कस्तूरबा स्कूल में अब 12वीं तक की पढ़ाई

2018-09-08T06:00:25Z

-स्पो‌र्ट्स और पुस्तकालय के लिए मिलेंगे पांच से बीस लाख रुपए

श्चड्डह्लठ्ठड्ड@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

क्कन्ञ्जहृन्: कस्तूरबा बालिका विद्यालयों में अब 12वीं कक्षा तक की पढ़ाई होगी। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने राज्य सरकार को निर्देश दिए हैं कि कस्तूरबा विद्यालयों में 100 की बजाय 200 बालिकाओं के रहने की व्यवस्था की जाए और उसी के आधार पर नए भवन बनाए जाएं। शुक्रवार को केंद्रीय शिक्षा मंत्री प्रकाश जावडेकर ने वीडियो कांफ्रेंस कर समग्र शिक्षा के साथ ही कस्तूरबा बालिका विद्यालयों में नई व्यवस्था लागू करने को लेकर शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव आरके महाजन के साथ योजनाओं की समीक्षा की। बैठक में शिक्षा के अपर सचिव मनोज कुमार और जनशिक्षा निदेशक विनोदानंद झा मौजूद थे।

प्रशिक्षण पर भी लगातार करें काम

समग्र शिक्षा अभियान की चर्चा करते जावडेकर ने कहा कि समग्र शिक्षा अभियान के तहत केंद्र सरकार प्रदेश के सरकारी स्कूलों में स्पो‌र्ट्स सामग्री की खरीद और लाइब्रेरी की स्थापना और किताबों की खरीदारी के लिए प्रत्येक स्कूल को पांच से 20 हजार रुपए तक देगी। कांफ्रेंस के दौरान केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री ने राज्य सरकार से कहा कि स्कूलों के अपग्रेडेशन की प्रक्रिया निरंतर चलनी चाहिए। प्रधान सचिव शिक्षा महाजन ने उन्हें जानकारी दी कि प्रदेश में स्कूलों के यह प्रक्रिया निरंतर चल रही है। जावडेकर ने कहा राज्य सरकार को एससीईआरटी को मजबूत करने के लिए भी काम करना चाहिए साथ ही शिक्षकों के प्रशिक्षण और क्वालिटी पर भी लगातार काम होना चाहिए।

गांधी पुस्तक के लिए ले सकते हैं बिहार की मदद

प्रकाश जावडेकर ने कांफ्रेंस में शामिल दूसरे राज्यों से कहा कि महात्मा गांधी की 150वीं वर्षगांठ पर यदि कोई राज्य गांधी पर आधारित पुस्तकें प्रकाशित करना चाहता है तो बिहार की मदद ले सकता है। उन्होंने कहा कि बिहार के सरकारी स्कूलों में बच्चों के बीच बापू की कहानियों का लगातार पाठ हो रहा है यह सराहनीय पहल है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.