है, लेकिन अपने चेहरे की मुस्कान और हंसी को कम ना होनें दे हंसने के बहाने ढूंढें और जब भी मौका मिले खुल कर हंसे।

न बढ़ने दें दूरियां

आज के दौर में बढ़ती दूरियों ने भी आम लोगों को अपनों से दूर कर दिया है। पापुलर मेरठी कहते हैं काम की आपाधापी में एकल परिवार में सबसे ज्यादा डिप्रेशन के केस सामने आ रहे हैं। लोगों को याद नही है कि परिवार के साथ बैठकर कब खुलकर बातचीत या हंसी मजाक किया था। धीरे धीरे हम उस तनाव के अंधेरे में जा रहे हैं जिससे बचना बहुत जरुरी है। इसलिए हंसना और दूसरों को हंसाना बहुत जरुरी है। हंसने से कोई नुकसान नही होता बल्कि खुशी मिलती है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.