यूपी पुलिस की पैनी नजर, इन बाहुबलियों के शस्त्र लाइसेंस होंगे कैंसिल

Updated Date: Sun, 25 Aug 2019 10:47 AM (IST)

बाहुबलियों व कुख्यात अपराधियों पर यूपी पुलिस ने नजर टेढ़ी कर ली है । डीजीपी ओपी सिंह ने उन्हें हासिल लाइसेंसी शस्त्रों का ब्योरा जुटाने का निर्देश दिया है ।


- मुख्तार के पास नौ और अतीक के पास चार लाइसेंसी शस्त्र- डीजीपी ने कई अपराधियों के शस्त्रों का ब्योरा जुटाने का दिया निर्देशलखनऊ (ब्यूरो)। अपने इर्द-गिर्द लाइसेंसी असलहों का जमघट लेकर चलने वाले बाहुबलियों व कुख्यात अपराधियों पर यूपी पुलिस ने नजर टेढ़ी कर ली है । डीजीपी ओपी सिंह ने उन्हें हासिल लाइसेंसी शस्त्रों का ब्योरा जुटाने का निर्देश दिया है । डीजीपी के मुताबिक शासन स्तर पर पैरवी कर अपराधियों के शस्त्र लाइसेंस निरस्त कराए जाएंगे । मुख्तार और अतीक की मुश्किल बढऩा तय
यूपी पुलिस की इस कवायद से बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी व पूर्व सांसद अतीक अहमद की मुश्किलें और बढऩे वाली हैं । इन दिनों एक केस में पंजाब की जेल में निरुद्ध मुख्तार अंसारी समेत कई अन्य के लाइसेंसी शस्त्रों का ब्योरा निकलवाया गया है । इस सूची में सबसे ऊपर मुख्तार अंसारी ही हैं । डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि मुख्तार के पास नौ लाइसेंसी शस्त्र हैं । पूर्व सांसद अतीक के पास चार लाइसेंसी शस्त्र हैं । बताया गया कि कुख्यात सुंदर भाटी, अमित भाटी, सुशील मूंछ समेत नौ अपराधियों के पास एक से अधिक लाइसेंसी शस्त्र हैं । डीजीपी मुख्यालय स्तर से अब इनके लाइसेंसी शस्त्र लाइसेंस कैंसिल कराने की कसरत होगी ।


सीबीआई कर रही जांच
पूर्व सांसद अतीक अहमद इन दिनों अहमदाबाद की जेल में बंद हैं । लखनऊ के कारोबारी को अगवा कर देवरिया जेल में पीटने व जबरन संपत्ति के दस्तावेजों पर हस्ताक्षर कराने के बहुचर्चित मामले में अतीक अहमद पर सीबीआई ने शिकंजा कसा है । अपराधियों को हासिल लाइसेंसी शस्त्रों के दुरुपयोग की बातें भी सामने आई हैं । पुलिस इसकी भी गोपनीय जांच कर रही है ।lucknow@inext.co.in

Posted By: Shweta Mishra
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.