मोबाइल ने ले ली दोस्ती की बलि

2019-01-21T06:00:11Z

मोबाइल चोरी के शक पर दोस्त ने घर से बुलाकर की हत्या

धूमनगंज थाना क्षेत्र के मीरापट्टी इलाके में रविवार शाम मारी गोली

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: धूमनगंज थाना क्षेत्र के मीरापट्टी स्थित यादव गेस्ट हाउस के पास प्रदीप सिंह चौहान नामक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी गई। आरोपित दोस्त मौके से फरार हो गए। आसपास के लोगों ने धूमनगंज थाने पर सूचना देने के साथ उसे एसआरएन अस्पताल पहुंचाया। वहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। सूचान पर एसएसपी नितिन तिवारी एसआरएन पहुंचे और मृतक के परिजनों से हत्या के संबंध में पूछताछ की। इस बीच ये भी पता चला है कि प्रदीप को उसके घर के पास उठाया गया था। प्रदीप हाल ही में लूट के मामले में नैनी जेल से जमानत पर छूटा था। मामले में मोबाइल चोरी को हत्या का कारण बताया जा रहा है।

जनपद इटावा के थाना बखेवर के लखना गांव के लाखन सिंह चौहान के दो बेटों में प्रदीप सिंह चौहान बड़ा था। वह परिवार के साथ मीरापट्टी इलाके में रहता था। करीब तीन साल पहले परिवार के लोग वापस गांव चले गए। प्रदीप पूर्व में स्टेशन पर वेंडर का काम करता था। बाद में मुंडेरा मंडी में आढ़त का काम करने लगा। रविवार शाम प्रदीप को उसके दोस्त संदीप ने फोन कर यादव गेस्ट हाउस के पास बुलाया। वहां पहुंचने पर संदीप ने विवाद कर लिया। इस दौरान संदीप का भाई आशीष भी साथ में था। दोनों के बीच विवाद बढने पर संदीप ने कमर में रखा असलहा निकाला और प्रदीप को गोली मार दी। गोली लगते ही प्रदीप जमीन पर गिर गया। गोली चलते इलाके में अफरा तफरी मच गई। जब तक प्रदीप को अस्पताल ले जाया जाता उसकी मौत हो गई।

मोबाइल चोरी का था शक

घटना के बाद मृतक के दोस्तों में इस बात की चर्चा थी कि शनिवार को संदीप के घर से उसका मोबाइल चोरी हो गया था। संदीप को शक था कि प्रदीप ने मोबाइल चोरी किया है। इस बात को लेकर संदीप ने प्रदीप को बुलाया तो दोनों में कहासुनी हो गई। प्रदीप के दोस्त रोहित ने बताया कि दोनों कई साल से गहरे दोस्त थे। अधिकतर समय साथ बिताते थे। प्रदीप अविवाहित था। घर में मां, बाप व एक छोटा भाई है।

मोबाइल चोरी को लेकर हत्या को अंजाम दिया गया है। आरोपितों की पहचान हो गई है। गिरफ्तारी के लिए पलिस छापेमारी कर रही है। मृतक पर कई अपराधिक मुकदमें दर्ज होने की बात भी सामने आयी है। जांच पड़ताल की जा रही है। जल्द ही सभी आरोपितों को पकड़ लिया जाएगा।

नितिन तिवारी, एसएसपी


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.