अपडेट नहीं मोबाइल, लग सकता चालान का झटका

2020-01-17T05:30:44Z

- आरटीओ और पोर्टल साइट पर मोबाइल नंबर अपडेट नहीं कराना पड़ सकता है भारी

- मैसेज नहीं आने पर व्हीकल ओनर को नहीं हो पाता चालान का अंदाजा

PRAYAGRAJ: एक छोटी सी गलती आपको भारी पड़ सकती है। वाहन मालिक हैं और मोबाइल नंबर आरटीओ विभाग में अपडेट नहीं कराया है तो धोखा खा सकते हैं। शहर में ऐसे कई मामले सामने आए हैं जिसमें मोबाइल नंबर अपडेट नहीं होने पर वाहन पर हुए चालान की जानकारी व्हीकल ओनर को नहीं हो सकी। बाद में ऑनलाइन चेक करने के बाद इस बात का खुलासा हुआ तो उनके पैरों तले जमीन खिसक गई। उनको पता ही नहीं था कि ट्रैफिक नियमों को तोड़ने के एवज में उन पर हजारों का जुर्माना लगाया जा चुका है। जिसे समय रहते नहीं जमा किया गया तो कानूनन अधिक कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है।

कार की फोटो के साथ लिखी थी जुर्माने की राशि

ऐसा नहीं है कि ट्रैफिक नियम तोड़ते समय लोगों को इसका अंदाजा नहीं होता। कभी-कभी यह अनजाने में भी हो जाता है, लेकिन मोबाइल पर मैसेज नहीं आता तो लोग खुद को ओवर स्मार्ट समझ लेते हैं। दारागंज के रहने वाले रोहित शुक्ला ने जब ऑनलाइन ई चालान चेक किया तो पता चला कि 13 जनवरी को उनका चालान ढाई हजार रुपए का हो चुका है। उनकी कार की फोटो के साथ जुर्माने की राशि लिखी हुई थी। वहीं सिविल लाइन निवासी अनुराग शुक्ला की फिगो कार का ढाई हजार रुपये का चालान पांच जुलाई को किया गया था। मोबाइल पर मैसेज नहीं आने पर उनसे यह चूक हो गई। यह चालान रेड लाइट जंप और हाई स्पीड के लिए हुआ था।

इन बातों का रखिये ख्याल

- व्हीकल खरीदते समय मोबाइल नंबर अपडेट नहीं कराया है तो आरटीओ जाकर फीड करा लें।

- अप्रैल 2018 के बाद से नया व्हीकल खरीदने पर मोबाइन नंबर देना अनिवार्य है। इसके पहले के वाहन का नंबर अपडेट कराना होगा।

- ई-चालान चेक करने के लिए https://echallan.parivahan.gov.in/index/accused-chall पर देख सकते हैं। या फिर कार इंफो ऐप के माध्यम से चेक कर सकते हैं।

- अगर आपका मोबाइल नंबर अपडेट नहीं हैं तो आरटीओ जाकर भी अपडेट करा सकते हैं। या फिर परिवहन पोर्टल https://parivahan.gov.in/parivahan//node/1978 पर जाकर अपडेट कर सकते हैं।

- पोर्टल के जरिए अपडेट करने के लिये आपको गाडी नंबर के साथ चैसिस नंबर, इंजन नंबर डालना अनिवार्य हैं। तब जाकर मोबाइल नंबर आपको ओटीपी आएगा। तब जाकर अपडेट होगा।

- अगर डाटाबेस में आपका नंबर अपडेट नहीं होगा, तो चालान या तो सीधे आपके घर पर आएगा, या ऑनलाइन जारी होगा। अगर आपने तय तिथि या छह महीने तक चालान नहीं भरा, तो आपके मामले को कोर्ट भेज दिया जाएगा।

जब दोस्तों के द्वारा पता चला कि मैसेज भी नहीं आता हैं और चालान भी हो जाता हैं। पहले तो यकीन नहीं हुआ। ऑनलाइन चेक करने पर ढाई हजार का चालान होने की जानकारी मिली।

रोहित शुक्ला

कभी-कभी पता भी नहीं चलता हैं और चालान भी हो जाता है। मेरी इनोवा कार का दो हजार रुपये का चालान हो रखा हैं। वह भी पार्किंग में वाहन न खड़ी करने पर। इसकी जानकारी ऑनलाइन चेक करने पर मिली।

शुभम

जो भी नियम तोड़ता है उसका ई चालान किया जाता है। लोगों को खुद अवेयर होना होगा। अगर नंबर अपडेट है तो चालान की जानकारी मिल जाएगी, वरना कोर्ट के चक्कर भी लगाने पड़ सकते हैं।

कुलदीप सिंह, एसपी ट्रैफिक


Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.