Goodbye पापा, पर काश आप ना जाते

बॉलीवुड एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा के फादर अशोक चोपड़ा की मंडे दोपहर डेथ हो गई. वह लास्‍ट टू वीक से कोकिलाबेन धीरूभाई अम्बानी हॉस्पिटल मुम्बई में एडमिट थे. वहां उनका कैंसर का इलाज चल रहा था. हॉस्पिटल के सीओओ राम नरायन के मुताबिक अशोक चोपड़ा का पिछले कुछ सालों से कैंसर का इलाज चल रहा था. मंडे शाम ओशिवारा क्रेमेटोरियम में उनके लास्‍ट राइट कंप्‍लीट हुए. शाहरुख खान दीपिका पादुकोण रणबीर कपूर रनवीर सिंह और करन जौहर ने श्मशान घाट पहुंचकर दिवंगत आत्मा को श्रृद्धांजलि दी.

Updated Date: Tue, 11 Jun 2013 02:14 PM (IST)

प्रियंका अपने डाक्टर फादर से बेहद अटैच थीं. उन्होंने अपनी हर सक्सेज में अपने फादर को अपने साथ खड़े पाया था और यही वजह थी कि वो उनके लिए कुछ भी करने के लिए रेडी रहती थीं. अपने फादर के गाने के शौक को देखते हुए उन्होंने उनका एल्बम बनवाया और खुद भी सिंगिंग को एक आप्शन की तरह सेव कर रही थीं यही बजह है कि अभी उनका एक म्यूजिक एल्बम भी लॉच हुआ था.

कल तक ये तस्वीर एक हकीकत थी पर आज महज हसीन याद है. अपने फौज में डाक्टर रह चुके फादर अशोक चोपड़ा और मां मधु चोपड़ा के साथ एक खुशनुमा पल में प्रियंका चोपड़ा.

कोई भी थाम ले पर कोई सहारा मेरे पापा जितना मजबूत नहीं हो सकता. डाक्टर अशोक चोपड़ा के फ्यूनरल में एक रिलेटिव के साथ खड़ी प्रियंका चोपड़ा के आंसू शायद यही कह रहे हैं.

प्रियंका के बेहद करीब हैं शाहरुख और उनके इस सबसे मुश्किल वक्त में उनकी प्रेजेंस प्रियंका के लिए बेहद मायने रखती है. तभी तो प्रियंका से मिल कर उन्हें गले लगा कर जब शाहरुख ने सहारा दिया और कहा मैं हूं ना तो शायद प्रियंका गम कुछ कम हुआ होगा.

प्रियंका से मिलने के बाद शाहरुख उनकी कजिन परिणिति से भी मिले और उन्हें भी कंसोल किया. परिणिति भी प्रियंका की तरह अपने अंकल के काफी क्लोज थीं.

 

प्रियंका से मिलने रणबीर कपूर भी पहुंचे और उन्होंने उनकी मदर मधु चोपड़ा को भी कंसोल किया .

 

 

रणबीर सिंह भी प्रियंका को कंसोल करने पहुंचे. वो प्रियंका के साथ गुंडे में काम कर रहे हैं.

 

 

करन जौहर और दीपिका पादुकोण भी इस मौके पर प्रियंका के दुख में शामिल हाने पहुंचे. इसके अलावा अजुर्न कपूर संजय लीला भंसाली, प्रसून जोशी और दूसरे कई बॉलिवुड परिवार के मेंबर सभी इस दुख की घड़ी में प्रियंका के पास पंहुचे.

सब आये और जाने कितने जो आज नहीं आ सके वो भी वक्त निकाल कर मुझसे मिलने आयेंगे लेकिन उनमें से कोई भी पापा आपकी कमी पूरी नहीं कर सकेगा. हमें आपके बिना जीना सीखना होगा और शायद वक्त सिखा भी देगा लेकिन फिर भी हर खुशी और गम में जब आप याद आयेंगे तो लगेगा काश पापा आप वापस आ सकते. अपने पापा की डेड बॉडी के पास बैठी प्रियंका के मन में शायद यही ख्याल मचल रहा होगा क्योंकि अपने डैडी की ये डार्लिंग डाटर बेहद अकेली हो गयी है.

Posted By: Kushal Mishra
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.