काली पट्टी बांधकर डाक्टरों ने जताया विरोध

2019-01-05T06:00:54Z

लोकसभा से पास तीन बिलों को लेकर चिंतित हैं देशभर के डॉक्टर्स

PRAYAGRAJ: नेशनल कमीशन बिल 2017, इंडियन मेडिकल काउंसिल अमेंडमेंट बिल 2018 और उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2018 के विरोध में शुक्रवार को डॉक्टर्स ने काली पट्टी बांधकर विरोध दर्ज कराया। इस संबंध में एएमए कन्वेंशन सेंटर में शाम छह बजे एक सभा का आयोजन किया गया। इसमें आईएमए के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ। अशोक अग्रवाल ने कहा कि देश की सरकार को इन बिलों से डॉक्टराें को होने वाली समस्याओं से अवगत कराया जा रहा है। इस विरोध दिवस में तीन लाख डॉक्टर्स भाग ले रहे हैं।

मुश्किल होगा जनता की सेवा करना

डॉ। अग्रवाल ने कहा कि इन बिलों के पारित होने से निजी क्लीनिक और छोटे नर्सिग होम अत्यधिक प्रभावित होंगे। इससे आम जनता को चिकित्सा सेवाएं लेना महंगा होगा। डॉक्टर और मरीज के संबंधों में भी बाधा आ जाएगी। ये तीनों बिल आम जनता के लिए विनाशकारी साबित होंगे। इससे चिकित्सकीय पेशे की चिंताओं और संभावित समस्याओं को बढ़ावा मिलेगा। इसलिए सरकार से डॉक्टरों की मांगों पर विचार करने का अनुरोध किया जाता है। सभा में एएमए अध्यक्ष डॉ। आरकेएस चौहान, सचिव डॉ। राजेश मौर्या, प्रेसीडेँट इलेक्ट डॉ। राधारानी घोष, डॉ। शार्दूल सिंह, अमिताभ घोष, डॉ अनिल शुक्ला, डॉ। आशुतोष गुप्ता, डॉ। बीके मिश्रा, डॉ। अभिनव अग्रवाल आदि उपस्थित रहे।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.