देहरादून में 25 पैसेंजर की जिंदगी बचाने में रोडवेज के ड्राइवर ने गवांई अपनी जान

2019-02-25T10:07:38Z

- दिल्ली जा रही रोडवेज बस के ब्रेक हुए फेल

- बस को खाई में गिरने से बचाने को ड्राइवर ने पहाड़ी की ओर मोड़ दी बस

- ड्राइवर को आईं गंभीर चोटें, इलाज के दौरान डेथ

DEHRADUN: दून से दिल्ली जा रही रोडवेज बस में सवार 25 पैसेंजर की जान तो ड्राइवर ने अपनी सूझ-बूझ से बचा ली, लेकिन खुद की जान नहीं बचा पाया। उत्तराखंड रोडवेज की बस संडे सुबह दिल्ली के लिए रवाना हुई थी, दिल्ली हाईवे पर मोहंड के पास ढलान पर बस के ब्रेक नहीं लगे और बस खाई की ओर जाने लगी। बस ड्राइवर गौरव ने सूझ-बूझ का परिचय दिया और बस को पहाड़ी से टकरा दिया। बस पलट गई, पैसेंजर्स को मामूली चोटें आईं, लेकिन ड्राइवर गंभीर रूप से घायल हो गया, अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

ढलान पर हुए ब्रेक फेल
पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक रोडवेज की बस (यूके 07 पीए 1567) तीन दिन से आईएसबीटी में खड़ी थी। संडे को सुबह दस बजे बस को दिल्ली के लिए शेड्यूल किया गया। बस पटेलनगर निवासी गौरव कुमार पुत्र नानक चंद चला रहा था। दिल्ली हाईवे पर जैस ही बस मोहंड की ढलान पर पहुंची, ड्राइवर ने ब्रेक लगाने की कोशिश की लेकिन ब्रेक नहीं लगे। बस खाई की ओर तेजी से बढ़ने लगी, ऐसे में बस को खाई में गिरने से बचाने के लिए ड्राइवर ने अपनी साइड बस को पहाड़ी की ओर मोड़ दिया। बस पहाड़ी से टकराकर ड्राइविंग साइड की ओर पलट गई। एक्सीडेंट की सूचना पर पुलिस और स्थानीय लोग मौके पर पहुंचे, और पैसेंजर्स को बस से बाहर निकाला। कुछ पैसेंजर्स को मामूली चोटें आईं थीं। लेकिन, ड्राइवर गौरव कुमार गंभीर रूप से घायल हो गया। पुलिस द्वारा उसे महंत इंदिरेश हॉस्पिटल पहुंचाया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

चोटिल पैसेंजर्स की इलाज के बाद छुट्टी
एक्सीडेंट में करीब एक दर्जन पैसेंजर्स को हल्की चोटें आईं, घायल पैसेंजर्स को इंदिरेश हॉस्पिटल पहुंचाया गया, जहां फ‌र्स्ट एड के बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई।

रोडवेज बसों की कंडीशन खराब
रोडवेज की बसों की बदहाली जग जाहिर है। दैनिक जागरण आई नेक्स्ट भी कई बार इस मसले पर खबर प्रकाशित कर चुका है। कई आउटडेटेड बसें रोडवेज डिपो में खड़ी हैं, जिनका ऑक्शन नहीं हो पाया है, इससे रोडवेज और बसों की खरीद भी नहीं कर पा रहा है। संडे को जो एक्सीडेंट का मामला सामने आया है, उसका कारण बस के ब्रेक फेल होना बताया जा रहा है। इससे बसों के मेंटेनेंस पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं।

ड्राइवर के पिता ने दी तहरीर, केस नहीं हुआ दर्ज
ड्राइवर गौरव की मौत के बाद उसके पिता ने रोडवेज पर लापरवाही के आरोप लगाए हैं। वे इस संबंध में तरहीर लेकर रोडवेज के खिलाफ केस दर्ज करवाने क्लेमेंट टाउन थाना पहुंचे। पुलिस ने बताया कि घटनास्थल सहारनपुर के अंतर्गत आता है, ऐसे में केस वहीं दर्ज किया जा सकता है। एसपी सिटी श्वेता चौबे ने बताया कि तकनीकी कारणों से केस दून में दर्ज नहीं किया जा सकता, सहारनपुर पुलिस को एक्सीडेंट की सूचना दे दी गई है।

एक घंटे तक ट्रैफिक रहा बाधित
एक्सीडेंट के चलते दिल्ली हाईवे पर करीब एक घंटे तक ट्रैफिक बाधित रहा। हाईवे पर पलटी बस को हटाए जाने तक वाहन एक ओर से गुजरे ऐसे में जाम की स्थिति बनी रही। करीब एक घंटे बाद पुलिस द्वारा क्रेन के जरिए बस हटवाई गई।

घटना स्थल पर पहुंच बस का मौका मुआयना किया गया। रोडवेज के असिस्टेंट मैनेजर खुद मौके पर गए। बस का टेक्नीकल इंस्पेक्शन भी कराया जाएगा।

केपी सिंह, जीएम, रोडवेज।

बस में करीब 25 पैसेंजर सवार थे, कुछ पैसेंजर्स को मामूली चोटें आईं, लेकिन ड्राइवर गंभीर रूप से घायल था। उसे तत्काल इलाज के लिए हॉस्पिटल भिजवाया गया, देर शाम उसने दम तोड़ दिया। पैसेंजर्स को फ‌र्स्ट एड के बाद छुट्टी दे दी गई।

योगेंद्र गुसांई, इंचार्ज, थाना क्लेमेंट टाउन


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.