मॉक ड्रिल से जांची गोरखनाथ मंदिर की सुरक्षा

2019-01-10T06:01:11Z

तीन आतंकियों के घुसने की सूचना हुई थी प्रसारित

-घंटे भर चली मॉक ड्रिल के बाद पुलिस ने तीन संदिग्धों को पकड़ा

GORAKHPUR: पुलिस ने बुधवार को मॉक ड्रिल कर गोरखनाथ मंदिर की सुरक्षा जांची। मंदिर परिसर में तीन आतंकियों के घुसने की सूचना प्रसारित होने के बाद सीओ गोरखनाथ के नेतृत्व में चप्पे-चप्पे की तलाशी ली गई। एक घंटे तक चले अभियान के बाद पुलिस ने तीन लोगों को हिरासत में ले लिया।

गोरखनाथ मंदिर में मकर संक्राति पर लगने वाले खिचड़ी मेले में लाखों श्रद्धालु बाबा गोरखनाथ का दर्शन करने आते हैं। इस मंदिर के सीएम योगी आदित्यनाथ महंत हैं और परिसर में ही उनका आवास भी हैं। इस वजह से गोरखनाथ मंदिर सुरक्षा की दृष्टि से काफी संवेदनशील है। मेले से पहले मंदिर की सुरक्षा की तैयारियों का जायजा लेने के लिए एसएसपी डॉ। सुनील गुप्ता की देखरेख में बुधवार को मॉक ड्रिल किया गया। सूचना प्रसारित की गई कि मंदिर कैंपस में तीन संदिग्ध आतंकी घुस गए हैं। इसके बाद सुरक्षा कर्मियों ने मंदिर को चारों तरफ से घेर लिया। परिसर में मौजूद एक-एक व्यक्ति और वस्तु की चेकिंग शुरू हो गई।

हेल्थ विभाग का भी रहा अहम रोल

मंदिर की सुरक्षा को लेकर शुरू हुआ मॉक ड्रिल रिहसर्ल में हेल्थ कर्मियों को भी रोल अहम रहा। इस दौरान डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टाफ भी मौजूद रहे। काल्पनिक रिहसर्ल में डॉकटर्स समेत 12 कर्मचारियों की ड़्यूटी लगाई गई। पुलिस कर्मी और पैरामेडिकल की टीम भगदड़ में घायलों को तत्काल मीनी चिकित्सालय पहुंचा रहे थे। जहां पर उनका उपचार बेहतर तरीके से किया गया।

मंदिर के चप्पे-चप्पे पर रहेगी पुलिस की सुरक्षा

-मेला जोन को सुरक्षा के तहत चार जोन व 11 सेक्टरों में बांटा गया है

-सुरक्षा के लिए अपर पुलिस अधीक्षक --04

क्षेत्राधिकारी--09

निरीक्षक--25

पुलिस उप निरीक्षक-210

महिला उप निरीक्षक-14

-पुरूष व महिला पुलिस कर्मी--610

-पीएसी- 05 कंपनी

एसएसपी ने दिए कड़े निर्देश

-ड्यूटी पर तैनात अफसर और कर्मचारी चुस्त-दुरूस्त एवं साफ-सुथरी वर्दी में रहेंगे।

-मेला परिसर में आने-जाने वाले लोगों पर सतर्क दृष्टि रखते हुए उनकी गतिविधियों पर नजर रखेंगे।

-कोई भी संदिग्ध व्यक्ति व वस्तु दिखाई दे तो उसकी सूचना तत्काल कंट्रोल और संबंधित अफसर को देंगे।

-बुजुर्ग पुरूष व महिला व बच्चों के साथ कोई अप्रिय घटना न हो इसका विशेष ध्यान रखेंगे।

-मेले में आने वाली महिलाओं व लड़कियों के साथ छेड़खानी की घटना न हो यह सुनिश्चित करेंगे।

-मेला में आने वाली श्रद्धालुओं के साथ विनम्रता का परिचय देते हुए उनकी मदद करें।

-अफसर और कर्मचारी अपनी ड्यूटी स्थलो ंको तब तक नहीं छोडेंगे जब तक दूसरा कर्मी वहां पहुंच जाए।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.