पहले दिन चाकचौबंद दिखा अमला डिप्टी सीएम भी पहुंचे कई सेंटर

2019-02-08T06:01:06Z

- कई सेंटर्स पर नहीं काम करते मिले सीसीटीवी और वायस रिकार्डर

- एक केंद्र पर बिजली न आने से स्टूडेंट्स को हुई परेशानी

- जेडी कार्यालय के कंट्रोल रूम को फोन भी हुआ डेड

- पुराने आईकार्ड पर ड्यूटी करते मिले एक सेंटर पर टीचर

- यूपी बोर्ड हाईस्कूल और इंटर के एग्जाम शुरू

- पुख्ता तैयारियों के दावों के बाद भी कई जगह मिली कमियां

LUCKNOW :

यूपी बोर्ड हाईस्कूल व इंटरमीडिएट एग्जाम गुरुवार से शुरू हो गए। पहले दिन हाईस्कूल में संगीत वादन और इंटर में काष्ठ शिल्प का पेपर होने के कारण स्टूडेंट्स की संख्या काफी कम सेंटर्स पर रही। डीएवी इंटर कॉलेज सहित कई सेंटर्स पर सुबह की पाली में स्टूडेंट्स से ज्यादा पुलिस और जिला प्रशासन की टीम दिखाई दी। वहीं एग्जाम के पहले ही दिन कई सेंटर्स पर सीसीटीवी और वायस रिकार्डर काम नहीं कर रहे थे, वहीं एक केंद्र पर बिजली न आने से भी स्टूडेंट्स को काफी परेशानी हुई।

नहीं लगे दो कैमरे

गुरुवार को सुबह की पाली में 50 केंद्रों पर हाईस्कूल में संगीत वादन और इंटर में काष्ठ शिल्प, ग्रंथ शिल्प और सिलाई विषय की परीक्षा थी। राजकीय दृष्टबाधित इंटर कॉलेज पर सुबह दो कमरों में एग्जाम कराया गया। यहां कमरों में सिर्फ एक-एक सीसीटीवी लगा था। वायस रिकार्डर तो था ही नहीं था। जबकि डीआईओएस डॉ। मुकेश कुमार सिंह ने निर्देश दिए थे कि हर कमरे में दो कैमरे लगाए जाएं। गिरधारी सिंह इंटर कॉलेज में बिजली नहीं आ रही थी और जनरेटर भी काम नहीं कर रहा था। यहां मोमबत्ती की रोशनी में एग्जाम कराया गया। लाला गणेश प्रसाद बालिका इंटर कॉलेज गोसाईगंज में सीसीटीवी में लगा वायस रिकार्डर काम नहीं करता मिला।

बाक्स

पुलिसकर्मी ने पहुंचाया सेंटर

इंटर की एक छात्रा दोपहर दो बजे गुरुनानक बालिका इंटर कॉलेज बासमंडी पहुंची। वहां उसे पता चला कि उसका सेंटर गुरुनानक इंटर कॉलेज चंदन नगर में है। इस पर वह एग्जाम छूटने के डर से रोने लगी तो वहां मौजूद एक पुलिसकर्मी ने उसे अपने साधन से सेंटर तक पहुंचाया।

बाक्स

जेडी कार्यालय कंट्रोल रूम ठप

एग्जाम के लिए जेडी सुरेंद्र तिवारी ने अपने कार्यालय में कंट्रोल रूम बनाया है। इसका फोन नंबर 0522-2254070 सुबह से ही डेड हो गया। जिससे कंट्रोल रूम के सदस्यों को सूचनाएं मिलने में दिक्कतें हुई।

स्कूल प्रबंधक की शिकायत

बोर्ड एग्जाम शुरू होते ही प्रवेशपत्र न दिए जाने के मामले सामने आने लगे। गुरुवार को डीआईओएस के पास डीबीआर पब्लिक इंटर कॉलेज, मलिहाबाद में पढ़ने वाली इंटर की छात्रा ने फोन किया। छात्रा ने डीआईओएस को बताया कि फीस बाकी होने की वजह से उसे प्रवेशपत्र नहीं दिया जा रहा है। इस पर डीआईओएस ने स्कूल संचालक को फटकार लगाई और तत्काल प्रवेशपत्र देने को कहा। वहीं कई स्कूलों में शिक्षक पुराने आईकार्ड से ड्यूटी करते मिले। पता चला कि स्कूल प्रशासन ने नए फार्मेट पर कार्ड नहीं बनवाए हैं। इस पर उन्हें नए कार्ड तत्काल बनवाने के निर्देश दिए गए। एक केंद्र पर कॉपियां अव्यवस्थित तरीके से रखी मिलीं।

बाक्स

डिप्टी सीएम भी पहुंचे सेंटर

डिप्टी सीएम डॉ। दिनेश शर्मा एग्जाम के पहले दिन कई सेंटर्स का निरीक्षण करने पहुंचे। वे सबसे पहले नवयुग कन्या इंटर कॉलेज गए, जहां उन्होंने सीसीटीवी और वायस रिकार्डर चेक किए। उसके बाद वे महाराजा अग्रसेन इंटर कॉलेज और गुरुनानक ग‌र्ल्स इंटर कॉलेज बासमंडी गए। यहां भी उन्हें व्यवस्था दुरुस्त मिली। उन्होंने निर्देश दिए कि एग्जाम में नकल नहीं होनी चाहिए। वहीं शाम को अपर मुख्य सचिव आरके तिवारी ने भी सेंटीनियल इंटर कॉलेज, लखनऊ मांटेसरी इंटर कॉलेज सहित कई एग्जाम सेंटर्स का दौरा किया। उनके साथ डीआईओएस डॉ। मुकेश कुमार सिंह भी मौजूद थे।

बाक्स

बिना आईडी एग्जाम दे रहे थे स्टूडेंट

राजकीय इंटर कॉलेज निशातगंज, एमकेएसडी इंटर कॉलेज में दोपहर की पाली में इंटर के बहुत से स्टूडेंट्स के पास आईकार्ड नहीं था। इनमें प्राइवेट स्टूडेंट्स भी शामिल थे। इस पर उन्हें आईडी के रूप में आधारकार्ड अनिवार्य रूप से लाने के निर्देश दिए गए। राजकीय इंटर कॉलेज निशातगंज में स्टूडेंट्स जूते-मोजे पहनकर एग्जाम दे रहे थे। फ्लाइंग स्क्वॉयड ने इन स्टूडेंट्स के जूते-मोजे उतरवाए।

ड्यूटी पर नहीं पहुंचे टीचर

निगोहां के सत्यनारायण तिवारी इंटर कॉलेज में 32 कक्ष निरीक्षकों ने एग्जाम के पहले दिन उपस्थिति दर्ज नही कराई। केंद्र व्यवस्थापक व प्रिंसिपल डॉ। भुवनेश चन्द्र शुक्ला ने बताया कि उनके कॉलेज में कुल 1159 बच्चों का सेंटर है।

शत प्रतिशत ने दिया एग्जाम

पहली पाली हाईस्कूल में संगीत गायन के एग्जाम में 711 में से 612 स्टूडेंट्स उपस्थित हुए। इंटर की प्रथम पाली में काष्ठ शिल्प के एग्जाम में दो छात्रों को परीक्षा देनी थी, दोनो ही मौजूद रहे। दूसरी पाली में दोपहर दो से 5:15 बजे के बीच इंटर मनोविज्ञान में 486 में 470, शिक्षाशास्त्र में 9604 में 8961 और तर्कशास्त्र में 22 में सभी उपस्थित रहे।

बाक्स

आकड़ों की नजर में पहला दिन

- पहली पाली (हाईस्कूलल) में 20 सेंटर्स पर एग्जाम

- दूसरी पाली (इंटर) में 24 सेंटर्स पर एग्जाम

- हाईस्कूल में पहले दिन 913 स्टूडेंट्स को देना था एग्जाम

- हाईस्कूल में 118 ने नहीं दिया एग्जाम

- इंटर में पहले दिन 10112 स्टूडेंट्स को देना था एग्जाम

- इंटर के एग्जाम में पहले दिन गैरहाजिर रहे 659 स्टूडेंट्स


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.