अनलकी रहे आशीष लॉटरी से मीरा बनीं डिप्टी मेयर

2019-07-21T11:00:37Z

-आशीष सिन्हा और मीरा देवी को मिले बराबर मत, फिर लॉटरी से हुआ फैसला

PATNA:एक महीने के हाई वोल्टेज ड्रामे के बाद शनिवार को डिप्टी मेयर पद के लिए वार्ड 72 की मीरा देवी के नाम पर मुहर लग गई। हालांकि काफी उथल पुथल के बाद मीरा देवी का चयन इस पद के लिए हो पाया। अब मेयर के बाद डिप्टी मेयर की सीट पर भी महिला के आ जाने से महिला पार्षदों ने खुशी जताई है। बता दें कि पटना नगर निगम में 19 जून को मेयर का दूसरा कार्यकाल पूरा होने के बाद निगम में राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ गई और अगले ही दिन 20 जून को कई पार्षदों ने विनय कुमार पप्पू के खिलाफ अविश्वास जताकर उन्हें पद से हटाने की डिमांड कर दी। 25 जून को विनय कुमार पप्पू को पद से हटाया गया। 40 पार्षदों ने विनय कुमार पप्पू के खिलाफ मतदान किया था।

डीएम की अध्यक्षता में चुनाव

पटना के डिप्टी मेयर का चुनाव डीएम कुमार रवि की अध्यक्षता में डीएम कार्यालय में हुआ। सबसे पहले दोनों उम्मीदवारों वार्ड नंबर 38 के पार्षद आशीष सिन्हा और वार्ड 72 की पार्षद मीरा देवी ने डिप्टी मेयर के लिए नामांकन किया। स्क्रूटनी में दोनों के पर्चे सही पाए गए। फिर नाम वापस लेने की औपचारिकता पूरी की गई।

आशीष के काम नहीं आया बीजेपी का साथ

चर्चा थी कि डिप्टी मेयर के उम्मीदवार आशीष सिन्हा ने कुर्सी के लिए सालों से साथ देने वाले राजद का हाथ छोड़ कर बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की। लेकिन उनका ये दांव भी पार्षदों को अपनी तरफ नहीं खींच सका।

षडयंत्रकारियों की हार हुई है। ये जीत सत्य की है। हमने पूरी तरह से इनका समर्थन किया है। इनका शासन बहुत अच्छा होगा।

-जीत कुमार, पार्षद, वार्ड-13

महिला की जीत हुई है ये खुशी की बात है। नगर निगम की बागडोर महिलाओं के हाथ में है अब पटना का विकास होगा।

-प्रभा देवी, पार्षद, वार्ड 23


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.