सांसदविधायक भी बोले धनगरों को मिले प्रमाणपत्र

2019-03-08T06:00:23Z

आगरा। सांसद चौधरी बाबूलाल ने जिलाधिकारी को चेतावनी दी है कि 10 मार्च तक धनगर समाज को एससी के प्रमाण पत्र जारी नहीं किए गए तो वे धनगर समाज के साथ अनशन पर बैठ जाएंगे। विधायक रामप्रताप सिंह चौहान ने भी कहा कि धनगर समाज का संवैधानिक अधिकार है, जो कि उन्हें मिलना ही चाहिए। वहीं राष्ट्रीय धनगर महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी धनगर ने कहा कि जब तक उनके समाज के प्रमाण पत्र जारी नहीं हो जाते हैं, तब तक अनशन जारी रहेगा। वहीं दूसरी ओर धनगर संघर्ष समिति के संयोजक नरेंद्र धनगर भी प्रतिनिधिमंडल के साथ जिलाधिकारी से मिले और प्रमाण पत्र जारी करने की मांग की।

सांसद के आवास पहुंचा धनगर समाज

स्पष्ट शासनादेश होने के बाद भी धनगर समाज के प्रमाण पत्र जारी नहीं किए जा रहे हैं। इसके विरोध में जेपी धनगर के नेतृत्व में सदर तहसील में पिछले आठ दिन से अनिश्चितकालीन धरना और भूख हड़ताल जारी है। लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं हो रही है। दबाव बनाने के लिए धनगर संघर्ष समिति के संयोजक नरेंद्र धनगर, महेश बघेल सहित दर्जनों लोग सांसद चौधरी बाबूलाल के निवास पर घेराव के उद्देश्य से पहुंचे। सांसद चौधरी बाबूलाल ने कहा कि वे धनगर समाज के साथ हैं। वे भी चाहते हैं कि धनगर समाज को एससी के प्रमाण पत्र जारी हों, लेकिन नहीं हो रहे हैं तो मैं आपकी लड़ाई में साथ हूं। यह कहते हुए सांसद चौधरी बाबूलाल उनके साथ जिलाधिकारी आवास पहुंच गए। जिलाधिकारी से स्पष्ट कहा कि शासनादेश होने के बावजूद भी प्रमाण पत्र क्यों नहीं जारी किए जा रहे हैं।

आज बुलाई है बैठक

जिलाधिकारी की निगरानी में आज शाम चार बजे कलक्ट्रेट सभागार में बैठक बुलाई है, जिसमें जनपद के सभी तहसीलदार एसडीएम, लेखपाल संघ के पदाधिकारी बुलाए गए हैं। धनगर समाज का प्रतिनिधिमंडल भी मौजूद रहेगा।

ये रहे मौजूद

धरना स्थल पर जेपी धनगर, भगत सिंह बघेल, शिरोमणि सिंह, ब्लॉक प्रमुख राकेश बघेल, राजेश कुमार परिहार एडवोकेट, राजेंद्र बघेल, विजय सिंह धनगर, हाकिम सिंह पहलवान, दिलीप धनगर, देशप्रिय धनगर, बलवीर सिंह धनगर, डॉ। रामस्वरूप, कुमारी पूजा, योगेश प्रधान, सुनील प्रधान आदि मौजूद थे।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.