गर्व से कहेंगे हमारे घर बिजली

2018-12-06T06:00:25Z

-हर घर बिजली पहुंचाने के निर्धारित लक्ष्य 31 दिसंबर से पहले ही प्रोजेक्ट पूरा

-पश्चिम चंपारण के चंपापुर और रघिया में सोलर ग्रिड का शुभारंभ

CHAMPARAN/PATNA: सात निश्चय के तहत अब बिजली बिहार के हर घर में पहुंच गई है। अब राज्य का हर व्यक्ति गर्व से कहेगा कि हमारे घर में बिजली है। जो 20 से 22 घंटे तक निर्बाध गति से आपूर्ति होती है। वैसे तो बिहार के हर घर में बिजली पहुंचाने की योजना का लक्ष्य 31 दिसंबर 2018 निर्धारित किया गया था। लेकिन, ऊर्जा विभाग की तत्परता से इसको पहले ही पूरा कर लिया गया। यह बातें सीएम नीतीश कुमार ने कही।

128 घरों में होगी बिजली आपूर्ति

वे बुधवार को पश्चिम चंपारण जिले के रामनगर प्रखंड के सुदूरवर्ती चंपापुर व रघिया दोन में सोलर ग्रिड के उद्घाटन के बाद पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे। कहा - पश्चिम चंपारण का यह इलाका पहाड़ों के बीच में है। यहां पोल और तार लाना संभव नहीं था। इसलिए सरकार ने सोलर प्लांट स्थापित कर यहां के हर घर में बिजली की आपूर्ति कर दी है। सीएम ने चंपापुर में 20 किलोवाट एवं रघिया दोन में 10 किलोवाट के सोलर ग्रिड का उद्घाटन किया। चंपापुर सोलर ग्रिड से 128 एवं रघिया सोलर ग्रिड से 71 घरों में बिजली आपूर्ति होगी। यहां सोलर ग्रिड का संचालन जुलाई 2018 में ही हो गया था। कनेक्शन भी दे दिए गए थे। लेकिन, विधिवत उद्घाटन सीएम ने बुधवार को किया।

सौर ऊर्जा से रोशन होगा बिहार

सीएम ने कहा कि ये सोलर ग्रिड ट्रायल के रूप में लगाए गए हैं। पिछले 5 माह से दोनों ग्रिड से बिजली की आपूर्ति बेहतर ढंग से हो रही है। अब इस मॉडल को बिहार के उन सुदूरवर्ती गांवों में लगाया जाएगा, जहां तार व पोल ले जाने में कठिनाई है। ऊर्जा क्षेत्र में बिहार को आत्मनिर्भर बनाने की योजना है। इसके लिए जन जागरूकता जरूरी है। प्राकृतिक ऊर्जा का बेहतर इस्तेमाल करना सीखें। बिजली उत्पादन के लागत खर्च को घटाने के लिए सौर ऊर्जा का उपयोग जरूरी है। नीतीश कुमार ने कहा थारू और थरुहट से गहरा लगाव है। जब भी वक्त मिलता है, इनका दुख दर्द जानने आ जाता हूं। यह बिहार के सर्वाधिक पिछड़े इलाके में एक था। पिछले 10 वर्ष में यहां कायाकल्प हो गया।

यात्रा नहीं, यह विजिट है

सोलर ग्रिड व उसके आसपास वाल्मीकिनगर के सांसद द्वारा सीएम के स्वागत में बैनर पोस्टर लगाए गए थे। गौरव यात्रा का उल्लेख था। इसे देख नीतीश कुमार ने कहा कि अब यात्रा नहीं, विजिट चल रहा है। सभी जिलों में जहां अच्छा काम हो रहा है, वहां जाकर देखता हूं। कोशिश रहती है कि वह मॉडल पूरे बिहार में लागू हो।

विकास की प्रतिबद्धता दोहराई

सीएम ने फिर वाल्मीकिनगर में ईको टूरिज्म के रूप में विकसित करने की प्रतिबद्धता दोहराई। कहा कि वाल्मीकिनगर को विश्व के मानचित्र पर लाने का संकल्प लिया है। इसे अवश्य पूरा करेंगे। ¨सचाई विभाग ने ईको टूरिज्म के विकास के लिए अपनी 200 एकड़ भूमि वन विभाग को हस्तगत करने की तैयारी की है। ईको टूरिज्म का विकास कर लोगों को स्वरोजगार से जोड़ा जाएगा।

दूर करेंगे जलसंकट

गौनाहा प्रखंड के भतुजला में गंभीर जल संकट है। वर्षों से पानी की समस्या से जूझ रहे हैं। सरकार की ओर से समाधान के लिए योजना बनाई गई है। जल्द ही वहां स्वच्छ पेयजल की व्यवस्था होगी।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.