सीएम साहब! 15 अक्टूबर तो बीत गई गड्ढों में सड़कें खो गई

2018-10-17T06:01:03Z

दैनिक जागरण आई नेक्स्ट एक्सक्लूसिव

- धरे रह गए सीएम और डिप्टी सीएम के बड़े-बड़े दावे और वादे, डेडलाइन खत्म होने के बाद भी शहर की सड़कों पर गड्ढे ही गड्ढे

- पैचवर्क के नाम पर भी जनता को बनाया जा रहा है बेवकूफ, सूखी गिट्टियों से भरे जा रहे हैं गड्ढे, राहगीरों को घायल कर रहीं गिट्टियां

-त्योहारों के सीजन में भीड़भाड़ में गड्ढों की वजह से सड़क दुघर्टनाओं में हो रहा इजाफा, पब्लिक बोली जनता को सिर्फ ठगा जा रहा

KANPUR@inext.co.in

KANPUR : शहर की आधी से ज्यादा जख्मी सड़कों ने प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ और डिप्टी सीएम केशव मौर्या के बड़े-बड़े दावों की हवा निकाल दी है। सड़कों को गड्ढामुक्त करने के लिए सीएम, डिप्टी सीएम से लेकर मुख्य सचिव ने 15 अक्टूबर तक का वक्त दिया था, लेकिन जिम्मेदार विभाग डेडलाइन बीतने के बाद भी शहर की आधी सड़कों को गड्ढामुक्त नहीं कर सके। सड़कों में आधा-आधा फुट तक के गड्ढे हैं। इससे भी ज्यादा हैरान करने वाली बात ये है कि पीडब्ल्यूडी, नगर निगम, आवास विकास, केडीए सहित अन्य विभाग इस अभियान के नाम पर 100 करोड़ रुपए से भी ज्यादा खर्च कर चुके हैं। इतना पैसा खर्च होने के बाद भी सड़कों का बुरा हाल है तो आखिर पैसा गया कहां, यह जांच का ि1वषय है।

कागजों में गड्ढामुक्त

सीएम योगी आदित्यनाथ भी सड़कों को गड्ढामुक्त करने की समीक्षा बैठक कर चुके हैं। जिसमें उन्हें सबकुछ ठीक लगा, क्योंकि उनकी आंखों में धूल झोंकने के लिए अधिकारियों ने कागजों में सड़कों को अच्छे तरीके से गड्ढा मुक्त कर रखा है। जबकि हकीकत ये है कि पीडब्ल्यूडी की सड़कों की हालत बेहद खराब स्थिति में है। इनके द्वारा किए गए पैचवर्क उखड़ चुके हैं। पीडब्ल्यूडी पैचवर्क के लिए अभी तक लगभग 45 करोड़ से ज्यादा की रकम खर्च कर चुका है। यही हाल नगर निगम का है, सड़कों से गड्ढों को मिटाने के लिए अभी तक 50 करोड़ रुपए से ज्यादा की रकम खर्च की जा चुकी है।

-----------

अपर मुख्य सचिव ने सड़कों से मुंह फेरा

ट्यूजडे को अपर मुख्य सचिव व कानपुर के नोडल अधिकारी आलोक सिन्हा शहर में थे। नरवल तहसील में उन्होंने सभी विभागों के साथ विकास कार्यो की समीक्षा बैठक की, लेकिन सड़कों के बारे में विभागों से अपडेट तक नहीं लिया। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक सड़कों को लेकर किसी भी विभाग से कोई चर्चा नहीं की।

--------------

ये व्यस्त सड़कें अब भी गड्ढों में

-रोशन नगर से कल्याणपुर को जाने वाली रोड

-11 नंबर गुमटी क्रॉसिंग से झंडा चौराहा रोड

-फजलगंज से जरीबचौकी चौराहा तक

-जीटी रोड अनवरगंज स्टेशन के सामने

-मरियमपुर चौराहे से नरेंद्र मोहन सेतु तक

-रावतपुर से डबल पुलिया चौराहे तक

-कल्याणपुर क्रॉसिंग से शिवली रोड

-------------

खराब सड़कों की स्थिति जोनवार

जोन खराब सड़कें

जोन-1 8

जोन-2 45

जोन-3 30

जोन-4 12

जोन-5 38

जोन-6 48

------------

ये प्रमुख घटनाएं हो चुकी

-साकेत नगर में गड्ढे में फंसकर ऑटो पलटा, 3 घायल

-विजय नगर में धंसी सड़क में टेंपों पलटा, 6 घायल

-नौबस्ता में सड़क के गड्ढे में फंसकर एक्सीडेंट, 1 की मौत

-हंसपुरम में गड्ढे की वजह से गाड़ी फिसली, 1 की मौत

-----------

आंकड़ों की नजर से

-1208 सड़कों को पीडब्ल्यूडी ने कागजों में किया गड्ढामुक्त।

-7 जुलाई को खुद सीएम कर चुके गड्ढामुक्त सड़कों की समीक्षा।

-6 जुलाई को शासन में भेजी रिपोर्ट में सड़कों को चकाचक दिखाया।

-----------

इतना बजट हो चुका है खर्च

-18.5 करोड़ रुपए 14वें वित्त आयोग से सड़कों को गड्ढामुक्त करने के लिए बजट दिया।

-45 करोड़ रुपए पीडब्ल्यूडी ने सड़कों को गड्ढामुक्त करने में खर्च किए।

-12 करोड़ रुपए केडीए ने खर्च किए सड़कों को गड्ढामुक्त करने में।

-30 करोड़ रुपए आवास विकास ने सड़कों के पैचवर्क में खर्च किए।

-------------

वर्जन

सड़कों के गड्ढों को भरने के लिए लगातार पैचवर्क किया जा रहा है। इसमें किसी भी प्रकार की कोई ढील नहीं बरती जा रही है। जल्द ही नगर निगम की सड़कें गड्ढा मुक्त होंगी।

-संतोष कुमार शर्मा, नगर आयुक्त, नगर निगम।

---------

सड़कों को गड्ढामुक्त करने के लिए संबंधित सभी विभागों को निर्देश जारी किए जा चुके हैं। समीक्षा बैठक में प्रगति रिपोर्ट फिर ली जाएगी और सड़कों को गड्ढामुक्त न करने वाले विभागों पर कार्रवाई भी की जाएगी।

-विजय विश्वास पंत, डीएम, कानपुर नगर

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.