कोटा में 100 बच्चों की मौत : मायावती ने प्रियंका पर कसा तंज, अच्छा होता कि वहां भी माताओं से जाकर मिलती

2020-01-02T15:12:38Z

यूपी में 14 महीने के बच्चे के उसके पैरेंट्स से अलग होने के मामले में योगी सरकार को घेर रही प्रियंका गांधी अब राजस्थान में 100 बच्चों की मौत के मामले में घिर गई हैं। मायावती ने कांग्रेस की महिला राष्ट्रीय महासचिव तंज कसा कि अच्छा होता कि वह कोटा की माताओं से भी जाकर मिलतीं।

लखनऊ (आईएएनएस)। एक ओर जहां कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा वाराणसी में एक बच्चे को उसके परिजनों से अलग करने पर योगी सरकार पर हमला कर रही हैं वहीं दूसरी ओर वहीं बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती ने उनको ही घेर लिया है। मायावती ने गुरुवार को प्रियंका पर कांग्रेस शासित राजस्थान के कोटा स्थित अस्पताल में कई बच्चों की मौत पर ध्यान नहीं देने पर सवाल किए। हालांकि मायावती ने सीधे प्रियंका गांधी का नाम न लिखते हुए कांग्रेस की महिला राष्ट्रीय महासचिव लिखा है।

बच्चों की मौत पर कांग्रेस महासचिव का चुप रहना दुखद
मायावती ने ट्वीट की सीरीज चलाई है। मायावती ने अपने ट्वीट में कहा कि कांग्रेस शासित राजस्थान के कोटा जिले में हाल ही में लगभग 100 मासूम बच्चों की मौत पर कांग्रेस महासचिव का चुप रहना दुखद है। अच्छा होता कि वह उत्तर प्रदेश की तरह उन गरीब पीड़ित माताओं से भी जाकर मिलतीं, जिनकी गोद उनकी पार्टी की सरकार की लापरवाही के कारण उजड़ गई हैं।
यूपी में पीड़ितों के परिवार से मिलना कोरी नाटकबाजी होगी
बसपा प्रमुख मायावती ने एक अन्य ट्वीट में लिखा कि यदि कांग्रेस की महिला राष्ट्रीय महासचिव राजस्थान के कोटा में जाकर मृतक बच्चों की माताओं से नहीं मिलती हैं तो यहां अभी तक किसी भी मामले में उत्तर प्रदेश के पीड़ितों के परिवार से मिलना केवल इनका यह राजनैतिक स्वार्थ व कोरी नाटकबाजी ही मानी जाएगी। इससे उत्तर प्रदेश की की जनता को सतर्क रहना है।
कोटा में 100 बच्चों की मौत पर कोई सही कदम नहीं उठाया
मायावती ने यह भी कहा कि राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार ने 100 बच्चों की मौत पर कोई सही कदम नहीं उठाया है। वह व उनकी सरकार अभी भी उदासीन व गैर-जिम्मेदार बनी हुई है। प्रियंका गांधी ने बुधवार को वाराणसी के एक 14 महीने के बच्चे का मुद्दा उठाया था जिसके माता-पिता को नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए अरेस्ट किया गया था।


Posted By: Shweta Mishra

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.