सुरक्षा के लिए खुद कर रहे जतन

2019-01-18T06:00:09Z

-संतों ने अपनी बेहतर सिक्योरिटी के लिए उठाया कदम

-शिविर में चारों तरफ फैला रखा सीसीटीवी का मायाजाल

prakashmani.tripathi@inext.co.in

PRAYAGRAJ: कुंभ मेला की सुरक्षा के लिए सरकारी तंत्र की ओर से करोड़ों रुपए खर्च किए जाने की बात कही जा रही है। लेकिन स्थिति ऐसी है कि मेला क्षेत्र में शिविर बनाकर रहने वाले संतों ने अपनी सुरक्षा की जिम्मेदारी खुद उठा रखी है। इसका नजारा मेला क्षेत्र में स्थित संतों के शिविर में प्रवेश करते ही दिखाई देने लगता है। मेला में अन्न क्षेत्र चलाने वाले संत जगदगुरु राम सुभगदास बिनैका बाबा के शिविर में सुरक्षा के लिए करीब दो लाख रुपए से अधिक का खर्च किया गया है। यह कदम चोरी या अन्य अपराधिक वारदातों को रोकने के लिए उठाया गया है।

32 कैमरों से शिविर की सुरक्षा

इस बारे में जगदगुरु राम सुभगदास बिनैका बाबा कहते हैं कि मेला क्षेत्र में हर तरहके लोग हैं ऐसे में स्वयं की सुरक्षा के लिए किसी के भरोसे रहने से अच्छा है कि अपनी सुरक्षा स्वयं कर ली जाए। बिनैका बाबा के शिविर में सुरक्षा के लिए कुल 32 कैमरों का मायाजाल तैयार कराया गया है। इसमें कई नाइट विजन कैमरे भी हैं, जिससे रात में भी शिविर की निगरानी हो रही है। विभिन्न हलचलों पर नजर रखने के लिए शिविर में कंट्रोल रूम भी तैयार कराया गया है। गौरतलब है कि शिविर में लगातार एक माह तक अन्न क्षेत्र चलाया जाता है। जहां सन्यासियों के साथ ही श्रद्धालुओं को भी भोजन के प्रसाद ग्रहण करने की व्यवस्था की गई है।

ऐसा है इंतजाम

-शिविर के प्रवेश द्वारा से लेकर सभी प्रमुख स्थानों को सीसीटीवी कैमरे लगाए गए है।

-कंट्रोल रूम में 24 घंटे एक व्यक्ति की तैनाती की गई है।

-इनमें 16 कैमरे दिन में वर्क करते हैं, जबकि 16 नाइट विजन कैमरे हैं।

-इन कैमरों को विशेष रूप से विदेश से मंगाया गया है।

-इनकी विशेषता है कि ये रौशनी नहीं रहने पर भी वर्क करते हैं और सभी चीजों पर बराबर फोकस करते हैं।

-जगदगुरु रामसुभग दास बिनैका बाबा स्वयं भी बीच-बीच में कैमरों की निगरानी करते हैं।

वर्जन

मेला क्षेत्र में हर तरहके लोग हैं ऐसे में स्वयं की सुरक्षा के लिए किसी के भरोसे रहने से अच्छा है कि अपनी सुरक्षा स्वयं कर ली जाए।

जगदगुरु राम सुभगदास बिनैका बाबा

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.