सर्विलांस को मात दे रहा वाट्सएप कॉल

2018-07-11T06:01:16Z

PATNA : पुलिस के सर्विलांस को मात देने के लिए अपराधी सोशल मीडिया के एप के जरिए कॉल कर अपराधिक घटनाएं कर रहे हैं। वाट्सएप और मैसेंजर के जरिए कॉल कर वह रंगदारी की डिमांड कर रहे हैं। मंगलवार को एक बार फिर पटना पुलिस ने इसका खुलासा किया है। दो नक्सलियों को रंगदारी मांगने में गिरफ्तार किया गया है जो एप के जरिए कॉल कर पुलिस बचकर अपनी मंशा में सफल होने के लिए कॉम कर रहे थे।

काफी शातिर है नक्सली

मसौढ़ी के विररा गांव में नदी के ऊपर बैराज बनाने का काम चल रहा है। 35 करोड़ रुपए के कॉन्ट्रैक्ट पर वीरमपुर प्राइवेट कंस्ट्रक्शन कंपनी काम करा रही है। कंपनी के मालिक अरुण कुमार के मोबइल पर पहले वाट्सएप कॉल आया। कॉल करने वाले ने वाले सीधे कहा 40 करोड़ का ठेका मिला है। उसका 10 परसेंट यानि 4 करोड़ रुपए लेवी के रूप में दे दो। वॉइस कॉल के बाद वीडियो कॉल भी आया। सामने से एके-47 जैसे हथियार दिखा कर डराया गया। फिर डराने-धमकाने के दौरान ही कंस्ट्रक्शन साइट का एक वीडियो भी

बनाकर भेजा गया। रंगदारी की रकम न देने पर सबकुछ तहस-नहस कर देने की धमकी दी गई थी।

पुलिस ने ऐसे की बड़ी कार्रवाई

नक्सलियों की धमकी से डरे अरुण कुमार ने पटना पुलिस के अधिकारियों को घटना की जानकारी दी। 22 मई को मसौढ़ी थाना में नक्सली एक्ट और आईपीसी की धाराओं में एफआईआर दर्ज कराया गया। मामले की जांच और रंगदारी मांगने वालों को पकड़ने के लिए एक टीम बनाई गई। टीम की कमान पटना के एएसपी ऑपरेशन अनिल कुमार सिंह को सौंपी गई साथ ही मसौढ़ी के एसडीपीओ, थानेदार व धनरुआ के थानेदार को टीम में शामिल किया गया। रंगदारी के लिए वाट्सएप कॉल और वीडियो कॉल का इस्तेमाल किया गया था। इसलिए जांच करने में टीम को काफी मशक्कत हुई। नक्सलियों के दिमाग ने पुलिस के सर्विलांस को भी मात दे दिया था। काफी पड़ताल के बाद पता चला कि धमकी भरे वाट्सएप कॉल झारखंड के गुमला जिले से किया गया था।

ऐसा रहा पुलिस का एक्शन

-पीएलएफआई के दो नक्सलियों राकेश और सत्येंद्र कुमार को पटना पुलिस ने अरेस्ट किया है।

-दानापुर के लेखानगर से राकेश को एक पिस्टल और 2 गोली के साथ गिरफ्तार किया गया।

-गया के बेला निवासी सत्येंद्र कुमार को पटना के राजीव नगर से पकड़ा गया है।

-प्रतिबंधित नक्सली संगठन पीएलएफआई का मुख्यालय झारखंड के गुमला जिले में है।

-संगठन का सरगना गणेश शंकर उर्फ गणेश और सोनू सिंह बिहार शरीफ जेल में कैद हैं।

-इस नक्सली संगठन को नालंदा के थरथरी का अवधेश कुमार उर्फ चूहा ऑपरेट कर रहा है।

-बिहार में पीएलएफआई को खड़ा करने की तैयारी की जा रही है।

-जिस राकेश और सत्येंद्र को पटना पुलिस ने गिरफ्तार किया है, वो दोनों ही 7 लोगों की ट्रेनिंग में शामिल थे।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.