अवैध निर्माण पर गरजा बुलडोजर

2017-09-15T07:41:13Z

- नगर निगम ने जागृति विहार से हटाया अतिक्रमण

- कमिश्नर के आदेश पर नगर निगम ने चलाया बुलडोजर

- बागपत रोड और दिल्ली रोड से हटाए होर्डिग व यूनिपोल

मेरठ। नगर निगम ने जागृति विहार नाले के किनारे बने अतिक्रमण को हटाया। दोपहर बाद से देर शाम तक नगर निगम के डिपो प्रभारी अरूण खरखौदिया के नेतृत्व में अतिक्रमण हटाया गया।

पहले दिया था नोटिस

नगर निगम ने अतिक्रमण हटाने से पहले नोटिस दिया था। एक सप्ताह में अतिक्रमण हटाने के लिए कहा था। इससे पहले करीब दस दिन पहले कमिश्नर डॉ। प्रभात कुमार ने जागृति विहार नाले की पटरी का निरीक्षण किया था।

होर्डिग भी हटवाई

नगर निगम ने दोपहर में बागपत रोड व मेट्रो प्लाजा से परतापुर तक अवैध होर्डिग व यूनिपोल के खिलाफ अभियान चलाया। इस दौरान नगर निगम संपत्ति अधिकारी राजेश कुमार के नेतृत्व में टीम ने सौ से अधिक होर्डिग व यूनिपोल को हटाया।

वर्जन

जागृति विहार नाले की पटरी पर हुए अतिक्रमण का हटाया है। बागपत रोड व दिल्ली रोड से अवैध होर्डिग हटाए हैं। यह अभियान जारी रहेगा।

राजेश कुमार, संपत्ति अधिकारी नगर निगम

----------------5

इंसेट

हेडिंग- मोदीपुरम में ध्वस्त की चार दुकानें

एमआरटी पीवीएल 604 से 608

मेरठ। मोदीपुरम में आवासीय भूखंड पर बने अवैध कांप्लेक्स पर गुरुवार को एमडीए का बुलडोजर चला। इस दौरान चार दुकानों को ध्वस्त किया गया, जबकि अन्य दुकानों को मामूली रुप से क्षतिग्रस्त किया गया। पड़ोसी महिला के मकान की दीवार हिलने पर उसने हंगामा कर दिया।

पहले किया था सील

एमडीए के तहसीलदार व जोनल अधिकारी मनोज सिंह ने बताया कि सोफीपुर-लावड़ मार्ग पर प्लॉट संख्या ए-110 और ए-111 के मालिक अमित रस्तोगी और संजीव रस्तोगी हैं। इस आवासीय भूखंड पर बिना नक्शे के 28 दुकानों का कांप्लेक्स बना दिया गया। कई दुकानें बेच दीं जबकि बाकी किराये पर दे दी गईं। कई बार नोटिस भी दिए। एक सितंबर को कमिश्नर के आदेश पर अवैध कांप्लेक्स को सील कर दिया था। गुरुवार को एमडीए तहसीलदार टीम के साथ पल्लवपुरम और कंकरखेड़ा पुलिस को लेकर मौके पर पहुंचे और ध्वस्तीकरण की कार्रवाई शुरू करा दी।

वर्जन

कांप्लेक्स आवासीय कॉलोनी के पास है, जिसकी दीवार भी आसपास के मकानों से सटी है। चार दुकानों को ध्वस्त कर दिया। शेष दुकानों का बाहरी हिस्सा तोड़ा गया है। क्षेत्र में अन्य अवैध इमारतों पर भी कार्रवाई होगी।

मनोज सिंह

तहसीलदार


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.