ऐसे शुरू हुई थी साक्षी की अजितेश संग लवस्टोरी फिल्मी स्टाइल में भाई के दोस्त को बनाया हमसफर

2019-07-13T12:31:07Z

बिथरी चैनपुर के विधायक पप्पू भरतौल की बेटी साक्षी मिश्रा के प्रेमविवाह का मामला सुर्खियों में हैं। जानें कैसे शुरू हुई थी साक्षी की अजितेश संग लवस्टोरी

मास कम्युनिकेशन की पढ़ाई कर रही थी, छुट्टी में आई थी घर
साक्षी वैसे तो अजितेश को जानती थी कि वह भाई का दोस्त है  

दोनों में बहुत ज्यादा बात नहीं होती थी
bareilly@inext.co.in
BAREILLY : जयपुर के एक कॉलेज से मॉस कम्युनिकेशन की पढ़ाई कर रही साक्षी कुछ महीने पहले घर आई थीं। बाद में उसे वापस कॉलेज छोड़ने के लिए भाई विक्की भरतौल जयपुर गया था। साथ में विक्की ने अजितेश को भी ले लिया था। रास्ते में अजितेश और साक्षी की बातचीत शुरू हुई। इसके बाद दोनों एक दूसरे को फोन करने लगे, प्रेम संबंध हो गए।
शोरूम पर बैठता है अजितेश
वीर सावरकर नगर निवासी अजितेश कुमार के पिता हरीश नायक बैंक में मैनेजर हैं। बड़े भाई अभिषेक का पीलीभीत बाईपास पर टाइल्स का शोरूम है। अजितेश ने ग्रेजुएशन किया है और भाई के साथ शोरूम पर ही बैठता है।
3 को घर से गई थी साक्षी
तीन जुलाई को बिथरी विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल शाम साढ़े छह बजे लखनऊ से वापस लौटे, तब पता चला कि करीब साढ़े चार बजे साक्षी घर से निकली थी। कुछ दूरी पर अजितेश की कार खड़ी थी, उसी में बैठकर वह चली गई।
मैंने कुछ भी गलत करने से किया था मना
अजितेश के पिता ने कहा कि दो जुलाई को अजितेश का जन्मदिन था। तीन जुलाई को अजितेश ने उनसे कहा था कि वह साक्षी से शादी करना चाहता है। वह उसके साथ जा रहा है। यह सुनकर वह हैरान रह गए। उन्होंने अजितेश को समझाया था कि विधायक के घर उसका बीस साल से आना जाना है। उनके परिवार के साथ विश्वासघात करना सही नहीं है। लेकिन बच्चों के सामने क्या मजबूरी होगी, इसका उन्हें पता नहीं और दोनों ने ऐसा क्यों किया?
BJP MLA की बेटी की शादी ने लिया राजनीतिक रूप, दो विधायकों पर लगा साजिश का आरोप
अजितेश पर हो गया था शक
बताते है कि साक्षी व अजितेश के हाव-भाव से परिवार के लोगों का शक हो गया था। एक चैनल को दिए साक्षात्कार में भी साक्षी ने यह बात कही कि शक में पापा अक्सर मम्मी से कहते थे कि वह किसी के साथ चली जाएगी। यही वजह थी कि पेपर खत्म होने के बाद एक महीने पहले साक्षी घर आई थी। इसके बाद अजितेश के वहां आने पर एतराज जताया जाने लगा। तीन जुलाई की शाम वह बिना कुछ बताए अजितेश की कार में बैठकर चली गईं और वापस नहीं आईं तो परिवार वालों को शक हुआ। इसके बाद से ही सारा विवाद शुरू हुआ।



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.