स्पीड और सुविधाओं में तेजस को मात देगी रैपिड ट्रेन

2019-11-17T05:45:58Z

- मेरठ से दिल्ली के बीच चल रहा है निर्माण कार्य

- आठ कोच की होगी रेल, एक होगा बिजनेस क्लास

LUCKNOW:

रीजनल रैपिड ट्रांजिस्ट सिस्टम (आरआरटीएस) के अंतर्गत दिल्ली से मेरठ तक चलने वाली रेल की स्पीड और सुविधाएं तेजस को भी मात देंगी। सात से आठ कोच वाली इस रेल में एक बिजनेस क्लास होगा। आरआरटीएस के तहत चलने वाली ट्रेन की स्पीड 180 किमी प्रति घंटे होगी। इसके निर्माण से जुड़े अधिकारियों के अनुसार मेरठ से दिल्ली के बीच 82 किमी का सफर यह ट्रेन मात्र 50 मिनट में पूरा करेगी। मेरठ, गाजियाबाद और दिल्ली के बीच इन ट्रेनों का संचालन होगा। दिल्ली से मेरठ तक आरआरटीएस के 15 स्टेशन होंगे। इनमें यूपी के 12 स्टेशन होंगे। निर्माण कार्य के लिए 30 हजार करोड़ का बजट है।

छह साल में पूरा होगा काम

कंपनी के प्रतिनिधियों के अनुसार अभी सिर्फ जापान में इसका संचालन हो रहा है। वहां पर इस ट्रैक के निर्माण में 11 साल लगे। जबकि इंडिया में इस ट्रैक के निर्माण में मात्र छह साल का समय लगा है। जापान में दौड़ रही आरआरटीएस की स्पीड 130 किमी है लेकिन यहां पर 180 किमी की रफ्तार से चलेगी। आईजीपी में आयोजित अर्बन मोबिलिटी इंडिया कांफ्रेंस एंड एक्सपो में आरआरटीएस का स्टॉल सभी के बीच आकर्षण का केंद्र बना है।

मेरठ से दिल्ली के बीच कंस्ट्रक्शन तेजी से चल रहा है। 2025 तक इसका संचालन शुरू हो जाएगा। दिल्ली के बाद अन्य रूटों पर भी काम शुरू होगा। डीपीआर तैयार है। परमीशन मिलते ही काम शुरू हो जाएगा।

विनय कुमार सिंह, एमडी

आरआरटीएस

कहां से कहां तक समय

दिल्ली से मेरठ 55 मिनट

दिल्ली-अलवर 1 घंटा 35 मिनट

दल्ली से पानीपत 70 मिनट

नोट- स्पीड -180 किमी प्रति घंटा

खूबियां

- सभी कोचेज में पैसेंजर्स की परेशानियों को दूर करने के लिए कर्मचारी होंगे, जो बेल दबाते ही पहुंचेंगे

- रास्ते में कोई दरवाजा नहीं खोल सकेगा। ऑटोमैटिक दरवाजे ही खुलेंगे

- ट्रेन में मोबाइल और नेट की सुविधा भी मिलेगी

- इसके अलावा स्टेशनों पर खाने-पीने की सुविधा

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.