सीता नवमी पर्व आज ही के दिन धरती से जन्मी थीं सीता रखें व्रत और पाएं ये मानचाहे फल

2019-05-12T16:03:18Z

श्रीजानकीनवमी के पावन पर्व पर जो व्रत रखता है तथा भगवान् श्रीरामचन्द्रसहित भगवती सीता का अपनी शक्ति के अनुसार भक्तिभाव पूर्वक विधि विधान से सोत्साह पूजन वन्दन करता है उसे ये मनचाहे फल मिलते हैं

सीता नवमी पर व्रत रख पूजन करें
हिन्दू समाज में जिस प्रकार श्रीरामनवमी का माहात्म्य है, उसी प्रकार जानकी नवमी का भी है ।  वैष्णवों के मतानुसार वैशाख शुक्ल नवमी को भगवती जानकी का प्रादुर्भाव हुआ था। अतएव इस दिन व्रत रहकर उनका जन्मोत्सव तथा पूजन करना चाहिये। जो इस वर्ष सोमवार 13 मई को पड़ रही है। हिन्दू मात्र के परमाराध्य सीता जी के आविर्भाव का ये दिवस अति पावन एवं महत्वपूर्ण है।


इस पर्व पर व्रत रखने वाले को मिलते हैं ये फल

श्रीजानकीनवमी के पावन पर्व पर जो व्रत रखता है तथा भगवान् श्रीरामचन्द्रसहित भगवती सीता का अपनी शक्ति के अनुसार भक्तिभाव पूर्वक विधि विधान से सोत्साह पूजन वन्दन करता है, उसे  पृथ्वी दान का फल और सर्वभूत-दया का फल, अखिल तीर्थ- भ्रमण का फल अनायास ही मिल जाता है। भगवती श्रीसीताकी प्रसन्नता समस्त मंगलों का मूल है। अत: श्रीसीतानवमी -व्रत आत्मकल्याणार्थी के लिए सर्वथा आचरणीय है।

गंगा सप्तमी: जानिए ऋषि की कहानी जिन्होंने अपने कान से गंगा को धरती पर छोड़ा

आर्थिक राशिफल 12 से 18 मई : नई साझेदारी और छोटे निवेश का लाभ मिलेगा, लेकिन दिमाग से व्यापार करने का समय है
हल की नोक को भी कहते हैं 'सीता'
वैशाख मास की शुक्ल नवमी को जबकि पुष्य नक्षत्र था, मंगल के दिन सन्तान-प्राप्ति की कामना से यज्ञ की भूमि तैयार करने के लिए राजा जनक हल से भूमि जोत रहे थे, उसी समय पृथ्वी से उक्त देवी का प्राकट्य हुआ। जोती हुई भूमि को तथा हल की नोक को भी 'सीता' कहते हैं । अत: प्रादुर्भूता भगवती विश्व में सीता नाम से विख्यात हुई। इसी नवमी की पावन तिथि को भगवती सीता का प्राकट्योत्सव मनाया जाता है।
ज्योतिषाचार्य पं. गणेश प्रसाद मिश्र


Posted By: Vandana Sharma

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.