अब जल्दी और सस्‍ते तरीके से होगा इबोला का इलाज

2014-11-19T15:56:05Z

वैज्ञानिकों ने जानलेवा और संक्रामक इबोला वायरस जीनोम की पहचान करने का एक सस्ता और प्रभावी तरीका विकसित कर लिया है फिलहाल इस घातक बीमारी पर काबू पाने का तरीका पर्याप्त निगरानी और सतर्कता ही है बुखार से पीडि़त मरीजों में आरएनए जीनोम के वायरल की पहचान से इबोला वायरस के संक्रमण की पुष्टि हो जाएगी

सुरक्षित वातावरण में होता इलाज
इस रिसर्च को करने वाले वैज्ञानिकों का कहना है कि आरएनए जीनोम के वायरल की पहचान से मरीज का इलाज आसानी से किया जा सकेगा. हालांकि इसके लिये मरीज को एक अलग और सुरक्षित वातावरण में रखना होता है. इसके बाद दूसरा कदम मरीज के संपर्क में आने वाले सभी लोगों की इबोला के संक्रमण की पहचान के लिए जांच की जाती है.
जांच नमूने में वायरल की मात्रा होती बहुत कम
अभी भी खून के नमूने से इबोला वायरल जीनोम की शृंखला बना पाना बहुत बड़ी चुनौती है. दरअसल जांच में लिए गए खून के नमूने में वायरल आरएनए की मात्रा बहुत ही कम होती है और इंसान का अपना आरएनए अत्यधिक होता है. उस पर भी गर्म मौसम में वायरल आरएनए में तेजी से बदलाव होता रहता है. इसके अलावा खून के नमूने को पूरी सतर्कता से संभाला नहीं गया तो भी वह इबोला संक्रमित है या नहीं पता करना मुश्किल होता है.
अमेरिका के ब्रॉड इंस्टीट्यूट के शोध के अनुसार इबोला वायरस के जीनोम की शृंखला को इंसानी आरएनए को दस दिनों के दौरान 80 फीसद से कम करके 0.5 फीसद तक ले आते हैं. उसके बाद इबोला संक्रमण वाले वायरल आरएनए की पहचान सरल हो जाती है.
विश्व बैंक और गेट्स फाउंडेशन ने दी रकम
अफ्रीकी देशों को इबोला वायरस से निपटने के लिए विश्व बैंक ने 28.50 डालर की रकम और बिल गेट्स की संस्था बिल एंड मिलेंडा गेट्स फाउंडेशन ने 57 लाख डालर दिए हैं. ये रकम इस बीमारी के इलाज और निदान पर शोध के लिए जारी की जा रही है. सियरा लियोन के हवाना में क्यूबा का एक डॉक्टर भी इबोला वायरस का शिकार हुआ है.

Hindi News from World News Desk

 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.