नए कमिश्नर के समक्ष पटना को पटरी पर लाने की चुनौती

2019-10-19T05:45:29Z

-संजय अग्रवाल ने शुक्रवार को अपना पदभार संभाल लिया

PATNA: पटना के नए कमिश्नर और 2002 बैच के आइएएस संजय अग्रवाल ने शुक्रवार को अपना पदभार संभाल लिया। यह पद आनंद किशोर के नगर विकास सचिव बनने पर रिक्त हुआ। कर्मियों ने आनंद किशोर को विदाई दी व नए आयुक्त का स्वागत किया। संजय अग्रवाल के पास आयुक्त के अलावा परिवहन सचिव, राज्य पथ विकास निगम के प्रबंध निदेशक, आपदा प्रबंध विभाग के विशेष कार्य सचिव का पद भी है।

कार्यो में लानी होगी तेजी

कमिश्नर के रूप में उनके समक्ष अतिक्रमण बड़ी चुनौती है। पटना में जलजमाव के बाद शहर की बदहाल स्थिति हो गई है। चारों ओर गंदगी का अंबार लगा है। इससे निजात दिलाना नए आयुक्त के लिए कड़ी चुनौती होगी। प्रमंडलीय आयुक्त स्मार्ट सिटी के पदेन अध्यक्ष होते हैं, इसलिए उसके कार्यो में तेजी लानी होगी। आयुक्त की हैसियत से उन्हें नए मोटर वाहन अधिनियम के तहत बढ़े जुर्माने की राशि के बीच इस कानून का पालन कराने की भी चुनौती है। पटना जिले के साथ उनके समक्ष रोहतास, कैमूर, बक्सर, भोजपुर और नालंदा जिले के विकास कार्यो की चुनौती भी है। उनके कार्यभार ग्रहण करने के मौके पर पटना के जिलाधिकारी कुमार रवि, वरीय पुलिस अधीक्षक गरिमा मलिक, उप विकास आयुक्त सुहर्ष भगत, आरटीए सचिव सुशील कुमार आदि मौजूद थे।

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.