मिलिए 26 साल की शूटर अंजुम से, जिन्हें देश के सबसे बड़े खेल पुरस्कार 'खेल रत्न' के लिए किया गया नॉमिनेट

2020-05-15T12:14:48Z

देश के सबसे बड़े खेल अवार्ड राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार के लिए नेशनल राइफल एसोसिएशन ने अंजुम मुदगिल को नॉमिनेट किया है। वहीं द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिए संस्था ने जसपाल राणा का नाम भेजा।

नई दिल्ली (पीटीआई)। नेशनल राइफल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (NRAI) ने राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार के लिए अंजुम मुदगिल को नॉमिनेट किया है। वहीं द्रोणाचार्य अवार्ड के लिए जसपाल राणा को लगातार दूसरे साल नामित किया गया। 2008 में शूटिंग शुरू करने वाली 26 वर्षीय शूटर अंजुम पहले दो भारतीयों में से हैं जिन्होंने टोक्यो ओलंपिक के लिए कोटा स्थान हासिल किया है। एनआरएआई ने गुरुवार को कहा कि वह खेल मंत्रालय को प्रतिष्ठित अर्जुन पुरस्कार के लिए चैंपियन पिस्टल निशानेबाजों सौरभ चौधरी, अभिषेक वर्मा, मनु भाकर और होनहार राइफल शूटर इलावेनिल वलारिवन के नाम भेजेगा। महासंघ के सूत्रों के अनुसार, गुरुवार को भाकर और वालारिवन का नाम सूची में जोड़ा गया।

एनआरएआई को उम्मीद, मिलेगा पुरस्कार

एनआरएआई के अध्यक्ष रणिंदर सिंह ने एक बयान में कहा, "हमारे निशानेबाजों का पिछले सीजन में शानदार प्रदर्शन रहा था और इस समय के लिए चयन करना विशेष रूप से कठिन था। मैं चाहता हूं कि जो लोग इस साल नॉमिनेशन में शामिल नहीं हो सके, उन्हें अगले साल मौका मिल सकता है।' अध्यक्ष ने आगे कहा, 'मेरा मानना ​​है कि सभी समान रूप से प्रतिभाशाली हैं और निश्चित रूप से समृद्ध पुरस्कार प्राप्त करेंगे यदि वे जिस तरह से हैं उस पर चलते हैं।" फेडरेशन के एक सूत्र ने बताया कि अंजुम मुदगिल को खेल रत्न के लिए नामित किया गया है जबकि एनआरएआई ने फिर से द्रोणाचार्य के लिए जसपाल का नाम भेजा है। उन्होंने हमेशा माना है कि वह इसके हकदार हैं और उम्मीद कर रहे हैं कि उन्हें इस बार मिल जाएगा।

कौन हैं खेल रत्न की दावेदार अंजुम

चंडीगढ़ की शूटर अंजुम ने 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में ओलंपिक कोटा हायिल किया है। उन्होंने 2008 में करियर की शुरुआत की जब कोरिया में आईएसएसएफ विश्व कप में रजत पदक जीता। पिछले साल, इस युवा शूटर ने दिव्यांश सिंह पंवार के साथ मिलकर म्यूनिख और बीजिंग में ISSF विश्व कप में 10 मीटर एयर राइफल मिश्रित टीम स्वर्ण पदक का दावा किया। वह म्यूनिख और रियो डी जेनेरियो में आईएसएसएफ विश्व कप में 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा के फाइनल में भी पहुंची। पिछले दिसंबर में, भोपाल में 63 वीं राष्ट्रीय शूटिंग चैम्पियनशिप में महिलाओं की 50 मीटर 3 पी स्पर्धा में भी मुदगिल ने खिताब जीता।

द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिए राणा का नाम

द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिए नॉमिनेट किए गए 43 वर्षीय राणा, कई बेहतरीन खिलाडिय़ों को ट्रेन कर चुके हैं। पिछली बार की अनदेखी के बावजूद हाल के वर्षों में युवा निशानेबाजों की शानदार सफलता के बावजूद, राणा उम्मीद कर रहे हैं कि चयन "निष्पक्ष" है और सबसे योग्य उम्मीदवार को मान्यता दी गई है। द्रोणाचार्य पुरस्कार प्रतिष्ठित प्रशिक्षकों को सम्मानित करने के लिए दिए जाते हैं जिन्होंने खिलाडिय़ों या टीमों को सफलतापूर्वक प्रशिक्षित किया है और उन्हें अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में उत्कृष्ट परिणाम प्राप्त करने में सक्षम बनाया है। यह पुरस्कार 5 लाख रुपये का नकद पुरस्कार देता है।

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.