राजकीय सम्‍मान के साथ सरबजीत का अंतिम संस्‍कार

2013-05-03T19:06:36Z

भारतीय कैदी सरबजीत सिंह का शुक्रवार को उनके गांव भिखीविंड में पूरे राजकीय सम्‍मान के साथ अंतिम संस्‍कार कर दिया गया सिंह की पाकिस्‍तानी जेल में हुए हमले के बाद गुरुवार को इलाज के दौरान मौत हो गई थी लाहौर के जिन्‍ना हॉस्‍पिटल में आखिरी सांस लेने वाले सिंह को पंजाब पुलिस ने सलामी दी

पत्नी सुखप्रीत कौर और बेटियों स्वप्नदीप व पूनम की मौजूदगी में सरबजीत की बहन दलबीर कौर ने उनकी चिता को मुखाग्नि दी. उनके साथ शिरोमणि अकाली दल के एमएलए विरसा सिंह वलटोहा भी थे.

इस मौके पर कांग्रेस के वाइस प्रेसीडेंट राहुल गांधी समेत हजारों की संख्या में गांववाले और वीआईपी मौजूद थे. सरबजीत 23 साल पहले गलती से बार्डर पारकर पाकिस्तान पहुंच गया था. उनकी अंतिम यात्रा दोपहर 1.15 बजे शुरू हुई. तिरंगे में लिपटे ताबूत को अंतिम दर्शनों के लिए गवर्नमेंट स्कूल ग्राउंड में रखा गया था. 

पंजाब के चीफ मिनिस्टर प्रकाश सिंह बादल और केन्द्रीय विदेश राज्य मंत्री प्रणीत कौर भी इस मौक पर मौजूद थीं. पंजाब सरकार पहले ही तीन दिन के राजकीय शोक, सरबजीत की फैमिली को फाइनेंशियल हेल्प और बेटियों के लिए सरकारी नौकरी की घोषणा कर चुकी है.

पंजाब के डिप्टी सीएम सुखबीर बादल, स्टेट कांग्रेस चीफ प्रताप सिंह बाजवा, नेशनल एससी कमीशन के वाइस चेयरमैन राज कुमार वेरका, पंजाब बीजेपी प्रेसीडेंट कमल शर्मा के अलावा विभिन्न संगठनों व राजनीतिक दलों के पदाधिकारी भी मौजूद थे.

लोग पाकिस्तान मुर्दाबाद और सरबजीत अमर रहे के नारे लगा रहे थे. सिक्योरिटी के कड़े इंतजाम किए गए थे. अमृतसर से 36 किमी दूर बसे 11 हजार की आबादी वाले गांव में गुरुवार को सरबजीत की मौत की खबर आते ही सन्नाटा छा गया.भारतीय कैदी सरबजीत सिंह का शुक्रवार को उनके गांव भिखीविंड में पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया. सिंह की पाकिस्तानी जेल में हुए हमले के बाद गुरुवार को इलाज के दौरान मौत हो गई थी. 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.