अधाधुंध फायरिंग से कांप गई रूह

2014-10-08T07:00:19Z

- घर के बाहर खड़े होकर जिसने भी देखा नजारा, हैरान रह गया

- लोगों ने घर में छिपकर करीब से देखा मौत का ताडंव

- गोलियों की तड़तड़ाहट से सहम गए थे लोग, मचा हड़कंप

- गद्दियों ने तेली और तेलियों ने गद्दियों पर बोला हमला

Meerut: ईद के एक दिन बाद बासी ईद जाकिर कालोनी में धूमधाम से मनाई जा रही थी। अचानक शुरू हुआ खूनी खेल ने सारी खुशियां गम में तब्दील कर दीं। अधाधुंध फायरिंग को होता जिसने भी देखा उसकी रूह कांप उठी, लोग घर के अंदर घुस गए, आधा घंटे तक किसी की बाहर आने तक की हिम्मत नहीं पड़ी। काफी संख्या में गद्दी और तेली लोगों को खूनी खेल खेलता देखकर लोगों में हड़कंप मचा हुआ था, जब हूटर बजाती हुई पुलिस मौके पर पहुंची तब लोगों ने राहत की सांस ली।

सबके हाथों में हथियार

खूनी खेल खेलने वाले सभी लोगों के हाथों में असलहे थे। जिन्होंने चलाने से जरा भी परहेज नहीं किया, जो भी मिला उसको ही गोली मारकर घायल कर दिया। गोलियों की तड़तड़ाहट से हर कोई घर में बैठा आम शख्स दहशत के साए में जी रहा था। पुलिस पहुंचने के बाद ही घर में बैठे लोगों ने राहत की सांस ली। जब लोगों को पता चला कि उनकी बिरादरी के लोगों की हत्या हो गई तब सड़क पर आकर विरोध जताना पुलिस के सामने शुरू कर दिया।

खत्म हो जाता खानदान

अपने परिवार में दो लोगों की मौत के बाद बुजुर्ग लियाकत पूरी तरह गम में डूबे हुए थे। जब उनसे इस घटना के संबंध में बातचीत की गई तो उनका दर्द निकलकर सामने आया। उन्होंने कहा कि भला हो खुदा का कि मेरे घर में लोहे के गेट लगे हुए हैं, जो अन्दर से विवाद होने के बाद बंद कर लिए थे, नहीं तो काफी संख्या में आए हमलावर मेरे घर में घुसकर खान दान खत्म करने के इरादे से आए थे। उन्होंने कहा कि बेटे और भतीजे की मौत का गम जीवन में कभी नहीं मिटा सकेंगे।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.