177 बने होम्योपैथी चिकित्साधिकारी

2019-06-23T06:00:22Z

पिछले महीने आयोजित किया गया था इंटरव्यू, 179 कैंडीडेट हुए थे शामिल

कोर्ट में पेंडिंग है रिक्रूटमेंट को लेकर याचिका, फैसले से पड़ सकता है प्रभाव

prayagraj@inext.co.in

उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग ने शनिवार को राजकीय होम्योपैथिक चिकित्साधिकारी पद पर नियुक्ति के लिए आयोजित परीक्षा का फाइनल रिजल्ट घोषित कर दिया। 177 अभ्यर्थियों को सफल घोषित किया गया है। इन सभी की नियुक्ति कोर्ट के फैसले के अधीन होगी क्योंकि इस लेकर याचिकाएं दाखिल हैं।

719 ने दिया था इंटरव्यू

होम्योपैथिक चिकित्साधिकारी पद के लिए 13 से 17 व 20 से 23 मई 2019 तक अभ्यर्थियों का साक्षात्कार कराया गया था। साक्षात्कार में 757 अभ्यर्थियों को बुलाया गया था, जिसमें 719 शामिल हुए। साक्षात्कार की प्रक्रिया पूरी करके परिणाम जारी कर दिया गया। अधिकारियों के 177 में 113 पद अनारक्षित हैं, जबकि 23 पद अन्य पिछड़ा वर्ग व 41 पद अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है। क्षैतिज आरक्षण के अंतर्गत उत्तर प्रदेश की महिला अभ्यर्थियों के लिए 35 पद, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी के आश्रितों के लिए चार तथा दिव्यांगों के लिए पांच पद आरक्षित हैं।

सुप्रीम कोर्ट में पेंडिंग है याचिका

बता दें कि यह परिणाम सुप्रीम कोर्ट में पेंडिंग विशेष अनुज्ञा याचिका संख्या 2811-2820 आफ 2017 उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग बनाम डॉ। शिव विनायक त्रिपाठी व अन्य में आने वाले फैसले पर आधारित होगा। इसी को लेकर रिट याचिका संख्या 7533/2019 आशुतोष राय व सात अन्य बनाम उत्तर प्रदेश राज्य व अन्य तथा रिट याचिका संख्या 7629/2019 अतुल कुमार सिंह बनाम उत्तर प्रदेश राज्य व अन्य इलाहाबाद हाईकोर्ट में लंबित है। परिणाम आयोग की वेबसाइट uppsc.up.nic.in पर अपलोड कर दिया गया है।

अब आयुर्वेद चिकित्साधिकारी का आएगा रिजल्ट

उप्र लोकसेवा आयोग जल्द ही प्रदेश के राजकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालयों में डाक्टरों का चयन परिणाम घोषित करेगा। आयुर्वेद चिकित्साधिकारी के 325 पदों के लिए साक्षात्कार पूरा हो चुका है। माना जा रहा है कि अगले सप्ताह इसका भी रिजल्ट आएगा।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.