Mann Ki Baat पर पीएम मोदी ने गरीबों व मजदूरों की पीड़ा पर दुख जताया, कहा ' उसे शब्दों में नहीं समझा जा सकता'

पीएम मोदी ने रविवार को सुबह 11 बजे देश वासियों से मन की बात की। उन्होंने गरीबों और मजदूरों की पीड़ा पर दुख जताया। इसके साथ ही उन्होंने क्या- क्या कहा यहां जानें।

Updated Date: Sun, 31 May 2020 12:44 PM (IST)

नई दिल्ली (पीटीआई)। पीएम नरेंद्र मोदी ने रविवार को देश की जनता से मन की बात की। उन्होंने मन की बात में कहा कोरोना वायरस महामारी की वजह से सबसे ज्यादा प्रभाव मजदूरों और गरीबों पर पड़ा है। उनका दुख शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा हर कोई उनकी मदद करने के लिए काम कर रहा है और बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिकों को उनके घर तक पहुंचाने के लिए रेलवे के काम पर प्रकाश डाला। पीएम ने लोगों को अतिरिक्त सावधान रहने और सामाजिक दूरी बनाए रखने की बात की। इसके साथ ही उन्होंने अर्थव्यवस्था के धीरे- धीरे खुलने पर सावधानियां बरतने को कहा।

#MannKiBaat May 2020. Tune in. https://t.co/cyDovLkUrm

— Narendra Modi (@narendramodi) May 31, 2020रेलवे और हवाई यात्रा के शरु होने पर बात की

उन्होंने आगे कहा, 'रेलवे और हवाई यातायात को आंशिक रूप से फिर से शुरू करने और आने वाले समय में बढ़ाए जाने के साथ अर्थव्यवस्था का एक बड़ा हिस्सा फिर से खुल गया है। इसकी वजह से आपको अब अतिरिक्त सावधान रहने की जरूरत है।' उन्होंने कहा कि महामारी जैसे संकट के दौरान गरीबों के लिए समस्या का सामना करना मुश्किल हो रहा है और भविष्य के लिए सबक ये एक सबक है। इसकी वजह से देश के पूर्वी क्षेत्र में विकास दर काफी धीमी हो गई है।

की लोगों की हिम्मत की सराहना

दुनिया के हर कोने में महामारी फैल गई है और भारत भी इससे अछूता नहीं है। पीएम ने कहा कि उन्होंने दर्द से जूझते लोगों के बारे में बात की। मोदी जा ने बताया कि कैसे भारत ने महामारी से लड़ने में दुनिया के कई हिस्सों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन किया है। इसके अलावा उन्होंने देश के विभिन्न हिस्सों में लोगों द्वारा दिखाए गए इनोवेटिव आइडियाज और सेवा की भावना की सराहना की है।

Posted By: Vandana Sharma
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.