स्वामी जी का जीवन दर्शन अनुकरणीय

2018-07-05T06:00:42Z

स्वामी विवेकानंद की पुण्य तिथि पर स्टूडेंट्स ने दी श्रद्धांजलि

ALLAHABAD: विश्व पटल पर देश की आध्यात्मिक और विश्वगुरु की छवि को प्रस्तुत करने वाले स्वामी विवेकानंद की पुण्य तिथि बुधवार को रानी रेवती देवी सरस्वती विद्या निकेतन इंटर कालेज में मनायी गई। स्टूडेंट्स ने स्वामी जी के प्रति अपनी कृतज्ञता अर्पित करते हुए श्रद्धासुमन अर्पित किया। स्कूल के प्रांगण में आयोजित कार्यक्रम में क्लास नाइंथ के स्टूडेंट मासूम अली ने स्वामी जी के कार्यो पर प्रकाश डालते हुए उनके जीवन दर्शन पर अपने विचार रखे। उसने स्वामी विवेकानंद द्वारा समाज कल्याण के लिए किए गए कार्यो पर विस्तार से चर्चा की।

स्वामी ने दिया मानवता का संदेश

विद्यालय के छात्र संसद के प्रधानमंत्री वेतांक ने भी स्वामी जी के विचारों से प्रेरणा लेने के लिए स्कूल के सभी स्टूडेंट्स को प्रेरित किया। इस दौरान स्वामी द्वारा शिकागो विश्वधर्म सम्मेलन में व्यक्त किए गए विचारों और ओजस्वी भाषण का उल्लेख करते हुए कहा कि कोई भी धर्म बड़ा है तो वह मानवता का धर्म है। स्वामी जी ने भी समाज को मानवता का संदेश दिया। आखिर में प्रिंसिपल रामजी सिंह ने प्रत्येक छात्र स्वामी जी के गुण को अपनाने को शपथ दिलाते हुए कहा कि आज के दिन को मनाना तभी फलीभूत होगा, जब प्रत्येक छात्र स्वामी जी के बताए आदर्श को अपनाते हुए उनके द्वारा प्रदर्शित मार्ग का अनुसरण करेगा। स्कूल के टीचर्स सत्य प्रकाश पाण्डेय, दिनेश शुक्ला, जटाशंकर तिवारी, रमेश मिश्र, आनंद सिंह, चन्द्रशेखर सिंह आदि ने भी विचार प्रस्तुत किए।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.