पाक पीएम इमरान खान को गाड़ियों की नीलामी में मिला उम्मीद से कम पैसा

2018-09-18T11:53:00Z

नव निर्वाचित पाकिस्तानी पीएम इमरान खान को गाड़ियों की नीलामी में उम्मीद से कम पैसा मिला है।

इस्लामाबाद (रॉयटर्स)। पाकिस्तानी सरकारी वाहनों की नीलामी में उम्मीद से कम बिक्री ने नए पाक पीएम इमरान खान की अपेक्षाओं पर पानी फेर दिया है। सरकारी अधिकारी मोहम्मद असिफ ने मीडिया को बताया कि सोमवार को नीलामी में 200 मिलियन रुपये (1।6 मिलियन डॉलर) की वृद्धि हुई और यह अनुमानित राशि का केवल दसवां हिस्सा है। उन्होंने बताया कि नीलामी में 100 से अधिक सरकारी वाहनों में से सिर्फ 61 ही बिके। बता दें कि 65 वर्षीय पूर्व क्रिकेट स्टार इमरान खान ने पिछले महीने अपना पदभार संभालने के बाद 50 वर्षों से अधिक देश में शासन करने वाले दो मुख्य राजनीतिक दलों पर भ्रष्टाचार करने का आरोप लगाया था और उसकी खूब निंदा की थी।

देश को आगे बढ़ाने के लिए यह कदम

खान ने लोगों से वादा किया था कि वे सरकारी खर्चों में कटौती कर देश को आगे बढ़ाएंगे। उन्होंने शुक्रवार को एक भाषण में कहा, 'यह मानसिकता में बदलाव है। मैं उन सभी रुपये की गिनती कर रहा हूं, जो मुझपर खर्च हो रहे हैं।' बता दें कि हाल ही में इमरान खान अपने ऊपर होने वाले खर्च को लेकर विवादों में घिर गए थे। पाकिस्तानी मीडिया का कहना था जब से इमरान खान ने देश के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली है, तब से अब तक वे अपने घर से पीएम आवास तक आने-जाने के लिए हेलिकॉप्टर (चॉपर) का इस्तेमाल करते हैं। इस बात की पुष्टि खुद पाकिस्तान के सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने की थी। हालांकि, इस खबर के बाद इमरान ने अपने घर से पीएम आवास तक जाने के लिए हेलिकॉप्टर (चॉपर) का इस्तेमाल करना कम कर दिया है।

अब भैसों की होगी नीलामी

गौरतलब है कि इमरान खान की नेतृत्व वाली सरकार ने देश का राजस्व बढ़ाने और सरकारी खर्चों को कम करने के लिए लक्जरी गाड़ियों के साथ पीएम हाउस की आठ भैंसों की नीलामी करने का फैसला किया है। जिन भैसों को बेचने की बात चल रही है, उन्हें पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ अपने कार्यकाल के दौरान पीएम हाउस में लेकर आए थे। इमरान सरकार ने इन भैसों के साथ पीएम हाउस के चार हेलीकॉप्टर को भी बेचने का निर्णय लिया है।


इमरान खान ने केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए की दुआ, मदद को बढ़ाया हाथ

अमेरिका द्वारा उठाये गए आतंकवाद के मुद्दे पर भड़का पाकिस्तान

Posted By: Mukul Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.