लिसाड़ी गेट में खूनी संषर्घ तीन की मौत

2014-10-08T07:01:01Z

- बाइक टकराने पर तेली और गद्दियों के बीच विवाद

- मोहल्ले वालों ने करा दिया दोनों पक्षों में समझौता

- शाम को दोनों के बीच हुई फायरिंग में तीन की मौत

- क्षेत्र में तनाव का माहौल, पुलिस को सहना पड़ा विरोध

- मौके पर पहुंचे अफसरों ने ली वारदात की जानकारी

Meerut: जाकिर कालोनी में बाइक टकराने को लेकर चांद रात पर हुए विवाद ने ईद के बाद मंगलवार को बड़ा रूप धारण कर लिया। नाक का सवाल बनी बाइक की टक्कर में गद्दी और तेली बिरादरी के लोगों के बीच खूनी संघर्ष हो गया। अधाधुंध फायरिंग में एक तेली और दो गद्दी बिरादरी के लोगों की मौत हो गई, जबकि दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। घटना के बाद क्षेत्र में तनाव फैल गया। दोनों बिरादरी के लोग आमने-सामने आ गए। सूचना पर पहुंचे एसएसपी, एसपी सिटी, एडीएम सिटी ने काफी मशक्कत के बाद लोगों को शांत कराया। फिलहाल पीएसी और आरएएफ तैनात की गई है।

क्या है मामला

जाकिर कालोनी में चांद रात पर तेली और गद्दी बिरादरियों के लोगों में बाइक टकराने को लेकर विवाद हो गया था, बताया जा रहा है कि ईद का त्योहार होने के चलते मोहल्ले के लोगों ने दोनों पक्षों के लोगों को बैठाकर शांत करा दिया था। ईद का त्योहार खुशी के साथ मनाने के लिए कहा था। मंगलवार शाम सुनार की दुकान करने वाले शाहिद निवासी जाकिर कालोनी पास ही में दूसरी गली में अपने भाई मोहम्मद अख्तर के यहां ईद मिलने के लिए गया था, जहां गद्दी बिरादरी के लोगों ने शाहिद पर हमला बोल दिया। अख्तर ने विरोध किया तो उसके साथ भी मारपीट कर दी। इसके बाद शाहिद की गोली मारकर हत्या कर दी। जैसे ही इसकी जानकारी तेली बिरादरी के लोगों को हुई तो उनका गुस्सा फूट गया। इस दौरान तेली और गद्दी हथियार लेकर सड़कों पर उतर आए और फायरिंग करनी शुरू कर दी, अधाधुंध फायरिंग में गद्दी बिरादरी के एक ही परिवार के उमर पुत्र लियाकत और मुंशी पुत्र मोहम्मद सरताज की मौत हो गई। इतना ही नहीं गद्दी बिरादरी के हाशिम और वाजिद गंभीर रूप से घायल हो गए।

अपनाना पड़ा सख्त रवैया

एक ही मोहल्ले में तीन हत्या हो चुकी थी। हर बिरादरी और परिवार के लोगों में एक दूसरे के खिलाफ आक्रोश था। हर कोई एक दूसरे को दुश्मन की नजर से देख रहा था। इस दौरान जैसे ही एसएसपी ओंकार सिंह, एसपी सिटी ओमप्रकाश, एडीएम सिटी एसके दूबे और एसओ लिसाड़ी गेट रवेंद्र यादव मौके पर पहुंचे तो शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। इस दौरान गुस्साएं लोगों को शांत कराने की कोशिश की, लेकिन लोग नहीं माने। जिसके बाद एसपी सिटी ने सड़क पर विरोध कर रहे लोगों को दौड़ा दिया। इस दौरान लोग आक्रोशित हो गए। उनका कहना था कि एक तो उनके घर मौत हो गई, दूसरा रिश्तेदार घर में अफसोस मनाने के लिए आए हैं तो पुलिस उन्हें दौड़ा रही है।

कोई नहीं चढ़ा हत्थे

दो अलग-अलग बिरादरियों के विवाद में तीन की हुई हत्या के मामले में पुलिस किसी को भी गिरफ्तार नहीं कर सकी है। हालांकि मौके पर पहुंचकर एसएसपी ओंकार सिंह ने दोनों पक्षों की ओर से मुकदमा कायम कर सख्त कार्रवाई का आश्वासन पीडि़त पक्ष के लोगों को दिया है। उनका कहना था कि दोनों पक्षों की ओर से मुकदमा कायम कर आरोपियों को जेल भेजा जाएगा। निर्दोष फंसेगा नहीं और दोषी बचेगा नहीं, उन्होंने जल्द ही गिरफ्तारी करने का दावा किया है।

परिवार बर्बाद कर दिया

तीन लोगों की हत्या में एक ही परिवार के दो लोगों की हत्या हो गई। उस घर का बुजुर्ग पुलिस वालों के सामने इंसाफ मांग रहा था। लियाकत पूछ रहा था कि आखिर उनके बेटे उमर और भतीजे मुंशी का कसूर क्या था जो उसको मार दिया गया। उनका कहना था कि उनका तो किसी से झगड़ा तक नहीं हुआ था, लेकिन बावजूद इसके बिरादरियों की जंग में उनकी बली चढ़ गई। उन्होंने आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग कर इंसाफ मांगा। वहीं परिवार वालों का रो-रोकर बुरा हाल था। लियाकत का दूध सप्लाई का काम घर से है। उन्होंने भैंस पाल रखी है। उनके बेटे और भतीजे दूध घर-घर जाकर सप्लाई करते थे।

ऐसा गंदा दिन कभी नहीं देखा

शाहिद के परिवार वालों का रो-रोकर बुरा हाल था। उनकी पत्नी और भाई रो-रोकर कह रहे थे कि ऐसा गंदा दिन जीवन में कभी नहीं देखा। शाहिद की मौत के बाद परिवार गम में डूबा हुआ था। उन्होंने कहा कि इंसाफ के लिए वह पूरा संघर्ष करेंगे।

गोबर डालने की बात

शाहिद की सुनार की दुकान है। कुछ लोगों का कहना था कि शाहिद की दुकान के बाहर नाली का गोबर निकालकर गद्दी बिरादरी के लोगों ने डाल दिया था। जिसका शाहिद ने विरोध किया था। जिस पर शाहिद और गद्दी बिरादरी के लोगों के बीच विवाद बढ़ गया और गोली चलाने तक की नौबत आ गई। हालांकि पुलिस इस बात को मानने से इंकार कर रही है। वह मोटर साइकिल के विवादित बिंदु पर ही जांच कर रही है।

इन्होंने कहा

बाइक टकराने को लेकर एक संप्रदाय की दो बिरादरियों के बीच बाइक टकराने को लेकर दो दिन पूर्व विवाद हो गया था। शाम को यह दोनों आपस में टकरा गए, जिसके बाद गद्दी बिरादरी के लोगों ने शाहिद की गोली मारकर हत्या कर दी। विरोध में तेली पक्ष की ओर से भी फायरिंग की गई, जिसमें उमर और मुंशी की मौत हो गई। पूरे मामले की जांच की जा रही है। आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

-ओंकार सिंह

एसएसपी


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.