एचबीटीयू से बीटेक कर एयरफोर्स में चला गया था लापता विमान का पायलट आशीष

2019-06-07T11:24:10Z

असम के जोराहट से उड़ान भरने के बाद लापता मालवाहक विमान एन32 के पायलट आशीष तंवर के सकुशल होने के लिए एचबीटीयू में ईश्वर से प्रार्थना की जा रही है वे एचबीटीयू के स्टूडेंट रहे हैं

- सोमवार को असम के जोराहट से उड़ान के बाद एएन 32 विमान लापता है

- पत्नी एटीसी में है तैनात, उड़ान के बाद काफी देर तक पति से हो रही थी बात

kanpur@inext.co.in

KANPUR : असम के जोराहट से उड़ान भरने के बाद लापता मालवाहक विमान एन-32 के पायलट आशीष तंवर के सकुशल होने के लिए एचबीटीयू में ईश्वर से प्रार्थना की जा रही है. वे एचबीटीयू के स्टूडेंट रहे हैं. अहम बात यह कि पायलट की वाइफ संध्या तंवर भी वहीं एटीसी में तैनात है और उड़ान के समय आशीष से उनकी लगातार बात हो रही कि अचानक विमान रडार से गायब हो गया. लापता विमान को खोजने के प्रयास चल रहे हैं, लेकिन चार दिन बीतने के बाद अभी कोई जानकारी नहीं मिली है.

कम्प्यूटर साइंस से इंजीिनयरिंग की

एचबीटीयू के रजिस्ट्रार प्रो मनोज कुमार शुक्ला ने बताया कि आशीष तंवर पलवल हरियाणा के रहने वाले हैं. इस मेधावी छात्र ने इयर 2009 में एचबीटीआई (अब एचबीटीयू) में बीटेक में एडमिशन लिया था. कम्प्यूटर साइंस से इंजीनियरिंग की डिग्री लेने के बाद वह कैंपस से चले गए. यहां से जाने के बाद आशीष तंवर का सेलेक्शन इंडियन एयरफोर्स में हो गया था. उनकी बड़ी बहन भी एयरफोर्स में ऑि1फसर हैं.

एयरफोर्स में ही जाना चाहता था

आशीष तंवर के बैचमेट साफ्टवेयर कंपनी चलाने वाले दीपक वर्मा ने बताया कि जब कैंपस में हम लोग रहते थे उस टाइम वह सभी से दोस्ताना व्यवहार रखता था. बीटेक की डिग्री जरूर उसने ली थी, लेकिन वह मेंटली एयरफोर्स में जाने के लिए प्रिपेयर था. फरवरी 18 में आशीष की मैरिज संध्या से हुई थी, वह भी एटीसी (एयर ट्रैफिक कंट्रोल) में तैनात है. पिछले गुरुवार की सुबह उसकी बड़ी बहन से बात हुई थी. इस वक्त अब सभी लोग उसकी सकुशल वापसी के लिए प्रार्थना कर रहे हैं.


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.