सोशल मीडिया से बढ़ा शॉपिंग का क्रेज

2016-05-23T07:40:52Z

- रिटेल बिजनेस को आनलाइन प्लेट फार्म देकर अपने बिजनेस को करें बूस्ट

- नेक्स्ट जेन रिटेल आइडियाज में जुटे रिटेलर्स, कहा आई नेक्स्ट का यूनीक है यह कांसेप्ट

LUCKNOW: अब समय सोशल मीडिया का है। कस्टमर इनके माध्यम से शॉपिंग के बारे में अपडेट रहता है और इनके कारण शॉपिंग का क्रेज भी बढ़ा है। इसलिए जरूरी हो गया है कि ऑनलाइन शॉपिंग करने वाले ग्राहकों को जोड़ने के लिए रिटेलर भी ऑनलाइन फंडे को अपनाएं। यह बातें संडे को आई नेक्स्ट की ओर से होटल जेमिनी कांटिनेंटल में आयोजित नेक्स्ट जेन रिटेल आइडियाज में कही गई। इस दौरान रिटेलर्स को डिजिटल और इनोवेटिव आइडियाज के माध्यम से अपने बिजनेस को बढ़ाने की जानकारी दी गई।

प्रिंट संग ऑनलाइन भी जरूरी

नेक्स्ट जेन रिटेल आइडियाज के प्रोजेक्ट हेड मनीष गुप्ता ने सेमिनार में मौजूद रिटेलर्स और एक्सप‌र्ट्स का स्वागत करते हुए बताया कि यह पहला मौका है जिसमें आई नेक्स्ट के प्रिंट मीडिया के साथ-साथ ऑनलाइन मीडिया से जुड़ने का मौका मिल रहा है। उन्होंने बताया कि युवा उपभोक्ताओं में इंटरनेट का चलन बढ़ा है। वे टीवी देखते हुए फेसबुक और व्हाट्सएप्प का उपयोग कर रहा होता है। अब सुबह उठते ही पेपर की जगह लोग अपना स्मार्टफोन चेक करते हैं। हमारे देश में 40 करोड़ लोग इंटरनेट यूज करते हैं जिसमें से 37 करोड़ मोबाइल पर इंटरनेट यूज करते हैं। इसमें वे फेसबुक और व्हाट्सएप्प जैसे मीडिया का उपयोग करते हैं। रिटेलर्स के लिए अब जरूरी है कि जो आपके कस्टमर्स हैं वे ऑनलाइन भी आपसे कनेक्ट रहें। ऑनलाइन बढ़ रही खरीददारी के कारण अब रिटेलर्स में चिंता बढ़ी है। इसलिए हमें नई स्ट्रेटजी के तहत आगे बढ़ना होगा। मोबाइल यूज कर रहे कस्टमर्स को भी जोड़े रखना होगा।

रणनीति के तहत करें काम

प्रोजेक्ट हेड मनीष गुप्ता ने बताया कि स्थानीय व्यापारी ऑनलाइन माध्यम अपनी सेल बढ़ा सकते हैं। अगर कोई नया प्रोडक्ट लांच करते हैं तो उसे इंटरनेट के जरिए प्रचारित करें। एक सर्वे के मुताबिक, ऑनलाइन प्रोडक्ट लांच करने से सेल में 20 परसेंट तक का इजाफा होता है। 90 परसेंट कस्टमर्स प्रोडक्ट के बारे में जानकारी लेना शुरू कर देते हैं। यह जरूरी नहीं कि ऑनलाइन बिजनेस तुरंत करें बल्कि व्हाट्सएप्प, फेसबुक व सोशल मीडिया पर आप अपने प्रोडक्ट सिर्फ डिस्पले भी कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि कैसे हम लखनऊ की चिकनकारी सहित अन्य बिजनेस को व‌र्ल्ड लेवल पर सेल कर सकते हैं।

ऑनलाइन बिजनेस को न करें इग्नोर

इस दौरान छप्पनभोग के ओनर रविंद्र गुप्ता ने बताया कि 1995 से ऑनलाइन स्टोर है लेकिन पिछले कुछ बरसों में जो बदलाव आया है उससे अब मंथली चेंजेज देखने को मिल रहे हैं। आज के समय में अपने बिजनेस की ग्रोथ को बनाए रखने के लिए वर्चुअल और रिटेल दोनों जगह उपस्थिति जरूरी है। दोनों ही एक-दूसरे को सपोर्ट कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि यूएस में ऑनलाइन वाले ग्रुप अब अपने वर्चुअल स्टोर ला रहे हैं। उनका मानना है कि कुछ प्रोडक्ट हैं जिन्हें बिना छुए नहीं सेल कर सकते। इसलिए हमें ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही माध्यम में ग्राहकों को अवसर देना होगा। ऑनलाइन बिजनेस को इग्नोर करना और वर्चुअल ही रखना अब ये संभव नहीं है।

प्रोग्राम बहुत अच्छा है। अपने प्रोडक्ट को तेजी से प्रमोट कर सकते हैं।

-तन्मय हेमंत चतुर्वेदी

मिदास इलेक्ट्रॉनिक।

रिटेलर्स के लिए आई नेक्स्ट का यह अच्छा प्रोग्राम है। इससे हम प्रिंट और डिजिटल मीडिया के द्वारा अपने बिजनेस को बढ़ा सकते हैं। हम पहले से ही ऑनलाइन बिजनेस कर रहे हैं और डिजिटली प्रमोट करने से फायदा मिलेगा।

-विक्रम मनसुखानी

तनिष्क।

आई नेक्स्ट की सोच अच्छी है। वह हमें प्रिंट के साथ ही ऑनलाइन पोर्टल पर लेकर जाएंगे जिसका फायदा मिलेगा।

-अभिषेक गुप्ता

श्री ग्लोबल हॉलिडेज।

टेक्नोलॉजी का फायदा रिटेलर्स उठा सकते हैं। यह अच्छा कांसेप्ट है। बहुत से बड़े स्टोर्स अब ऑनलाइन भी हैं। आज के समय में सोशल मीडिया रिटेल बिजनेस के लिए अच्छा माध्यम है।

-ऋषभ रस्तोगी

लेंसकार्ट।

रिटेल में पिछले एक डेढ़ साल में रिवोल्यूशनरी चेंज आ रहे हैं। व्यापारी चाहे न चाहे रिटेल में सर्वाइव करने के लिए डिजिटल मीडियम में जाना ही पड़ेगा। इसके लिए यह कार्यक्रम सराहनीय है।

-किशन चंद्र भंभवानी

लीला ब्रदर्स।

इस इवेंट से पता चला कि अपने बिजनेस को बढ़ाना है तो हमें ऑनलाइन मीडिया का भी सहारा लेना होगा। अब तक मैं ऑनलाइन ऑर्डर को मना करता था लेकिन अब करूंगा।

-एसके अग्रवाल

जायसवाल बैट्री।

आने वाले बरसों में ये बहुत अच्छा माध्यम होगा। आई नेक्स्ट को धन्यवाद जो इस प्लेटफॉर्म पर लेकर आए।

-पुलकित वर्मा

अंगूठी वाला द ज्वैलर्स।

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.