पीएम ने किया सुभाष चंद्र बोस म्यूजियम का उद्धाटन जानें लाल किले के इन तीन नए संग्रहालयों में क्या है खास

2019-01-23T12:18:23Z

प्रधानमंत्री नरेंद्र माेदी ने आज नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर लाल किले में तीन संग्रहालयों का उद्घाटन किया हैं। आइए जानें इन संग्रहालयों के अंदर खास क्या है

नर्इ दिल्ली (आर्इएएनएस)। आज नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 122वीं जयंती मनार्इ जा रही है। एेसे में आज इस खास माैके पर गणतंत्र दिवस के तीन दिन पहले प्ररधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को एक बड़ी साैगात दी है। उन्होंने लाल किले के अंदर भारतीय स्वतंत्रता संघर्ष की गाथा को बयां करने वाले तीन नए संग्रहालयों का उद्घाटन किया है।
पहला संग्रहालय सुभाष चंद्र से जुड़ा
लाल किले के अंदर पहला संग्रहालय नेताजी सुभाष चंद्र बोस और इंडियन नेशनल आर्मी(आईएनए) से जुड़ी चीजों पर आधारित है। यहां सुभाष चंद्र बोस से जुड़ी खूबसूरत शिल्पकृतियां आैर उनके द्वारा इस्तेमाल की गई एक लकड़ी की कुर्सी, तलवार, पदक, वर्दी जैसी चीजें हैं। आईएनए के खिलाफ मुकदमे की सुनवाई लाल किले में हुई थी
दूसरा संग्राहलय 'याद-ए-जलियां' हैं
यहां लाल किले में बना दूसरा संग्राहलय 'याद-ए-जलियां' है। यह भी इतिहास से जुड़ा बेहद खूबसूरत है। इस संग्रहालय में आने वाले इतिहास प्रेमी 1919 में हुए जलियांवाला बाग नरसंहार से रूबरू होंगे। इसके बारे में बेहद करीब से जानेंगे।  'याद-ए-जलियां' विश्व युद्ध-1 में भारतीय सैनिकों द्वारा दिखार्इ गर्इ वीरता को भी बयां करेगा।
काफी डिजाइनर है तीसरा संग्रहालय
लाल किले के अंदर बना तीसरा संग्रहालय भी बेहद खास तरीके से डिजाइन किया गया है। यहां लोग 1857 के स्वतंत्रता संघर्ष की ऐतिहासिक गाथा व भारतीयों द्वारा किए गए बलिदान को देख सकेंगे। यहां फोटो, पेंटिंग, अखबार की क्लिपिंग, प्राचीन रिकार्ड, ऑडियो, वीडियो क्लिप, एनिमेशन व मल्टीमीडिया आदि से अागंतुक जुड़ सकेंगे।

अब पूरे सप्ताह खुलेगा म्यूजियम

पीएम नरेंद्र मोदी से मिल कर कपिल शर्मा ने किया उनकी इस बात का खुलासा, जानें वो क्या है


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.