MillennialsSpeak बरेली में #RaajniTEA स्टार्टअप इंडिया अच्छा पर उसका लाभ ले पाना मुश्किल भरा

2019-03-06T09:04:38Z

आज की डिबेट:-फ्यूचर इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी शाहजहांपुर रोड फरीदपुर बरेली, समय- सुबह 11 बजे

BAREILLY@inext.co.in
BAREILLY: देश के मुद्दों की बात की जाए तो अब पुरानी शिक्षा प्रणाली में बदलाव की बेहद जरूरत है। क्योंकि बेसिक शिक्षा की हकीकत किसी से छिपी नहीं है। ग्राउंड लेवल पर आज भी बदलाव नहीं दिख रहा है। वहीं महिला सुरक्षा के लिए बनाए गए कानून को प्रभावी बनाए जाने की जरूरत है। ट्यूजडे को को कुछ इसी तरह के मुददों पर कुदेशिया फाटक नियर मंथन कम्प्टीशन क्लासेज पर चर्चा हुई। मौका था दैनिक जागरण आई नेक्स्ट और रेडियो सिटी की तरफ से आयोजित राजनी-टी डिबेट का। स्टूडेंट्स ने स्वास्थ्य, शिक्षा, बेरोजगारी और करप्शन के साथ आतंकवाद, ब्लैकमनी जैसे अहम मुद्दों पर खुलकर अपने विचार रखे।

वादों पर उतरे खरा

डिबेट के शुरू हुई तो पंकज गंगवार ने कहा कि हमारा देश कृषि प्रधान देश है। किसान फसल तो उगा लेता है लेकिन उसके बाद उसकी फसल का उचित रेट उसे नहीं मिल पाता है.सभी पार्टियां सरकार बनाने से पहले तो बड़ी-बड़ी बातें करती हैं। किसानों के लिए भी बड़ी-बड़ी घोषणाएं की जाती हैं, लेकिन उन पर अमल कोई भी सरकार नहीं करती है। इसी बीच मोहित ने कहा कि सरकार कोई भी बने लेकिन किसानों के लिए उसकी फसल का मूल्य निर्धारित कर उसकी खरीद करे। इसी बीच किरन ने कहा कि देश से करप्शन खत्म होना चाहिए। करप्शन खत्म नहीं होने से देश विकास में पिछड़ रहा है और पब्लिक परेशान हो रही है। शिकायत करने पर करप्ट लोग जुगाड़ लगाकर बच निकलते हैं। इसी कारण करप्शन करने वालों को कारवाई का भय भी नहीं रहता है। तभी कौशलेन्द्र ने कहा कि यूथ को रोजगार मिले और कुछ नहीं। रोजगार नहीं मिलने से बेरोजगारी बढ़ी हुई है।
वीमेन सिक्योरिटी पर हो काम
डिबेट में मंजू ने कहा कि वीमेन सिक्योरिटी के लिए सरकार को काम करना चाहिए। वीमेन आज भी घर से बाहर निकलती में सहज महसूस नहीं करती है। इसी बीच प्रदीप गंगवार ने कहा कि यह बात सही है, लेकिन इसके लिए सरकार के साथ-साथ पुरुषों को भी मानसिकता बदलने की जरूरत है। जब तक समाज नहीं बदलेगा तब तक लोगों की मानसिकता नहीं बदलेगी। इसके साथ हमारे देश की सुरक्षा भी एक अहम मुद़्दा है। इसके लिए भी सरकार को ठोस कदम उठाने की जरूरत है। जिसके कि सीमा पर बार-बार हालात खराब न हो।

वादे कम हो, काम अधिक

रोहिताश ने कहा कि यूथ को रोजगार की जरूरत है, लेकिन इसके लिए जनसंख्या नियंत्रण होनी चाहिए। जब तक जनसंख्या नियंत्रण नहीं होगी तब तक रोजगार कोई सरकार उपलब्ध नहीं करा सकती है। जनसंख्या नियंत्रित करने के लिए सरकार को ठोस कदम उठाने की जरूरत है।
जॉब निकले तो भर्ती भी हो
पंकज कुमार ने कहा कि हमारे युवाओं के लिए जॉब तो निकलते हैं, लेकिन वह कई सालों तक प्रोसेस में ही फंसी रहती है। इसके लिए जॉब निकले तो उस पर सलेक्शन भी तुरंत होना चाहिए। सरकार इसके लिए पहले से ही एक खाका तैयार करे। कई बार होता है, एक सरकारी जॉब निकालती है, लेकिन तब तक दूसरी सरकार आ जाती है। दूसरी सरकार पहले वाली वैकेंसी को कैंसिल कर नई वैकेंसी निकालकर यूथ से पैसे वसूलती है। सरिता ने कहा कि सरकार कोई आए जाए लेकिन यूथ के भविष्य के साथ खिलवाड़ न करे। जो सरकार घोषणाएं कम कर यूथ के लिए काम करेगी यूथ का साथ उसी को मिलेगा।
कड़क मुद्दा
डिबेट में एजुकेशन की पुरानी प्रणाली बदलने और महिला सिक्योरिटी का मुद्दा छाया रहा। स्टूडेंट्स का कहना था कि जब तक हमारे देश की पुरानी शिक्षा प्रणाली को बदला नहीं जाएगा, तब तक बेरोजगारी कम नहीं होगी। इसके लिए शुरुआत से ही इंप्लीमेंट करने की जरूरत है। इन मुद्दों पर सरकार को बदलाव करना चाहिए। बदलाव करने के बाद ही परिणाम दिखेंगे।
सतमोला खाओ कुछ भी पचाओ
स्टूडेंट्स का कहना है कि हमारे देश कृषि प्रधान देश तो है लेकिन सबसे परेशान भी किसान है। जब भी कोई सरकार आती है तो किसानों के लिए बड़ी-बड़ी घोषणाएं तो होती हैं, लेकिन हकीकत में किसान को उसकी फसल का सही मूल्य तक नहीं मिल पाता है।
मेरी बात
सरकार महिला सुरक्षा की बात करती है। महिलाओं की सुरक्षा तब तक नहीं हो सकती है, जब तक हमारे समाज में पुरुषों की मानसिकता नहीं बदलेगी। सरकार को भी लोगों को अवेयर करना चाहिए जिससे महिलाएं हमारे देश में सुरक्षित हों।

 

var url = https://www.facebook.com/inextlive/videos/1057281691145789;var type = facebook;var width = 100%;var height = 360;var div_id = playid61;playvideo(url,width,height,type,div_id);


रोहिताश
-महिला सुरक्षा के लिए सरकार ने जो बनाए हैं, उन्हें और सख्त करने की जरूरत है। साथ ही पुरुषों को भी महिलाओं के प्रति अपनी मानसिकता चेंज करने की जरूरत है।
मूंजू गंगवार
--------------------------
-देश का चाहें यूथ हो या फिर कोई बुजुर्ग। सबसे पहले हम लोगों को देश की सिक्योरिटी को लेकर चिंतित होना चाहिए। जब हमारा देश सुरक्षित होगा तभी हम और हमारा समाज सुरक्षित होगा।
किरन गंगवार
-----------------
करप्शन हमारे यहां सरकारी कर्मचारियों की मानसिकता में भर गया है। कहीं पर कोई काम कराने जाओ तो पहले रिश्वत मांगी जाती है। इसे सरकार को खत्म करना चाहिए।
पंकज
---------------------
-स्टार्टअप इडिया सरकार ने चलाई तो है, लेकिन उसका लाभ लेना मुश्किल भरा है। इसको आसान बनाया जाना चाहिए, ताकि सभी उसका लाभ ले सके।
मोहित गंगवार
=----------------------
कोई भी नेता हो वह इलेक्शन के पहले तो पब्लिक के बीच जाता है और वोट मांगता है अपने मुद्दे गिनाता है, लेकिन इस बार ऐसा नेता नहीं चाहिए जो जुमलेबाजी कर गायब हो जाए।
प्रदीप
------------------
-हमारे देश से करप्शन को खत्म करना चाहिए। करप्शन से देश आगे नहीं बढ़ सकता है। इससे हमारे देश का नुकसान होता है, इसीलिए हम सभी को इसे खत्म करने में सहयोग करना चाहिए।
कौशलेन्द्र सिंह
---------------------
-हमारी देश में पहले वाली ही शिक्षा प्रणाली चली आ रही है, जो पहले थी। जब हर क्षेत्र में बदलाव हो रहा है तो एजुकेशन क्षेत्र में बदलाव क्यों नहीं किया जा रहा है।
पंकज कुमार
----------------------
-सरकार कोई भी आए, लेकिन देश की सिक्योरिटी के लिए काम करने वाली हो। आने वाली सरकार देश से आतंकवाद को जड़ से खत्म करने वाली हो, क्योकि अब आतंकवाद का खात्मा जरूरी है।
सरिता
-----------------------


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.