अब देशी भी लेंगे 'महाराजा' का मजा

2017-05-06T07:41:01Z

-महाराजा एक्सप्रेस में पहली बार डोमेस्टिक टूरिस्ट को सफर करने का मिलेगा मौका

--IRCTC ने मॉनसून स्पेशल नाम से दो पैकेज किया जारी

VARANASI

राजधानी, शताब्दी के बाद किसी ट्रेन में जर्नी करने की तमन्ना होती है तो उसका नाम महाराजा एक्सप्रेस है। दुनिया की बेहतरीन ट्रेन्स में शुमार महाराजा एक्सप्रेस में अब देशी टूरिस्ट को भी एंट्री मिलेगी। डोमेस्टिक टूरिस्ट की डिमांड को पूरा करने के लिए आईआरसीटीसी ने खास प्लान बनाया है। मॉनसून स्पेशल में डोमेस्टिक टूरिस्ट इंडिया के विभिन्न प्लेसेज की सैर कर सकेंगे। इसमें साउथर्न सोजोर्न और साउथर्न ज्वेल्स दो कैटगरी है, जो पश्चिम और दक्षिण भारत के प्रमुख स्थलों को कवर करेगी। इसके लिए www.the-maharajas.com पर ऑनलाइन बुकिंग या आईआरसीटीसी से सीधे बुकिंग कराया जा सकता है।

पहली बार देखेंगे अलग दुनिया

देश के ज्यादातर लोग ट्रेन की जर्नी किए होंगे, लेकिन इंडिया में ही एक अलग ट्रेन चलती है इससे वे वाकिफ नहीं हैं। जिसमें पूरी अलग दुनिया है। सीआरएम अश्वनी श्रीवास्तव ने बताया कि महाराजा एक्सप्रेस 88 मेहमानों की क्षमता के साथ, प्रत्येक पहलू में अन्य लक्जरी ट्रेंस से अलग है। जिसमें केबिन का अहसास, खास तरह के भोजन, मेहमानों के लिए भ्रमण व विशेष आयोजित प्रोग्राम। इस ट्रेन में ऑन-बोर्ड वॉटर फिल्टरेशन सिस्टम, स्पेसियस डिजाइनर केबिन, खास तरह का बेड, दो बार विथ लाउंज, दो रेस्तरां और पढ़ने के लिए लाइब्रेरी व ट्रेंड कर्मचारियों की टीम शामिल है। जो व‌र्ल्ड लेवल के मानकों को पूरा करता है।

साउथर्न सोजोर्न- मानसून स्पेशल पैकेज ख्ब् जून को मुंबई से प्रस्थान करेगी और त्रिवेन्द्रम में समाप्त होने से पहले, हम्पी, मैसूर, कोचीन, एलेप्पी की सैर करायेगी। यह आठ दिन / सात रातों की जर्नी होगी।

साउथर्न ज्वेल्स -मानसून स्पेशल एक जुलाई को त्रिवेंद्रम से रवाना होकर मुंबई में चेट्टीनाद, महाबलीपुरम, मैसूर, हैम्पी से होते हुए गोवा में समाप्त होगी। यह भी आठ दिन / सात रातों की होगी।

-प्रत्येक डेस्टिनेशन पर स्मारकों और दर्शनीय प्लेसेज के दौरे के अलावा, कोचीन में पारंपरिक सांस्कृतिक प्रदर्शनों का आनंद लेने का मौका मिलेगा, कॉयर फैक्ट्री की यात्रा और एलेप्पी में दोपहर के भोजन के साथ पैसेंजर्स क्रूज का आनंद लेंगे, पारंपरिक चेटिनाद फूड डेमो शामिल है।

सन् ख्0क्0 में हुई थी शुरुआत

महाराजा एक्सप्रेस, इंडियन रेलवे द्वारा संचालित लक्जरी ट्रेन, प्राचीन काल की शाही यात्रा की याद दिलाती है। इस ट्रेन की ख्0क्0 में शुरूआत हुई थी। यह ट्रेन रॉयल स्कॉटमैन्स और ओरिएंटल एक्सप्रेस की तुलना के साथ व‌र्ल्ड की लक्जरी ट्रेन बन गई है। सन् ख्0क्ख् के बाद से पांच सालों के लिए प्रतिष्ठित लक्जरी ट्रेन ऑफ द व‌र्ल्ड अवॉर्ड प्राप्त कर चुकी है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.