डकैती के बाद 4 बार वाहन बदल पटना से बाहर भाग गए थे डकैत

2019-07-02T06:00:14Z

PATNA : दीघा-आशियाना रोड स्थित बहुचर्चित रत्‍‌नालय ज्वेलर्स डकैती कांड का पुलिस ने पर्दाफाश कर दिया है। पुलिस ने गिरोह के मास्टरमाइंड रवि सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के पास से पुलिस को तीन किलो सोना और तीन किलो चांदी और 6 लाख 30 हजार रुपए कैश बरामद हुआ है।

आरोपियों से पूछताछ में ये खुलासा हुआ है कि डकैती के बाद इन लोग ने तीन से चार बार वाहन बदले थे। इसके बाद ये लोग पटना के बाहर भाग गए। बाद में पुलिस को संदिग्धों के बारे में जानकारी मिली और पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

रवि के आने की मिली थी सूचना

एडीजी लॉ एंड ऑर्डर जितेंद्र कुमार ने बताया कि पुलिस ने जब डकैती की पड़ताल की तो पता चला कि पटना सिटी का कुख्यात बदमाश रवि काफी दिनों से भूमिगत है। इसके बाद गुप्त रूप से पुलिस को सूचना मिली कुर्जी बालू पर कुछ आरोपी इकट्ठा हो रहे हैं। इसके बाद तत्काल पुलिस ने घेराबंदी की और वहां पर दबिश दे दी। मौके से पुलिस ने रवि सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया। बाकी आरोपी अंधेरे का फायदा उठाते हुए मौके से भागने में कामयाब हो गए।

सीपू के घर से बरामद हुआ जेवर और नकदी

पुलिस ने जब गिरफ्तार आरोपियों की तलाशी ली तो उनके पास से तीन लोडेड पिस्टल, जिंदा कारतूस बरामद हुआ। बाद में पुलिस इन्हें थाने लेकर आई। पुलिस ने जब इनसे पूछताछ की तो पता चला कि सीपू के घर जेवर छिपाकर रखे गए हैं। इसके बाद पुलिस सीपू के घर गई और वहां से जेवर बरामद किया।

घटना से पहले हुई थी रेकी

घटना से पहले डकैतों ने ज्वेलरी शॉप पर आकर रेकी की थी। इसके बाद रूट तय किए कि कहां से लूट कर भागना है। इसके बाद उनलोगों ने घटना को अंजाम दिया और अपने प्लान के अनुसार पटना से बाहर भागने में कामयाब हो गए। कई वाहन बदलने के कारण पुलिस को उन्हे पकड़ने में परेशानी हो रही थी।

कुख्यात रवि के कई नाम

पुलिस की गिरफ्त में आया कुख्यात रवि कुमार गुप्ता आलमगंज थाना के तहत सादिकपुर इलाके का रहने वाला है। इस कुख्यात को लोग कई अलग-अलग नामों से जानते हैं। इसका दूसरा नाम रवि पेशेंट है। कुछ लोग इसे नेताजी के नाम से बुलाते हैं। जबकि अधिकांश लोगों के बीच ये अपराधी मास्टर जी के नाम से भी मशहूर है। इस अपराधी के नाम अकेले पटना में एक दो नहीं बल्कि 16 आपराधिक मामले दर्ज हैं।

डीजे आई नेक्स्ट ने पहले किया था खुलासा

घटना में पुलिस को अहम सुराग अपाची बाइक से मिली थी। डकैती के दूसरे दिन ही दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने खुलासा किया था कि डकैती में सफेद रंग की अपाची बाइक का उपयोग किया गया था। बाद में पुलिस ने उस अपाची को बरामद भी किया था। पुलिस को उस अपाची से ही लीड मिली थी। इसके बाद पूरा केस खुलता गया।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.