आतंकी हिंसा से बचने के लिए उठाने होंगे कदम साध्वी भगवती सरस्वती

2019-06-11T09:11:36Z

जब भी हम कभी अपने खुद के कौशल और दुनिया में प्राप्त शिक्षा को ईश्वर की दी हुई रचनात्मकता पहल और बुद्धिमत्ता के साथ मिलाकर इस्तेमाल करते हैं तो हम बेशक आतंक के खिलाफ कुछ सकारात्मक तौर पर कर पाने में सक्षम हो पाते हैं।

आक्रामकता और आतंकवाद को लेकर ईश्वर हमसे कैसे बर्ताव की अपेक्षा करते हैं।
ईश्वर ने हमें बनाया और उसके बाद हमें दया जैसी भावना दी, जिसके माध्यम से हम दूसरों के दर्द को कुछ ऐसे महसूस करते हैं जैसे कि वो अपना ही हो। इसके अलावा ईश्वर ने हमें रचनात्मकता, पहल करने की क्षमता और बुद्धिमत्ता जैसे गुणों से भी नवाजा है। इन सभीगुणों को ध्यान में रखते हुए एक बात तो साफ हो जाती है कि वही ईश्वर हमसे ये भी चाहता है कि हम सब उसके द्वारा दिए गए इन सभी उपहारों का सही और उचित इस्तेमाल भी करें। जब भी हम कभी अपने खुद के कौशल और दुनिया में प्राप्त शिक्षा को ईश्वर की दी हुई रचनात्मकता, पहल और बुद्धिमत्ता के साथ मिलाकर इस्तेमाल करते हैं तो हम बेशक आतंक के खिलाफ कुछ सकारात्मक तौर पर कर पाने में सक्षम हो पाते हैं।


मस्तिष्क को रखना होगा चिंताओं से परे, तभी शरीर में रहकर मिलेगा मोक्ष: साध्वी भगवती सरस्वती

मोक्ष का असली अर्थ शरीर से मुक्ति नहीं: साध्वी भगवती सरस्वती
इसके इतर इस बात को भी हमें बहुत अच्छे से जानना होगा कि दूसरों को बांटने और हिंसा का हल सिर्फ एकता और शांति ही है। हम में से हर किसी के पास अलग-अलग तरह के अवसर, स्रोत और क्षमताएं होती हैं। इनका इस्तेमाल कर हम लोगों को एकता और शांति के असल मायने समझा सकते हैं। लेकिन आतंक के नाम पर हो रही हिंसा का हल सिर्फ इतने से ही नहीं निकलेगा, बल्कि इसको रोकने के लिए हमें ईश्वर प्रदत्त गुणों के साथ अपनी प्रतिभा, दुनिया से मिले तकनीकी ज्ञान और तप तीनों का उचित इस्तेमाल करके हर वो संभव प्रयास करने होंगे जो हम कर सकें।



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.