Lootcase Movie Review: पुराने ढर्रे पर ही बनी लूट केस, मिले इतने स्टार

Updated Date: Tue, 04 Aug 2020 04:58 PM (IST)

कुछ-कुछ देल्ही बेली याद है क्या? आमिर खान निर्मित फिल्म काफी चर्चित रही थी। समझ लीजिये लूट केस का नैरेटिव कुछ वैसा ही है। एक प्रिटिंग प्रेस में काम करने वाले लड़के के हाथ में सूटकेस लग जाती है पैसों से भरी। फिर क्या-क्या खेल होते हैं। यही है कहानी।

फिल्म : लूटकेस

कलाकार : कुणाल खेमू, रसिका दुग्गल, गजराज राव, रणवीर शोरी,

निर्देशक : राजेश कृष्णन

रेटिंग : ढाई स्टार

ओटीटी चैनल : डिज्नी हॉट स्टार

कुछ-कुछ देल्ही बेली याद है क्या? आमिर खान निर्मित फिल्म, काफी चर्चित रही थी। समझ लीजिये लूट केस का नैरेटिव कुछ वैसा ही है। एक प्रिटिंग प्रेस में काम करने वाले लड़के के हाथ में सूटकेस लग जाती है, पैसों से भरी। फिर क्या-क्या खेल होते हैं। यही है कहानी। दिलचस्प किरदार हैं। कुछ संवाद भी अच्छे हैं। मनोरंजन करते हैं। लेकिन इसके बावजूद कांसेप्ट और ओवर ऑल लिहाज से फिल्म कन्विंस नहीं कर पाती है। पढ़ें पूरा रिव्यु

क्या है कहानी
एक प्रिटिंग प्रेस में काम करने वाले लड़के नंदन ( कुणाल खेमू) के हाथ सूटकेस लग जाता है। वह अपनी मीडिल क्लास जिन्दगी से परेशान है। अपनी पत्नी (रसिका दुग्गल) के अपने सपने हैं और वह लग्जरी लाइफ चाहती है। नंदन अब वह सूटकेस कैसे बचाता है। यहीं कहानी है। नेता। पुलिस। गुंडे सब उसके पीछे हैं।

View this post on Instagram

Mera naam 🥭 nahin hai.. mera naam Nandan hai! Aur dekhiye meri yeh not-so-aam loot story in #Lootcase releasing on 31st July. Watch the trailer now. @gajrajrao @rasikadugal @ranvirshorey #VijayRaaz @rajoosworld @foxstarhindi @DisneyPlusHotstarVIP @sodafilmsindia @saregama_official

A post shared by Kunal Kemmu (@khemster2) on Jul 18, 2020 at 7:47am PDT

क्या है अच्छा
जबरदस्त कॉमेडी सिचुएशन हैं। जो कि मजेदार हैं। फिल्म का डायरेक्शन और किरदारों की कॉमिक टाइमिंग मनोरंजन देती है। ऐसे समय में जब ओटी टी पर ज्यादातर सस्पेंस और सेक्स संबंधित शोज आ रहे हैं। ऐसे में कॉमिक फिल्में कम आ रही हैं। इसे बेसिर पैर की कॉमेडी नहीं कहेंगे। ये एक अच्छी बात है।

क्या है बुरा
कुछ सिचुएशन कई बार पहले भी हिंदी फिल्मों में देखे गये हैं। उस आधार पर कुछ नया नहीं है। फिल्म की अवधि छोटी की जा सकती थी।

अदाकारी
कुणाल ने लंबे समय के बाद किसी फिल्म में अकेले बाजी मार ली है। रसिका को अच्छा ब्रेक मिला है। गजराज राव अब एक तरह के अंदाज़ में बंधने लगे हैं। रणवीर ने अच्छा काम किया है।

वर्डिक्ट
हल्के फुल्के मनोरंजन के लिए देखी जा सकती है फिल्म

Review By: अनु वर्मा

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.