MillennialsSpeak #RaajniTEA में यूथ ने अावाज बुलंद की सरकार को दूर करनी होगी आतंकवाद और बेरोजगारी

2019-02-19T11:15:09Z

दैनिक जागरण आईनेक्स्ट मिलेनियल्स स्पीक जनरल इलेक्शन 2019 के चौथे दिन रविवार को डीजे आईनेक्स्टने लालबाग स्थित अभिषेक टूर एंड ट्रेवल्स में मौजूद लोगों से यूथ की राय जानी

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW: दैनिक जागरण आईनेक्स्ट मिलेनियल्स स्पीक जनरल इलेक्शन 2019 के चौथे दिन रविवार को डीजे आईनेक्स्ट के रिपोर्टर ने लालबाग स्थित अभिषेक टूर एंड ट्रेवल्स में मौजूद लोगों से जैसे ही वोटिंग को लेकर उनके मुद्दे के बारे में पूछा तो सभी ने बड़ी बेबाकी से अपना जवाब दिया. किसी ने आतंकवाद को सबसे बड़ा मुद्दा बताया तो किसी ने कहा कि जो उनकी प्रॉब्लम को दूर करेगा वह उसी को अपना बहुमूल्य वोट देंगे. चर्चा में आतंकवाद, बेरोजगारी, बिजनेस को लेकर गर्मागर्म बहस हुई.

आतंकवाद को जड़ से मिटाना है
अभी डीजे आईनेक्स्ट के रिपोर्टर सामूहिक रूप से इलेक्शन के मुद्दे पर बोल ही रहे थे कि अचानक बिजनेसमैन अमित मिश्रा बोल उठे कि सरकार को आतंकवाद को जड़ से मिटाना ही होगा. सरकार को आतंकवाद फैलाने वालों और उनकी मदद करने वाले देशद्रोहियों के खिलाफ सख्त कदम उठाना चाहिए. वैसे तो इलेक्शन को लेकर कई मुद्दे हैं, जिसपर मैं वोट दूंगा, लेकिन इस समय यही सबसे बड़ा मुद्दा है. उनकी बातों सभी ने समर्थन किया. मुद्दों पर गर्मागर्म बहस शुरू हुई तो बिजनेसमैन अभिषेक पांडे ने कहा कि मुद्दों की बात करें तो बेरोजगारी सबसे बड़ा मुद्दा है क्योंकि लोगों को काम नहीं मिल रहा है. बेरोजगारी को कम करने के लिए सरकार कुछ करे नहीं तो लोगों में गुस्सा और बढ़ेगा. आज के यूथ के पास डिग्री है, लेकिन जॉब नहीं. ऐसे में वह करें तो क्या करें?

जो करेगा हमारे मुद्दे की बात वोट भी उसी को
चर्चा में शामिल लोगों से जब रिपोर्टर ने वोट किस मुद्दे पर करने का सवाल पूछा तो वहां मौजूद दुकानदार फैज खान बोले कि जो हमारे मुद्दे की बात करेगा वोट उसी को जायेगा. भाई ने बिल्कुल सही कहा कि आतंकवाद का खात्मा होना ही चाहिए. मेरा वोट उसी पार्टी को जायेगा जो आतंकवाद को लेकर सही रणनीति और उसका खात्मा करेगा. फैज की बात को आगे बढ़ाते हुए मो. जावेद बोले कि महंगाई भी एक बड़ा मुद्दा है. लोगों की कमाई सीमित है और खर्चा ज्यादा. ऐसे में आम आदमी घर का खर्च कैसे चलाए? इसका जवाब कौन देगा? इसलिए वोट उसी को देंगे जो मंहगाई को कम करेगा.

 

 

var url = 'https://www.facebook.com/inextlive/videos/304214060446450';var type = 'facebook';var width = '670';var height = '350';var div_id = 'playid31';playvideo(url,width,height,type,div_id);

ईट का जवाब पत्थर से दें
समय बीतने के साथ कई बड़े-बड़े मुद्दे सामने आने लगे. लोगों का यही सवाल था कि आखिर सरकार कैसे इन मुद्दों को हल करेगी. सर्विस करने वाले करन सिंह यादव का मानना है कि बेरोजगारी को लेकर कोई भी सरकार ज्यादा कुछ नहीं करती है. ना तो बेरोजगारी दूर हो रही है और ना ही डिग्री पाने वाले युवा कोई काम कर पा रहे हैं. इस पर सरकार को गंभीरता से विचार करना होगा. उनकी बात को बीच में काटते हुए वर्कशॉप ओनर किशोर पांडे बोले कि हमारे जवानों पर आयेदिन हमले हो रहे हैं. ऐसे में हमें पाकिस्तान को भी ईट का जवाब पत्थर से देना चाहिए. पुलवामा में इतने लोग शहीद हो गये लेकिन अभी तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई है. इस बात पर सभी के चेहरे पर गुस्सा साफ देखा जा सकता था. इस बीच रिपोर्टर कोई सवाल करता इससे पहले ही राजीव लांबा बोले कि रोजगार न मिलने से आज का युवा काफी परेशान है. सरकार को उन्हें नौकरी देने के साथ उन्हें रोजगार भी मुहिया कराने पर सोचना चाहिये.

बांग्लादेशी बन रहे खतरा
मिलेनियल्स स्पीक में जहां आतंकवाद और बेरोजगारी गर्म मुद्दा बना हुआ था. वहीं मैकेनिक पप्पू ने दूसरे गंभीर मुद्दे की ओर लोगों का ध्यान खींचा. बोलने लगे कि अवैध रूप रह रहे बांग्लादेशी भी एक बड़ा खतरा हैं. वह जाली कागजों के सहारे आईडी आदि बनवा लेते हैं. वह हमारे बच्चों के भविष्य के लिए खतरा बनते जा रहे हैं क्योंकि कागजात बन जाने के बाद वह स्कूलों और जॉब तक में अप्लाई करने लगते हैं, जिससे और दिक्कतें शुरू हो जाती हैं. सरकार को चाहिए कि इनकी तत्काल पहचान कर देश से निकाल देना चाहिए. नहीं तो एक दिन यह देश की सुरक्षा के लिए भी खतरा बन जाएंगे. उनकी इस बात का समर्थन करते हुए सनी वर्मा बोले कि सरकार को चाहिए जो फैक्ट्रियां विदेशों में लग रही है वह यही लगें क्योंकि आज के यूथ को जॉब नहीं मिल रही है. ऐसे में वह किसी गलत राह पर ना चले जाएं इसपर सरकार को गंभीरता के साथ सोचना होगा.

विकास नहीं तो सरकार नहीं
क्या आतंकवाद और बेराजगारी ही मुख्य मुद्दा है, विकास नहीं? इसपर फिर से अमित बोल उठे कि विकास नहीं तो काई सरकार भी नहीं रहेगी. जबतक देश का विकास नहीं होगा हर बहस बेमानी है, लेकिन इसके साथ हमारे जवान मारे जाते रहें और हम केवल विकास-विकास करते रहें यह भी सही नहीं होगा. इसपर बिजनेसमैन रोहन सोनकर बोल उठे कि आप बिल्कुल सही बोल रहे हैं. जितना जरूरी विकास है उतना ही जरूरी आतंकवाद का खात्मा भी. अलगाववादी लोगों को भड़काकर जवानों पर हमला कराते हैं और हमारे ही जवान उनकी भी रक्षा करते हैं. यह सब अब नहीं चलेगा उनकी सुरक्षा वापस लेनी चाहिये. इस पर कई लोग बोल उठे कि आज ही सरकार ने घोषणा की है कि इनकी सुरक्षा हटा ली गई है. वहीं सर्विस कर रहे बबलू बताते हैं कि सरकार को अतिक्रमण के बारे में भी कुछ सोचना चाहिए. आप शहर के किसी भी बड़े बाजार चले जाइये हर ओर अतिक्रमण ही दिखेगा. कार-बाइक चलाना मुश्किल हो गया है. सरकार को अतिक्रमण करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए.

काम हो आसान
दुकानदार नासिर का मानना है कि भ्रष्टाचार भी एक बड़ा मुद्दा है. आप किसी भी विभाग में कोई काम के लिए जाइए बिना पैसे दिये कोई काम नहीं होता है. अगर उसने सुविधा शुल्क नहीं दिया तो आपका काम लटका दिया जाता है. वहीं खामोश बैठे फरहान खान बताते हैं कि सरकार को चाहिए कि गरीब लोगों के लिए ज्यादा से ज्यादा योजनाएं लानी चाहिए. सरकार को चाहिए कि सभी योजनाएं भी सही से लागू हो और उसमें कोई घपला न हो. इसी मुद्दे पर हामी भरते हुये साकिब बोले कि सरकार गरीबों के लिए जो काम करे वह दिखाई भी दे. वोट मांगने तो आते हैं बाद में गायब हो जाते हैं. सरकार को यह सोचना होगा चाहे वह किसी भी पार्टी की हो.

मेरी बात
बिजनेसमैन विनोद पांडे बताते हैं कि लोग बातें तो बहुत करते हैं, लेकिन जब वोट देने जाते हैं तो जाति से आगे नहीं बढ़ पाते हैं इसलिए वोट देने से पहले हमें पार्टी और कैंडीडेट के बारे में सोचना चाहिए. वोट देना हमारा धर्म है. इसे ऐसे ही बर्बाद नहीं करना चाहिए. हमारी सरकार अच्छा काम करें यही देखना चाहिए. जो काम करें उसे वोट दें, जो कैंडीडेट आपके मुद्दों पर बात करे आप उसे ही वोट दें क्योंकि कैंडीडेट अच्छा होगा तो काम भी अच्छा होगा.

कड़क मुद्दा
मिलेनियल्स स्पीक के मंच पर आतंकवाद और बेरोजगारी मुद्दा हर दूसरे मुद्दे से ज्यादा कड़क मुद्दा रहा. सभी लोगों का मानना था कि डिग्री होने के बावजूद नौकरी न मिलना कही न कही बढ़ते हुये आतंकवाद की वजह है. सरकार को इस विषय पर गंभीरता से सोचना होगा और जितनी जल्दी हो सके इसे दूर करना होगा.

1. सरकार को चाहिए कि आतंकवाद की घटना पर ईट का जवाब पत्थर से दिया जाना चाहिये. हमारे जवानों की शहादत बेकार नहीं जानी चाहिए.

-किशोर पांडे

2. हमारे नौजवान बेरोजगार होकर ऐसे ही घूम रहे है. सरकार को इनपर ध्यान देना होगा ताकि जॉब मिल सके.

-राजीव लांबा

3. सरकार को चाहिए कि बांग्लादेशी को हटाएं. वह हमारे बच्चों के भविष्य के लिए खतरा बन रहे हैं.

- पप्पू

4. विभागों में चल रहे भ्रष्टाचार पर सरकार ध्यान दें. कोई भी काम आसानी से नहीं होता है.

- नासिर

5. ज्यादा से ज्यादा फैक्ट्री सरकार देश में लगवाए ताकि लोगों को जॉब मिल सके. तभी लोगों की समस्या का हल होगा.

- सनी वर्मा

6. इस समय आतंकवाद सबसे बड़ा मुद्दा है. सरकार को इसपर काम करना होगा कि कैसे इसे जड़ से मिटाया जा सके.

- अमित मिश्रा

7. रोजगार नहीं इसलिए आतंकवाद बढ़ रहा है. बेरोजगारी को लेकर सरकार को बड़े कदम उठाने ही होंगे तभी वोट भी मिलेगा.

- अभिषेक पांडे

8. आतंकवाद खत्म होना ही चाहिए. मेरा वोट इसी मुद्दे पर होगा.

- फैज खान

9. महंगाई कम होनी चाहिए. आम आदमी की कमाई से ज्यादा तो खर्च हो गया हैं.

- मो जावेद

10. गरीबों की मदद करे सरकार, जो योजना बने वह दिखाई भी दे.

- फरहान खान

11. वोट मांगने सब आते हैं और बाद में सब गायब हो जाते हैं. वोट के बाद आपका काम भी दिखना चाहिए.

- साकिब

12. विकास के साथ आतंकवाद का खात्मा भी जरूरी. तभी देश में शांति रहेगी.

- रोहन सोनकर

13. अतिक्रमण को लेकर सरकार को सख्त कदम उठाने होंगे. गाड़ी चलाना मुश्किल हो गया है.

- बबलू

14. विकास तो हो रहा है. हमारे सांसद भी अच्छा काम कर रहे है, लेकिन बेरोजगारी पर सरकार को ज्यादा ध्यान देना होगा.

- करन सिंह यादव


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.