सिगरेट पीने से मरे व्‍यक्ति की पत्‍नी को सिगरेट कंपनी देगी 108 करोड़ रुपये

2014-07-21T15:05:49Z

अमेरिका के फ्लोरिडा में एक कोर्ट ने एक सिगरेट कंपनी को 14 खरब रुपए के जुर्माने के साथ पीडि़त व्‍यक्ति को 108 करोड़ रुपये हर्जाना देने का आदेश दिया यह आदेश सिगरेट के पैकेट पर तंबाकु से होने वाले नुकसानों के लिए चेतावनी ना लिखने की वजह से लगाया गया है

अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना
फ्लोरिडा के एक कोर्ट ने आरजे रेनॉल्ड्स टौबेको कंपनी पर लगभग 14 खरब रुपये का जुर्माना लगाया है. फ्लोरिडा की हिस्ट्री में यह अब तक का सबसे बड़ा क्षतिपूर्ति आदेश है. सिंथिया नामक महिला ने अपने पति की सिगरेट पीने की वजह से मौत होने के कारण सिगरेट बनाने वाली कंपनी पर केस किया था. इस केस का आधार सिगरेट पैकेट पर तंबाकु सेवन से होने वाले नुकसानों को लेकर चेतावनी ना देना है.

लंग केंसर से हुई मौत
अपनी दलील में सिंथिया ने कोर्ट को बताया कि उसका पति माइकल जॉनसन 13 साल की उम्र से आरजे रेनॉल्ड्स टौबेका कंपनी की सिगरेट पी रहा था. गौरतलब है कि माइकल जेक्सन एक दिन में लगभग 20 सिगरेट पीता था. इससे 36 साल के माइकल की 1996 में लंग केंसर से मौत हो गई. सिंथिया ने कहा कि सिगरेट कंपनी ने अपने प्रॉडक्ट में हैल्थ को होने वाले नुकसान और इसकी लत डालने वाली बात से अवगत नही कराया था. सिंथिया का पति एक होटल में शटलर बस चलाता था. सिंथिया ने कहा कि उसके पति ने चाह कर भी सिगरेट नही छोड़ पाई और अपने अंतिम दिनों तक सिगरेट पीता रहा.
कंपनी करेगी उच्च अदालत में अपील
इस फैसले के खिलाफ आरजे रेनॉल्ड्स टौबेको कंपनी उच्च अदालत में अपील करेगी. हालांकि यह आदेश दुनिया भर की सिगरेट बनाने वाली कंपनियों के लिए एक सबक की तरह काम करेगा. इस फैसले से सिंथिया और उसके वकील ने खुशी जताई.



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.