अब पब्लिक के पार्को में बैठने पर भी शुल्क लगाने की तैयारी

2019-11-17T05:45:52Z

आगरा। शहर में एयर पॉल्यूशन का ग्राफ लगातार बढ़ता ही जा रहा है। लोगों का सांस लेना भी दूभर है। ऐसे में लोगों के पास टहलने-बैठने को पार्को का ही सहारा बचता है। अब उनमें बैठने पर भी शुल्क लगाने की तैयारी की जा रही है। दो महीने पहले पालीवाल पार्क और शाहजहां गार्डन के बाद अब कंपनी गार्डन (सरदार वल्लभ भाई पटेल गार्डन) में भी शुल्क लगाने की तैयारी की जा रही है। इसके लिए प्रस्ताव तैयार किया गया है। बड़ा सवाल ये हैं जहां एयर पॉल्यूशन से लोगों का दम सरीखा घुट रहा हो, लोग आखिरकार जाएं तो कहां? जिम्मेदारों को इसका जवाब तलाशना चाहिए।

शुल्क लेने लायक सुविधाएं तो विकसित करो

शहजादी मंडी स्थित कंपनी गार्डन अंग्रेजों के समय का गार्डन है। यहां आसपास के तकरीबन आठ हजार लोगों आवागमन होता है। सुबह-शाम के समय लोग यहां बैठने व टहलने को आते हैं। इस क्षेत्र में देखा जाए तो आसपास इसके अलावा कोई और गार्डन नहीं है। जबकि व्यवस्थाओं के नाम पर पार्क में कुछ टूटे झूलों के अलावा कुछ भी नहीं है।

कैंटोनमेंट बोर्ड की मीटिंग में रखा प्रस्ताव

कंपनी गार्डन में पांच रुपये शुल्क लगाने का प्रस्ताव तैयार किया गया है। इस प्रस्ताव को कैंटोनमेंट बोर्ड की मीटिंग में रखा जाएगा। मीटिंग में पास होते ही इसको लागू कर दिया जाएगा।

यहां लिया जाता है शुल्क

शुल्क

पालीवाल पार्क पांच रुपये

शाहजहां गार्डन पांच रुपये

सुभाष पार्क 10 रुपये

फीस से आई कमी

गौरतलब है किपार्को में शुल्क लागू होने के बाद पहले की अपेक्षा लोगों की संख्या में काफी कमी दर्ज की गई है। पालीवाल पार्क में पहले जहां रोजाना 1000-1500 लोगों का सुबह से शाम तक आना जाना बना रहता था, वहीं अब ये संख्या सैकड़ों में सिमट कर रह गई है।

पार्को में ये होनी चाहिए बुनियादी सुविधाएं

- टहलने के लिए पाथवे होना चाहिए

- पब्लिक के लिए बैठने के लिए सीमेंटेड बेंच की व्यवस्था होनी चाहिए

- सौन्दर्य प्रसाधन संबंधी सुविधा

- ओपन एयर जिम

- शुद्ध पेयजल की व्यवस्था

- योग के लिए उपयुक्त स्थान

- बच्चों के खेलकूद के लिए व्यवस्था होनी चाहिए

- पार्किंग के लिए व्यवस्था

- पर्याप्त पौधे, हरियाली होनी चाहिए

- पार्क की चाहरदीवारी और पेड़ों की सिंचाई की व्यवस्था

बॉक्स में

150 पार्को के सौंदर्यीकरण का दावा

सिटी में नगर निगम के 459 पार्क हैं। कागजों में 170 दुरुस्त हैं। वहीं, अधिकारियों का दावा है कि 150 पार्को का सौन्दर्यीकरण हो चुका है। इसके अलावा ताजनगरी फेस-2, कालिंदी विहार, शास्त्रीपुरम आदि स्थानों पर आगरा विकास प्राधिकरण के 85 से ज्यादा पार्क हैं। ये भी विकसित नहीं हैं। इसमें अमृत योजना के तहत 18 पार्को को विकसित करने की योजना थी। नगर निगम के अफसरों की मानें तो 72.42 करोड़ से सड़क, नाले, स्ट्रीट लाइट सॉलिड वेस्ट, हरियाली समेत सौन्दर्यीकरण किया गया है। उसमें बल्केश्वर पार्क, जयपुर हाउस पार्क, शहीद नगर पार्क, बिजलीघर पार्क समेत ऐसे पार्क, जहां सार्वजनिक रूप से ज्यादा लोग जुटते हैं। उनको विकसित किया गया है। स्वदेश दर्शन योजना के तहत शाहजहां र्गाडन में 1.20 करोड़ की लागत से म्यूजिकल फाउंटेन लगाया जाना प्रस्तावित है।

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.