सीएम योगी ने बढ़ाया आशा कार्यकर्ताओं का 750 रुपये मानदेय

2019-03-02T10:56:26Z

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वास्थ्य सेवाओं में आशा कार्यकर्ताओं के सहयोग की सराहना करते की। इसके साथ ही उनका मानदेय बढ़ाने की घोषणा की।

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वास्थ्य सेवाओं में आशा कार्यकर्ताओं के सहयोग की सराहना करते हुए उनका मानदेय 750 रुपये बढ़ाने की घोषणा की।
उन्होंने कहा कि यह रकम परफॉर्मेंस बेस्ड होगी। शुक्रवार को लोकभवन में मुख्यमंत्री ने लोकभवन में 750 नए हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर (आरोग्य केंद्र) व सौ बिस्तरों के 17 एमसीएच विंग के साथ ही 28 जिलों में टेली-मेडिसिन और 361 सीएचसी में टेली-रेडियोलॉजी सेवा का लोकार्पण किया। उन्होंने 108 सेवा की 712 एंबुलेंस बढ़ाते हुए आरोग्य केंद्रों में कार्यरत एएनएम को टैबलेट वितरित किया, जबकि आयुष्मान योजना से बाहर रह गए गरीब परिवारों को मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान के तहत गोल्डेन कार्ड सौंपे।
लक्ष्य हासिल करने में सफलता पाई
सीएम ने कहा कि 56 महीने में केंद्र सरकार ने और 23 महीने में राज्य सरकार ने लक्ष्य हासिल करने में सफलता पाई है, जिसमें अधिकारियों से लेकर डॉक्टरों और आशा कार्यकर्ताओं तक की भूमिका रही है। उन्होंने अधिक से अधिक लोगों तक बेहतर ढंग से सुविधाएं पहुंचाए जाने और मरीजों से शालीन व्यवहार करने की उम्मीद डॉक्टरों से जताई है। कहा कि प्रदेश के आठ एस्पायरेशनल जिलों में डॉक्टर जाना नहीं चाहते थे लेकिन, टेली मेडिसिन से यह कमी दूर हो जाएगी। इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह, परिवार कल्याण मंत्री प्रो।रीता बहुगुणा जोशी, राज्यमंत्री स्वाती सिंह व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय सहित अन्य मौजूद थे।
दो साल में बदली सूरत
मुख्यमंत्री ने कहा कि दो साल पहले अस्पतालों व मेडिकल कॉलेजों में दवाएं नहीं थीं। इसी वजह से हाईकोर्ट को गंभीर टिप्पणी करनी पड़ी थी लेकिन, अब सब जगह बेहतर सुविधाएं और पर्याप्त दवाएं उपलब्ध हैैं। पहले दवा खरीद के नाम पर खेल होता था, जबकि अब बाजार भाव से आधे दाम पर दवा खरीद कर मरीजों को मुफ्त दी जा रही हैैं। जिला अस्पतालों को भी आधुनिक सुविधाओं से लैस किया जा रहा है। संचारी रोग से मौत के आंकड़ों को न्यूनतम स्तर पर लाने का दावा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि 70 साल में जितना हुआ, उससे ज्यादा हमने दो साल में समर्पित किया।
हर चौराहे पर खड़ी हो एंबुलेंस
102 व 108 सेवा की एंबुलेंस का रिस्पांस टाइम घटाने की हिदायत देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वीआइपी काफिले में दिखने वाली यह एंबुलेंस लोगों के बीच रास्तों और चौराहों पर भी नजर आनी चाहिए, ताकि फोन आते ही तुरंत मरीज तक पहुंच सकें। गैरेज में एंबुलेंस खड़ी न रखने की नसीहत देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे फाइटर जेट एलर्ट होने के बजाय यदि गैरेज में होते तो पाकिस्तान का हवाई हमला नाकाम न कर पाते।
यहां खुलेंगे सौ बेड के एमसीएच विंग
अलीगढ़, बिजनौर, इटावा, गोंडा, मुरादाबाद, रायबरेली, सहारनपुर, अंबेडकरनगर, अमरोहा, बागपत, औरैया, आजमगढ़, बलिया, कन्नौज, महराजगंज, मऊ व कौशांबी।

यहां टेली सेवाएं शुरू

प्रदेश के 28 जिलों के 250 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में टेली-मेडिसिन सेवाओं के पहले चरण की शुरुआत मुख्यमंत्री ने गोरखपुर, हमीरपुर, मीरजापुर व बहराइच के 15 टेली-मेडिसिन केंद्रों के शुभारंभ के साथ की। प्रदेश के 361 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में टेली-रेडियोलॉजी सेवाओं के पहले चरण की शुरुआत लखनऊ, बाराबंकी व सीतापुर के 15 केंद्रों के साथ हुई है।

'महामिलावटी लोग नहीं कर सकते देश का भला : पीएम नरेंद्र मोदी

यूपी में मोस्ट वांटेड बने मुसीबत, आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस ने दो लाख रुपये तक रखे इनाम


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.