पंच प्यारे की अगुवाई में निकाला गया नगर कीरतन

2019-01-08T01:22:36Z

-कोहड़ापीर से शुरू हुआ नगर कीर्तन चौकी चौरहा पर हुआ समाप्त

-गुरू गोविंद सिंह के प्रकाश पर्व पर निकाले गए नगर कीर्तन का जगह-जगह किया गया स्वागत

क्चन्क्त्रश्वढ्ढरुरुङ्घ :

गुरू गोविंद सिंघ साहिब के प्रकाश पर्व पर खालसा पंथ सुखमनी सेवा सोसायटी की सिख संगत ने संडे को शहर में नगर कीर्तन निकाला। नगर कीर्तन की अगुवाई पंच प्यारे कर रहे थे। श्री गुरू ग्रंथ साहिब को भव्य वाहन पर सजाया गया। इसके बाद नगर कीर्तन निकाला गया। नगर कीर्तन में सबसे आगे निशान साहिब युक्त रंजीत नगाड़ा वाहन में बजाया जा रहा था। इसके साथ पैदल और घुड़सवार निहंग सिंघ नगर कीर्तन की शोभा बढ़ा रहे थे। नगर कीर्तन दोपहर 12 बजे कोहाड़ापीर से शुरू होकर चौकी चौराहा पर संपन्न हुआ। कुलदीप सिंघ सोढ़ी ने बताया कि 9 जनवरी रात को विशेष कीर्तन दरबार गुरूद्वारा कोहाड़ापीर में सजेगा, जिसमें आस्ट्रेलिया से गुरदेव सिंघ का रागी जत्था पहुंच रहा है। सेंट्रल कमेटी के महासचिव गुरदीप सिंघ ने बताया कि मुख्य दीवान 13 जनवरी को बिशप मंडल इंटर कॉलेज में सजाया जाएगा। जबकि प्रकाश पर्व की पूर्व संध्या पर सेंट्रल कमेटी की तरफ से कीर्तन दरबार 12 जनवरी को गुरू गोविंद सिंघ नगर मॉडल टाउन में सजाया जाएगा।

स्कूल्स के बच्चे भी हुए शामिल

कोहाड़ापीर से शुरू हुए नगर कीर्तन में बैंड बाजों पर गुरुवाणी और शबद सुनाई दे रहे थे। पंजाब से आए निशाने खालसा के वीर गतके के हैरतअंगेज करतब दिखाकर संगत का मन मोह रहे थे। नगर कीर्तन में बड़ी संख्या में स्कूली बच्चे और महिलाएं भी शामिल रर्ह। इसके साथ सिख संस्था से संचालित स्कूल श्री गुरू गोविंद सिंघ इंटर कॉलेज, रिक्खी सिंघ कन्या इंटर कॉलेज, खालसा इंटर कॉलेज, श्री गुरू नानक कन्या जूनियर स्कूल, श्री गुरू हरि किशन पब्लिक स्कूल व माता सीता देवी कांवेंट स्कूल के बच्चे भी रंग बिरंगी पोशाक पहनकर नगर कीर्तन में साथ चल रहे थे। नगर कीर्तन के साथ चल रही इतिहास की झांकियां एवं गुरुवाणी की पंक्तियां भक्ति का अहसास करा रही थी। नगर कीर्तन में शहर के गुरूद्वारे के रागी जत्थे अलग-अलग वाहन से गुरवाणी कीर्तन से संगत को निहाल कर रहे थे। कार्यक्रम में पंजाब, हरियाणा से आए कवि करमजीत सिंघ एवं गुरशरण सिंघ ने सिक्ख और इतिहास की कविताएं सुनाई।

पंजाब के पाइप बैंड ने बढ़ाई शोभा

नगर कीर्तन में पंजाब का पाइप बैंड साथ में चल रहा था। इसके पीछे गुरू की संगत सड़क पर झाडू लगाते हुए पानी से धोकर और पुष्प वर्षा करते हुए चल रहे थे। अध्यक्ष कुलदीप सिंघ सोढी, परमजीत सिंघ, परमिन्दर सिंघ बेदी, राजेश साहनी, गुरदीप सिंघ बग्गा, हरनाम सिंघ, हरदीप सिंघ, भरवेज सिंघ, शैम्पी, अमरजीत सिंघ और मीडिया प्रभारी मालिक सिंघ कालड़ा आदि मौजूद रहे।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.