Movie Review आतंकवाद का सफाया करने आयी 'बेबी'

2015-01-23T15:37:38Z

फिल्‍म बेबी निर्देशक नीरज पाण्‍डेय की एक बड़ी उपलब्‍िध होगी आज फिल्‍म रिलीज हो गयी है इस फिल्‍म में उन्‍होंने पाक के आतंक का मसला विशेष रूप से उठाया है यह मुद्दा बहुत ही सेंसटिव है फिल्‍म में इस बात की ओर विशेष रूप से इंडीकेट किया गया है कि आतंकवाद का न कोई मजहब है और कोई धर्म यह फिल्‍म लगभग 2 घंटे 39 मिनट की है यह फिल्म देश के जांबाजों की कहानी है इसमें सीक्रेट मिशन है एक्शन है आतंकियों का जुनून है

मिशन को अंजाम तक पहुंचाते
फिल्म बेबी में इंडियन पुलिस की ओर से एक ग्रुप बनाया जाता है जो देश में पाकिस्तान की तरफ से किए जाने वाले हमलों को रोकने व देश में आतंकवाद फैला रहे ग्रुपों के सदस्यों को रोकने का प्रयास करते हैं. जिसमें अक्षय कुमार एटीएस (एंटी टेररिस्ट स्क्वायड) के एक जांबाज सिपाही बने हैं, जो डैनी (फिरोज) के अंडर में काम करते हैं. वहीं पाक की ओर से मौलाना मोहम्मद रहमान (पाक एक्टर रशीद नाज्ा) आतंक फैलाने में मशगूल रहते हैं. वह यूथ का ब्रेनवॉश करके उन्हें इस ओर खींचता हैं. फिल्म की कहानी में आतंकवाद की बढ़ती सुनामी को रोकने लिए एक के बाद एक कडियों को सुलझाने का काम होता है. एक मिशन के लिए तीन अफसरों अक्षय कुमार, राणा डग्गुबत्ती और अनुपम खेर को चुना जाता है. इस मिशन को नाम दिया जाता है बेबी. बेबी मिशन के अंडर में ही सभी सऊदी अरब के लिए रवाना होते हैं और मिशन को अंजाम तक पहुंचाते हैं.

 

Baby
U/A; Action-Crime-Mystery
Director: Neeraj Pandey
Cast: Akshay Kumar, Anupam Kher, Danny Denzongpa, Rana Daggubati, Taapsee Pannu, Kay Kay Menon

स्टंट भी काफी रोमांचक
फिल्म में हकीकत को बहुत ही सहजता से उकेरा गया है. इसमें कहानी नेचुरल फीलिंग्स का अहसास कराती है.  यह फिल्म कई देशों को जोड़ती दिखायी जा रही है. इसमे बेबी के मिशन में नेपाल से सऊदी अरब तक टीम जाती है. इस दौरान टीम आतंक से आखिरी तक लड़ती दिखायी देती है. फिल्म में कुछ सींस तो ऐसे है कि जो दर्शकों को काफी पंसद आ रहे हैं. दर्शक सींस में पूरी तरह से डूबने को मजबूर हो रहे हैं. बेबी मिशन में अक्षय के स्टंट भी काफी रोमांचक हैं. एजेंट के रूप में तापसी पन्नू ने भी बेहतरीन अभिनय किया है. इसके अलावा इसमें फीमेल एजेंट तापसी पन्नू और सुशांत सिंह के फाइटिंग सीन तो बहुत ही अच्छा हैं. दर्शक इस सीन को जल्दी भुला नहीं सकेंगे. इसके

फिल्म की एडिटिंग चुस्त
हालांकि फिल्म में कई कमियां हैं लेकिन स्ट्रॉन्ग स्टोरी थीम के आगे वह छुप गयीं. इस फिल्म में निर्देशक नीरज पाण्डेय ने स्टोरी का ऐसा मुद्दा उठाया है जो वाकई प्रशंसनीय है. उन्होंने फिल्म की स्टोरी से लेकर कॉस्िटंग तक पर खास फोकस किया है. अक्षय कुमार अपने फिल्मी करियर के अभी तक सर्वश्रेष्ठ किरदार में हैं. अक्षय एक पुलिस कर्मी की भूमिका में बिल्कुल फिट दिखायी दिये. फिल्म की एडिटिंग चुस्त है. एक भी गैरजरूरी सॉन्ग नहीं, बेवजह रिझाने के लिए कोई बोल्ड सीन नहीं. पर्दे पर जो भी होता है, सब शुरू से अंत तक एक-दूसरे से जुड़े रहते हैं. नेगेटिव रोल में केके मेनन हों या बिलाल, अपने रोल में परफेक्ट दिखायी दिये. इसके अलावा सुशांत सिंह, जावेद और पाकिस्तानी एक्टर राशिद नाज, सभी ने अपनी अभिनय क्षमता का लोहा मनवाया है.

Hindi News from Bollywood News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.