250 रुपये के लिए मैच खेलने वाला नवदीप सैनी भारतीय क्रिकेट टीम में

2018-06-12T13:48:18Z

अफगानिस्तान के खिलाफ होने वाले एकमात्र टेस्ट के लिए टीम इंडिया में मोहम्मद शमी की जगह नए गेंदबाज नवदीप सैनी को शामिल किया गया है।

शमी की जगह टीम इंडिया में शामिल
नई दिल्ली (पीटीआई)। अफगानिस्तान के खिलाफ 14 जून को होने वाले एकमात्र टेस्ट के लिए टीम इंडिया में कुछ बदलाव हुआ है। तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी के यो-यो टेस्ट में फेल हो जाने के बाद दिल्ली के गेंदबाज नवदीप सैनी को टीम में शामिल किया गया। घरेलू क्रिकेट में सैनी सबसे तेज गेंद फेंकने वाले गेंदबाजों में गिने जाते हैं। बीसीसीआई ने अपने बयान में कहा, 'सलेक्शन कमेटी ने भारतीय टेस्ट टीम में मोहम्मद शमी की जगह नवदीप सैनी को टीम में जगह दी है। शमी बंगलौर में हुए यो-यो टेस्ट में फेल हो गए, ऐसे में उन्हें टीम से बाहर निकाल दिया गया।' शमी के बाहर होते ही दिल्ली के युवा तेज गेंदबाज सैनी को टेस्ट डेब्यू का मौका मिल गया, हालांकि उन्हें प्लेइंग इलेवन में शामिल किया जाएगा या नहीं यह तो मैच वाले दिन ही पता चलेगा।

250 रुपये मिलते थे एक मैच के
25 साल के सैनी दिल्ली के लिए रणजी मैच खेलते हैं। हालांकि उन्होंने फर्स्ट क्लॉस क्रिकेट की शुरुआत 2013 में की थी। उससे पहले तक वह टेनिस बॉल टेर्नामेंट ही खेला करते थे। तब उन्हें एक मैच के 250 से 500 रुपये मिलते थे लेकिन जब उन्हें पांच साल पहले दिल्ली की रणजी टीम में खेलने का मौका मिला तो वह काफी घबरा गए थे। सैनी ने तब पहली बार लाल लेदर गेंद हाथ में पकड़ी थी। उस वक्त सैनी की मदद भारत के दिग्गल बल्लेबाज गौतम गंभीर ने की थी। नवदीप सैनी उस वल को याद करते हुए कहते हैं, 'गौतम भइया ने मुझसे कहा - जैसे टेनिस बॉल से डालता है वैसे ही डाल। कोई टेंशन नहीं बाकी सब ठीक हो जाएगा। मैंने उनकी ये बात मानी और आज मैं यहां सिर्फ उनकी बदौलत हूं।
गौतम गंभीर ने संवारा इनका करियर
नवदीप का मानना है कि उनके करियर में गंभीर का बड़ा रोल रहा। उन्हीं की देखरेख में मैंने नेट पर काफी गेंदबाजी की। यही नहीं दिल्ली की टीम में मुझे शामिल करने के लिए गंभीर ने ही सलेक्टर्स से रिक्वेस्ट की थी। तब सभी ने मेरे गेंदबाजी देखी और मेरा सलेक्शन टीम में हो गया। सैनी ने आगे बताते हैं कि, शुरुआत के कुछ फर्स्ट क्लॉस मैच खेलने के बाद गंभीर ने मुझसे कहा कि तुम और मेहनत करो, एक दिन टीम इंडिया के लिए जरूर खेलोगे। गंभीर को मुझ पर मुझसे ज्यादा भरोसा था।

तेज रफ्तार के हैं बादशाह

31 फर्स्ट क्लॉस मैचों में 96 विकेट लेने वाले सैनी अपनी फॉस्ट बॉलिंग के लिए जाने जाते हैं। रणजी ट्रॉफी के सेमीफाइनल में बंगाल के खिलाफ जब उन्होंने 140 किमी/घं की स्पीड से गेंदबाजी की तो कई बल्लेबाज उनकी गेंद को छू तक नहीं पाए। यही नहीं सैनी को डोमेस्टिक क्रिकेट में लंबे-लंबे स्पेल फेंकने के लिए जाना जाता है। यह तेज गेंदबाज लगातार 10 से 12 ओवर आसानी से फेंक लेता है।
कोहली से पंगा लेने वाले इस IPL खिलाड़ी ने कर ली सगाई, देखें कितनी खूबसूरत हैं इनकी मंगेतर
दाऊद इब्राहिम का समधी जिसने भारत के खिलाफ आखिरी गेंद पर छक्का जड़कर पाकिस्तान को जिता दिया



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.