सोनपुर में भीषण डकैती दो को मौत के घाट उतारा

2016-03-10T02:12:12Z

-मां-पुत्र को गंभीर रुप से किया जख्मी, मां गंभीर स्थिति में पीएमसीएच रेफर

-ग्रामीणों की सूचना के बावजूद नहीं पहुंची पट्रो¨लग, खिसक गयी घटनास्थल से

-एसपी ने सोनपुर थाना के पेट्रो¨लग इंचार्ज को तत्काल प्रभाव से किया निलंबित

-आक्रोशित लोगों ने सोनपुर-छपरा राष्ट्रीयच्उच्च पथ को नौ घंटे तक रखा जाम

PATNA/ HAZIPUR : सोनपुर थाना क्षेत्र के बाकरपुर में मंगलवार की देर रात डकैतों ने दीनानाथ सिंह के घर में जमकर तांडव मचाया। घर पर धावा बोल न सिर्फ लूटपाट की बल्कि विरोध करने पर दीनानाथ एवं उनकी पुत्रवधू संजू देवी की बेरहमी से पीट-पीटकर व चाकू से गोदकर हत्या कर दी। गृहस्वामी की पत्नी एवं पुत्र की भी हाथ-पैर बांधकर बेरहमी से पिटाई की। सिर पर डंडे से प्रहार कर गंभीर रुप से जख्मी कर दिया।

परिजनों के शोर मचाने पर ग्रामीणों के जुटते ही डकैत भाग निकले। ठीक इसी बीच पुलिस की पेट्रो¨लग भी वहां पहुंची, लेकिन लोगों के बताने पर भी मौके पर जाने का साहस नहीं जुटा सकी। पेट्रो¨लग ग्रामीणों को यह कहकर मौके से खिसक गई कि और फोर्स लेकर आ रहे हैं। इस घटना के विरोध में आक्रोशित ग्रामीणों ने रात्रि लगभग एक बजे नेशनल हाईवे क्9 को जाम कर दिया। घटना की सूचना मिलते ही मौके पर एसपी सत्यवीर सिंह, एसडीओ मदन कुमार, बीडीओ प्रशांत कुमार, सीओ अनुज कुमार, इंस्पेक्टर सह थानाध्यक्ष जयप्रकाश वहां पहुंच गये। कई थानों की पुलिस को भी बुला लिया गया। इसी दौरान लोगों ने बीच सड़क पर दोनों सबको रखकर जिला प्रशासन तथा बिहार सरकार के बीच नारेबाजी शुरू कर दी। उनका कहना था कि घटनास्थल पर मुख्यमंत्री को बुलाया जाए और इस कांड में शामिल डकैतों की अविलंब गिरफ्तारी हो। काफी मान-मनौव्वल के बीच आक्रोशित लोग सड़क पर जमे रहे।

लगभग नौ घंटे तक एनएच जाम रहा। जाम के कारण सड़क की दोनों ओर हजारों गाडि़यो की लंबी कतार लग गई। सुबह लगभग साढ़े नौ बजे एसपी, पंचायत प्रतिनिधियों व राजनीतिक दलों से जुड़े स्थानीय नेताओं के समझाने-बुझाने पर लोग राजी हुए। दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए हाजीपुर भेज दिया गया। एसडीओ मदन कुमार ने बताया कि इस घटना में मृत दीनानाथ सिंह उनकी पुत्रवधू संजू देवी के परिजनों को पारिवारिक लाभ के तहत ख्0-ख्0 हजार रुपए तथा क्भ्00-क्भ्00 रुपए कबीर अंत्येष्टि योजना के तहत तत्काल मुहैया करा दी गई है। बताया कि मृतकों के परिजनों को नौकरी तथा मुआवजा के लिए गृह विभाग को लिखा जा रहा है। इसके लिए सारण के डीएम को वस्तुस्थिति से अवगत कराया गया है। इस बीच एसपी ने पट्रो¨लग इंचार्ज सुरेश सिंह को निलंबित कर दिया है।

गृह स्वामी के घायल पुत्र कन्हैया कुमार ने बताया कि मंगलवार की मध्य रात्रि दर्जन भर से ऊपर डकैत उनके नवनिर्मित घर के पिछले हिस्से से भीतर प्रवेश कर गये। अंदर प्रवेश करते ही डकैतों ने ताबड़तोड़ लाठी-डंडे तथा चाकुओं से घर के सदस्यों पर प्रहार करना शुरू कर दिया। कोई कुछ समझे तब तक घर के लगभग सभी सदस्यों को डकैतों ने मारपीट कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। कन्हैया ने बताया कि उसके दोनों हाथ डकैतों ने बांध दिए। इसी बीच उसका दस वर्षीय पुत्र अभिषेक व नीतेश ने धीरे से उसका हाथ खोल दिया। डकैतों ने उसके गर्दन पर पिस्तौल तानकर बक्से की चाभी मांगी। उसके घर में 80 हजार रुपए थे तथा उसके पॉकेट से लगभग क्क् हजार रुपए निकाल लिया। इस दौरान डकैतों ने घर के सारे बक्से को तोड़ दिया। जो भी डकैतों से बन पड़ा वह सब लेते गये। इसी बीच किसी तरह उसका छोटा बेटा घर से निकलकर शोर मचाना शुरू किया। तब तक डकैतों ने बगल में उसके चाचा के घर पर भी धावा बोल दिया। वहां की महिलाओं ने जब छत पर चढ़कर शोर मचाना शुरू किया तो ग्रामीण मौके पर इकट्ठा हो गये। उन्होंने डाकुओं का पीछा किया लेकिन कोई पकड़ में नहीं आया।

मौके पर मौजूद सारण के एसपी सत्यवीर सिंह ने बताया कि बहुत जल्द इस कांड में शामिल अपराधी सलाखों के पीछे होंगे। घटनास्थल पर डकैतों की एक जोड़ी चप्पल तथा जिस डंडे ने गृहस्वामी पर प्रहार किया, वह डंडा भी बरामद किया गया है। पुलिस ने पटना से स्वान दस्ता को भी बुलाया। स्वान दस्ते की मदद से डकैतों तक पहुंचने की पुलिस कोशिश कर रही है। इस घटना से लोगों में पुलिस की कार्यशैली के प्रति काफी आक्रोश व नाराजगी है। सोनपुर में अगस्त से लेकर अभी तक भीषण डकैती की चौथी घटना है। लगातार हो रही डकैती की घटनाओं से पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़ा हो गया है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.