सीएम योगी से शिकायत करना है तो 1076 पर करें काॅल 24 घंटे चालू रहेगा ये नंबर

2019-07-05T15:22:07Z

जनता की शिकायतों के त्वरित निस्तारण के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को मुख्यमंत्री नंबर 1076 का लोकार्पण किया।

- सीएम योगी ने मुख्यमंत्री हेल्पलाइन का किया आगाज
- शिकायतें निस्तारित न करने वाले अफसरों पर होगी सख्ती

- 24 घंटे लगातार काम करेगी, सीएम खुद भी करेंगे कई जांच
lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : इस दौरान मुख्यमंत्री ने उन अफसरों को सख्त संदेश भी दिया जो जनता की शिकायतों के निस्तारण में रुचि नहीं दर्शाते है और इस वजह से उनको लंबा सफर तय करके मुख्यमंत्री के जनता दर्शन में आना पड़ता है। मुख्यमंत्री ने साफ शब्दों में कहा कि अब जिस अफसर ने जनता की शिकायतों पर ध्यान नहीं दिया, उसकी एसीआर में प्रतिकूल प्रविष्टि की जाएगी। वे खुद भी हर महीने 100 शिकायतों की जांच करेंगे। ये हेल्पलाइन लगातार 24 घंटे काम करेगी।
झूठी शिकायत पर होगी कार्रवाई
सीएम योगी ने कहा कि इस हेल्पलाइन में शिकायतकर्ता प्रदेश में किसी भी स्थान से फोन करके अपनी शिकायत दर्ज करवा सकता है। अब 360 डिग्री को अपनाकर काम करना होगा। यह हेल्पलाइन शिकायतकर्ता की परेशानी का जब तक निराकरण नहीं करती तब तक इसका फॉलोअप किया जाएगा। शिकायत तभी क्लोज होगी जब शिकायतकर्ता खुद कहेगा कि उसकी समस्या का समाधान हो गया है। यदि इस दौरान कोई झूठी शिकायत करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। प्रदेश की जनता के प्रति सरकार की जवाबदेही को यह हेल्पलाइन तय करेगी। हमें जनता के बीच जाकर पता चला है कि जो लाभार्थी है, उनको यही नहीं पता है की जो सुविधा उन्हें मिली है, वह सरकार द्वारा मिली है। इसका कारण सिर्फ  संवादहीनता थी।
किसी भी विभाग की करें शिकायत
मुख्यमंत्री ने कहा कि इस हेल्पलाइन नंबर के जरिए एक दिन में 80 हजार इनबाउंड कॉल्स तथा 55 हजार आउटबांड कॉल्स की क्षमता है। इसके माध्यम से किसी भी विभाग से जुड़ी समस्या को दर्ज कराया जा सकता है। शिकायत करने के 3-4 दिन के भीतर शिकायतकर्ता से इस बात की जानकारी ली जाएगी कि उनके द्वारा की गई शिकायत का निस्तारण हुआ कि नहीं। शिकायतकर्ता ही यह वेरीफाई करेगा। जो अफसर समस्या का समाधान नहीं करेंगे, उनके खिलाफ  एक्शन लिया जाएगा। अब तक प्रदेश के दूरदराज के इलाकों से लोगों को सैकड़ों रुपये खर्च कर अपनी समस्या के निराकरण के लिए लखनऊ आना पड़ता था। इस हेल्पलाइन के शुरू हो जाने से वह घर बैठकर अपनी समस्या शासन तक पहुंचा पाएगा। इस हेल्पलाइन के शुरू होने से 500 नवयुवक एवं युवतियों को रोजगार प्राप्त हुआ है।
दो वर्ष से था इंतजार
उल्लेखनीय है कि सरकार गठन के बाद मुख्यमंत्री ने इस हेल्पलाइन की शुरुआत करने की घोषणा की थी पर यह योजना परवान नहीं चढ़ पा रही थी। अब तक आईजीआरएस पर लोगों को शिकायत करने की सुविधा थी पर इसके अपेक्षित नतीजे नहीं मिल पा रहे थे। मुख्यमंत्री ने हेल्पलाइन के लोकार्पण के अवसर पर खुद कहा कि कई जिलों और विभागों का शिकायतों के निस्तारण में बेहद खराब प्रदर्शन रहा है। मुख्यमंत्री बनने के बाद लगातार हमने जनता दर्शन का कार्यक्रम रखा जिसमें 22 लाख मामले सामने आए, इसमें 20 लाख मामलों का निस्तारण किया गया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने हेल्पलाइन 1076 के लोगो का निर्माण करने वाले राजवीर सिंह को प्रमाण पत्र और 21 हजार का चेक देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर डिप्टी सीएम डॉ। दिनेश शर्मा, मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय, अपर मुख्य सचिव आईटी एंड इलेक्ट्रानिक्स आलोक सिन्हा समेत सभी वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।

इन जिलों में सर्वाधिक लंबित मामले

लखनऊ, गोरखपुर, प्रयागराज, गौतमबुद्धनगर, अयोध्या, कौशांबी, कानपुर नगर, प्रतापगढ़, गाजियाबाद, बहराइच, अलीगढ़, मुरादाबाद, हरदोई, गोण्डा व बलिया।
सीएम याेगी बोले, नहीं चलेंगे बहाने एसएसपी जाएंगे थाने-थाने
फैक्ट मीटर
- 24 घंटे लगातार काम करती रहेगी सीएम हेल्पलाइन
- 80,000 इनबाउंड, 55,000 आउटबांड कॉल्स की क्षमता
- 5000 सीटों का बनाया गया है हेल्पलाइन का कॉल सेंटर
- 1000 सीटों का भविष्य में विस्तार करने की है योजना
- 102,108 और आईजीआरएस को हेल्पलाइन से जोड़ा गया
-1090 से भी इसे जल्द जोडऩे की चल रही है तैयारी



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.