नया बिजली कनेक्शन लेना हुआ सस्ता उपभोक्ताओं को बड़ी राहत

2019-07-04T10:01:40Z

आखिरकार विद्युत उपभोक्ता परिषद की मेहनत रंग लाई अब यूपी में नया बिजली कनेक्शन लेना हुआ सस्ता

- 150 से 200 रुपये तक सस्ता होगा कनेक्शन

- 8 जुलाई से लागू हो जाएगा व्यवस्था

- प्रदेश में आठ जुलाई से सिस्टम लोडिंग चार्ज व्यवस्था समाप्त, मीटर कॉस्ट घटी

- नियामक आयोग का एतिहासिक आदेश, उपभोक्ता परिषद की मेहनत रंग लाई

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW: आखिरकार विद्युत उपभोक्ता परिषद की मेहनत रंग लाई. प्रदेश के बिजली उपभोक्ताओं को बड़ी राहत मिलने जा रही है. इसकी वजह यह है कि आठ जुलाई से सिस्टम लोडिंग चार्ज की व्यवस्था समाप्त होने जा रही है, जिससे नया बिजली कनेक्शन लेना 150 से 200 रुपये तक सस्ता हो जाएगा. विद्युत नियामक आयोग द्वारा गठित कानून बनाने वाली विद्युत वितरण संहिता रिव्यू पैनल कमेटी द्वारा 29 अप्रैल को पारित प्रस्ताव के बाद नियामक आयोग अध्यक्ष आरपी सिंह व सदस्य केके शर्मा द्वारा बुधवार को नई कॉस्ट डाटा बुक जारी कर दी गई है, जो पूरे प्रदेश में 8 जुलाई 2019 से लागू हो जायेगी.

फीस में कोई बदलाव नहीं
खास बात यह है कि घरेलू ग्रामीण किसानों व छोटे बिजली उपभोक्ताओं की सिक्योरिटी व प्रोसेसिंग फीस में कोई बदलाव नहीं किया गया है.

इस तरह समझें

1- पुरानी दर-1 किलोवॉट बीपीएल पुराने कनेक्शन की दर 1415 रु.

नई दर-1 किलोवॉट बीपीएल नये कनेक्शन की दर 1280 रु.

2-पुरानी दर-1 किलोवॉट पुराने कनेक्शन की दर 1755 रु.

नई दर-1 किलोवॉट नये कनेक्शन की दर 1620 रु.

3-पुरानी दर-2 किलोवॉट पुराने कनेक्शन की दर 2105 रु.

नई दर-2 किलोवॉट नये कनेक्शन की दर 1970 रु.

4-पुरानी दर-5 किलोवॉट पुराने कनेक्शन की दर 7100 रु.

नई दर-5 किलोवॉट नये कनेक्शन की दर 7057 रु.

सिक्योरिटी राशि में बढ़ोत्तरी
बड़े बिजली उपभोक्ताओं की सिक्योरिटी राशि में थोड़ी सी बढ़ोत्तरी की गई है. अतिरिक्त सिक्योरिटी राशि जमा कराने के मामले में अब 2 महीने के बिल के स्थान पर मात्र 45 दिन की व्यवस्था लागू होगी क्योंकि बिलिंग साइकिल 2 माह के स्थान पर अब एक माह पर आधारित होगी.

चार्जेज व स्टीमेट होता तैयार
कॉस्ट डाटा बुक के अनुसार ही उपभोक्ताओं को नया बिजली कनेक्शन, सिक्योरिटी सिस्टम लोडिंग चार्जेज व सभी प्रकार की लाइनों व स्टीमेट का प्राकलन तैयार किया जाता है. उप्र राज्य विद्युत उपभोक्ता परिषद के अध्यक्ष व विद्युत वितरण संहिता रिव्यू पैनल कमेटी के सदस्य अवधेश कुमार वर्मा ने बताया कि विद्युत अधिनियम 2003 लागू होने के बाद सिस्टम लोडिंग चार्ज की वसूली समाप्त कराने को लेकर उपभोक्ता परिषद लंबे समय से लड़ाई लड़ रहा था. उपभोक्ता परिषद के प्रस्ताव पर 29 अप्रैल को सर्वसम्मति से निर्णय ले लिया गया था, जिसके बाद आज नियामक आयोग द्वारा नयी कॉस्ट डाटा बुक जारी की गई.

40 मी. की परिधि तक लाइन फ्री
उपभोक्ता परिषद की इस मांग पर भी मुहर लगा दी गई है कि अब एलटी वितरण मेंस के आगे 40 मीटर तक दो उपभोक्ता एक साथ यदि बिजली कनेक्शन मांगते हैं तो उन्हें विभाग द्वारा एक खंभे की लाइन 40 मीटर की परिधि तक फ्री में बनाकर दी जायेगी. पहले यह व्यवस्था तीन कनेक्शन पर लागू थी. आयोग द्वारा इस व्यवस्था को और भी स्पष्ट कर दिया गया है कि अब सिंगल फेस पर कोई भी किसान 1 एचपी से 7 एचपी तक ट्यूबवेल का कनेक्शन ले सकता है.

मीटर की कॉस्ट घटी
कॉस्ट डाटा बुक में यह भी व्यवस्था लागू की गई है कि पहले जो मीटर की कॉस्ट सिंगल फेस कनेक्शन पर 980 रु. वसूल की जाती थी, अब उसे घटाकर 872 रु. कर दिया गया है. इसी प्रकार तीन फेस मीटर पर पहले जो 2956 रु. वसूला जाता था, अब वह 2668 रु. लिया जायेगा. प्रीपेड मीटर की दरें लगभग यथावत हैं लेकिन प्रीपेड 3 फेस मीटर की जो दर पहले 12 हजार रु. थी, उसे अब घटाकर 11341 रु. चार्ज किया जायेगा.


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.