बोगियां बनेंगी कुंभ का इनविटेशन कार्ड एेसे करेंगी आपको आमंत्रित

2018-12-17T12:10:50Z

देश भर में कुंभ की तैयारियां जोरों पर हैं सभी अपनेअपने तरीके से लोगों को अट्रैक्ट करने में लगे हुए हैं

- प्रयागराज जाने वाली गाडि़यों पर की जाएगी विनायल रैपिंग

- कुंभ के लोगो के साथ किया जाएगा लोगों को इनवाइट

Gorakhpur@inext.co.in
GORAKHPUR: देश भर में कुंभ की तैयारियां जोरों पर हैं. सभी अपने-अपने तरीके से लोगों को अट्रैक्ट करने में लगे हुए हैं. रेलवे भी पैसेंजर्स को अट्रैक्ट करने और उन्हें सुविधा मुहैया कराने के लिए तैयारियों में जुटा है. ट्रैक से गुजरने वाली ट्रेंस अब लोगों को कुंभ का न्यौता देंगी. इनकी बोगियों पर कारीगरी के जरिए न सिर्फ लोगों को अट्रैक्ट किया जाएगा, बल्कि इसके लिए उन्हें कुंभ आने का इनविटेशन भी दिया जाएगा. अब तक तीन जोन मिलाकर करीब 150 ट्रेंस को इसके लिए तैयार किया जा चुका है. वहीं दूसरी ट्रेंस में भी यह प्रॉसेस जारी है.

कराई जाएगी विनायल रैपिंग
हजारों की भीड़ और ट्रेंस की भरमार को देखकर लोग काफी कंफ्यूज रहते हैं. कौन सी ट्रेन उन्हें डेस्टिनेशन तक पहुंचाएगी, इसकी पहचान करते-करते कई बार उनकी ट्रेंस भी छूट जाती है. इसको ध्यान में रखते हुए रेलवे ने प्रयागराज जाने वाली ट्रेंस की बोगियों में विनायल रैपिंग कराने का फैसला किया है. यह एक तरह का प्लास्टिक पेंट है, जिसके जरिए बोगियों को खास पहचान दी जा रही है. वहीं इससे यह भी फायदा होगा कि लोगों को ट्रेंस के बारे में ज्यादा क्वेरी नहीं करनी पड़ेगी और उनका कंफ्यूजन भी दूर हो जाएगा और संगम जाने वाले श्रद्धालुओं को काफी सहूलियत होगी.

एनईआर चलाएगा 112 जोड़ी ट्रेंस
रेलवे देश भर से सैकड़ों ट्रेंस चलाने की तैयारी कर रहा है. वहीं सिर्फ तीन हेडक्वार्टर से 800 ट्रेंस चलाई जानी है. सिर्फ एनई रेलवे हेडक्वार्टर ने 112 जोड़ी स्पेशल ट्रेंस चलाने की तैयारी कर रखी है. यह सभी प्रयागराज के आसपास पड़ने वाले स्टेशंस पर रुकती हुई जाएंगी. वहीं, कुछ ट्रेंस का ठहराव भी देने की तैयारी की गई है. इतना ही नहीं 13 जनवरी से पांच मार्च के बीच इलाहाबाद रूट की सभी गाडि़यों में एक्स्ट्रा कोच भी लगाए जाएंगे, जिससे ज्यादा से ज्यादा पैसेंजर्स को डेस्टिनेशन तक पहुंचाया जा सके.

इन अवसरों पर चलेगी ट्रेन

-मकर संक्रांति

- मौनी अमावस्या

- पौष पूर्णिमा

- बसंत पंचमी

- माघ पूर्णिमा

- महाशिवरात्रि


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.